तीन साल बाद इस्लामिक स्टेट की 'राजधानी' रक़्क़ा मुक्त

  • 17 अक्तूबर 2017
इमेज कॉपीरइट AFP

इस्लामिक स्टेट की एक समय राजधानी कहलाने वाले रक़्क़ा पर अमरीका समर्थित सीरियाई कुर्द और अरब लड़ाकों ने कब्ज़ा कर लिया है.

सीरियन डेमोक्रेटिक फ़ोर्सेस (एसडीएफ़) के प्रवक्ता तलाल सेलो ने कहा कि पांच महीने तक चली लड़ाई का अंत हो गया है.

उन्होंने कहा 'स्लीपर सेल या किसी भी तरह बच गए जिहादियों के लिए तलाशी अभियान चलाया जा रहा है.'

इस शहर पर आईएस का तीन साल से कब्ज़ा था. इस जीत की जल्द ही आधिकारिक घोषणा की जाएगी.

इससे पहले मंगलवार को एसडीएफ़ ने रक्का में इस्लामिक स्टेट के दो महत्वपूर्ण ठिकानों- म्युनिसिपल स्टेडियम और नेशनल हॉस्पीटल को आईएस के कब्ज़े से मुक्त कराया.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़, कुर्द फ़ौज के दबदबे वाले एसडीएफ़ के लड़ाकों ने स्टेडियम में पॉपुलर प्रोटेक्शन यूनिट का झंडा लहराकर जीत का जश्न मनाया.

आईएसआईएस से टक्कर ले

महिलाएं जो ले रही हैं आईएस से लोहा

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption एसडीएफ़ की महिला फ़ाइटर

'संघर्ष समाप्त'

माना जा रहा था कि स्टेडियम में दर्जनों विदेशी चरमपंथी छिपे हुए थे. जबकि अस्पताल में 22 चरमपंथी मारे गए.

एक अनुमान के मुताबिक़, रविवार को सीरियाई जिहादियों और उनके परिजनों को सुरक्षित बाहर निकालने के समझौते के बाद भी 300 चरमपंथी नहीं गए थे.

समाचार एजेंसी एएफ़पी को मंगलवार को सेलो ने बताया, "रक्का में अब सारा संघर्ष समाप्त हो गया है, हमारे सुरक्षा बलों ने पूरी तरह नियंत्रण हासिल कर लिया है."

रक्का पर इस्लामिक स्टेट ने 2014 में कब्ज़ा किया था. तब आईएस के कब्ज़े में जाने वाली ये सीरिया की पहली प्रांतीय राजधानी थी और इसे उन्होंने अपनी 'राजधानी' बनाया था.

पिछले नवंबर में एसडीएफ़ के 15,000 लड़ाकों ने अमरीका के नेतृत्व वाले गठबंधन के हवाई हमलों के सहारे रक्का पर कब्ज़े के लिए लड़ाई शुरू की थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे