'अयोध्या की शोभायात्रा में सबसे आगे थे मुसलमान भाई'

  • 19 अक्तूबर 2017
इमेज कॉपीरइट CMOfficeUP

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबित उत्तर प्रदेश के अयोध्या में दिवाली के मौके पर निकाली गई शोभायात्रा में सबसे आग पांच मुसलमान भाई चल रहे थे. इन्होंने भगवान राम की सेना के वानरों का रूप धर रखा था.

पांच किलोमीटर की शोभायात्रा के दौरान लोगों ने इन पांचों भाइयों पर पुष्पवर्षा की और उनके पांव छूकर आशीर्वाद लिया. इन पांचों भाइयों में से एक फरीद ने अख़बार को बताया कि उनका परिवार कई पीढ़ियों से रामलीला का हिस्सा रहा है लेकिन उन्हें अयोध्या पहली बार बुलाया गया है.

विधायकों के सम्मान में खड़े हों अफ़सर

उत्तर प्रदेश में अधिकारियों को जनप्रतिनिधियों के सम्मान में खड़े होने के लिए निर्देश दिए गए हैं. अमर उजाला की एक रिपोर्ट के मुताबिक मुख्य सचिव की ओर से जारी निर्देशों में सभी अधिकारियों से कहा गया है कि जब कोई विधायक या सांसद उनसे मिलने आएं तो खड़े होकर उनका स्वागत करें और जाने पर उन्हें खड़े होकर ही विदा करें.

अधिकारियों को ये भी बताया गया है कि राज्य में मुख्य सचिव, डीजीपी और रेवेन्यू बोर्ड के अध्यक्ष भी ओहदे में विधायकों से नीचे हैं. अफ़सरों को सरकारी ख़र्च पर होने वाले कार्यक्रमों में मुख्य अतिथि न बनने के निर्दश भी दिए गए हैं.

सरकार के कैलेंडर में ताज

मुग़लकालीन विश्व धरोहर इमारत ताजमहल को लेकर विवाद बढ़ते विवाद के बीच उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने कैलेंडर में ताजमहल को जगह दी है. प्रदेश सरकार की ओर से 2018 के लिए जारी कैलेंडर में जुलाई महीने में ताजमहल की तस्वीर प्रकाशित की गई है.

इस कैलेंडर में गोरखनाथ मंदिर को भी जगह दी गई है. अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक इस कैलेंडर के हर पेज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तस्वीर भी है. दूसरी ओर पूर्व मंत्री आज़म ख़ान ने कहा है कि जिस तरह बाबरी मस्जिद को गिरा दिया गया था उसी तरह ताजमहल को गिराने के लिए माहौल बनाया जा रहा है.

आठ महीने से नहीं मिला था राशन

इमेज कॉपीरइट DHIRAJ

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक झारखंड के सिमडोगा ज़िले में कथित तौर पर भूख से मरी 11 साल की बच्ची के परिवार को 8 महीने से राशन नहीं मिल पा रहा था.

इसी साल अप्रैल में झारखंड के मुख्य सचिव ने आधार से न जुड़े राशन कार्डों को रद्द करने का आदेश दिया था. अख़बार से बात करते हुए मृत लड़की की मां कोयली देवी ने एक बार फिर कहा है कि उनकी बेटी की मौत भूख की वजह से ही हुई थी.

इस्तेमाल हो रहे हैं प्रतिबंधित कीटनाशक

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर में प्रतिबंधित किए गए सात ख़तरनाक कीटनाशकों का इस्तेमाल भारत में किया जा रहा है. महाराष्ट्र के यवतमाल में तीस से अधिक किसानों की मौत कीटनाशकों की चपेट में आने से हो गई है.

किसानों की मौत की ख़बरें आने के बाद कीटनाशकों के इस्तेमाल पर सवाल खड़े हो रहे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक भारत सरकार ने साल 2015 में इन कीटनाशकों के इस्तेमाल की समीक्षा की थी लेकिन इन पर प्रतिबंध नहीं लगाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए