उर्दू रामायणः रंजो हसरत की घटा सीता के दिल पर छा गई....

  • 20 अक्तूबर 2017
रामायण इमेज कॉपीरइट Getty Images

राजस्थान के बीकानेर में दीपावली पर उर्दू में रामायण का पाठ किया जाता है. इसमें छंद की जगह शेरो-शायरी में रामायण के प्रमुख प्रसंगों का बखान किया जाता है.

1935 में मौलवी बादशाह हुसैन राणा लखनवी ने जब उर्दू ज़बान में रामायण पेश किया तो उनकी बड़ी तारीफ़ हुई. अब हर साल बीकानेर में पर्यटन लेखक संघ और महफ़िल-ए-अदब की ओर से इसके वाचन और पाठ का आयोजन किया जाता है.

मौलवी के हाथों लिखी नौ पन्नों की छोटी सी रामायण में वनवास की तस्वीर प्रस्तुत की गई है.

रामायण पर क्यों नहीं लिख सकता मुसलमान

रामायण परीक्षा में अव्वल फ़ातिमा ने क्या कुछ सीखा?

उर्दू रामायण में राम के वनवास का कुछ यूँ बखान किया गया है-

"किस क़दर पुरलुत्फ़ है अंदाज तुलसीदास का, ये नमूना है गुसाई के लतीफ़ अंदाज़ का

नक्शा रामायण में किस खूबी से खींचा, राम के चौदह साल वनवास का

ताज़पोशी की ख़ुशी में एक क़यामत हो गई, कैकेई को राम से अदावत हो गई

सुबह होते-होते घर-घर इसका चर्चा हो गया, जिसने किस्सा सुना उसको अचम्भा हो गया!"

इमेज कॉपीरइट qadari

इस आयोजन से जुड़े बीकानेर के डॉ. जिया उल हसन क़ादरी इस रामायण की खूबी का बखान करते हुए कहते हैं, "इस रामायण को आप 25 मिनट में पढ़ सकते हैं, इसमें राम के अभिषेक का विवरण है.''

उन्होंने कहा, ''साथ ही इसमें राम के वनवास से लेकर जंगल में उनके दुश्वार जीवन और रावण से लड़ाई के वृतांत को प्रभावशाली ढंग से पेश किया गया है."

क़ादरी कहते हैं, "इसकी भाषा बहुत सरल है और कोई अनपढ़ आदमी भी इसे समझ सकता है."

बीकानेर के शायर असद अली असद कहते हैं, "उस दौर में भी राणा लखनवी की लिखी इस रामायण को बहुत मान मिला और बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में इसे सराहा गया."

इमेज कॉपीरइट qadari
Image caption उर्दू में रामायण का वाचन

असद कहते हैं, "ये उर्दू में लिखी रामायण अब और भी ज़्यादा प्रासंगिक है. आप सोचिए एक मौलवी ने सालों पहले ये रामायण लिखी और आज भी उसका वाचन कोई इस्लाम का अक़ीदतमंद करता है. यह हमारी गंगा जमुनी तहजीब की गवाही देता है. उर्दू रामायण में राम वनवास की घड़ी पर सीता के मनोभाव को बहुत मार्मिक ढंग से पेश किया गया है. रंजो हसरत की घटा सीता के दिल पर छा गई,गोया जूही की कली ओस से मुरझा गई."

हर साल जब दीपावली के मौके पर इसका आयोजन किया जाता है, तो सभी धर्मों के लोग एक साथ बैठते हैं और रामायण सुनते हैं.

ये वो लम्हा होता है जब मजहब और जाति बिरादरी के फासले मिट जाते हैं, क्योंकि कोई नहीं कहता खुदा बड़ा है या ईश्वर.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे