बिहार: 'खैनी मांगने गए थे, पंचायत ने थूक चटवाया'

  • 21 अक्तूबर 2017
नालंदा इमेज कॉपीरइट JITENDRA
Image caption महेश ठाकुर

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह ज़िले नालंदा से एक अमानवीय घटना सामने आई है.

यहां एक शख़्स को कुछ लोगों ने कथित तौर पर इसलिए थूक चटवाया क्योंकि वह बिना दरवाज़ा खटखटाए एक गांव वाले की गोशाला में चले गए थे. इसे जातीय भेदभाव का मामला माना जा रहा है.

मामला नूरसराय प्रखंड के अजयपुर पंचायत के अजनौरा गांव का है. यहां अतिपिछड़ा जाति से संबंध रखने वाले महेश ठाकुर के साथ ऐसा किया गया. आरोप है कि वह गांव के सुरेंद्र यादव की गोशाला में बिना दरवाज़ा खटखटाए अंदर गए थे.

जिलाधिकारी डॉ. त्यागराजन एस एम ने बताया, "घटना की जानकारी मिलते ही अनुमंडल पदाधिकारी को जांच के आदेश दिए गए थे. शुक्रवार सुबह तक सामने आए तथ्यों के आधार पर एफआईआर दर्ज की गई है."

जिला पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार पोरीका ने बीबीसी को बताया कि मामले में नूरसराय थाने में आठ लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है.

इमेज कॉपीरइट JITENDRA
Image caption जिलाधिकारी त्यागराजन एस एम

'मैं खैनी मांगने गया था'

उन्होंने बीबीसी को बताया, "घटना के बाद धर्मेंद्र यादव नाम के व्यक्ति के घर पंचायत बुलाई गई थी, जिसमें स्थानीय मुखिया दयानंद मांझी भी थे. सबने मिलकर महेश ठाकुर को ये सज़ा दी थी."

महेश ठाकुर ने घटना का जिक्र करते हुए बताया, "मैं सुबह शौच करने जा रहा था. खैनी नहीं थी तो पास में रहने वाले सुरेंद्र यादव के यहां खैनी मांगने चला गया. वो वहां नहीं थे, उनकी पत्नी घर पर थीं."

"उनकी पत्नी ने बताया कि वो घर पर नहीं हैं, फिर मैं वापस चला गया और जब शौच से लौटा तो मेरे साथ ऐसा किया गया."

इमेज कॉपीरइट JITENDRA
Image caption पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार पोरीका

वीडियो वायरल

घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें महेश ठाकुर को कुछ लोग गलती मानने की बात कहकर जमीन पर थूककर उसे पांच बार चाटने को कह रहे हैं.

महेश ठाकुर को वहां उपस्थित महिलाएं चप्पल से पीटती भी नजर आ रही हैं..

महेश ठाकुर ने बताया, "उन लोगों ने मुझे गांव से बेदखल करने की भी धमकी दी. मैं भयभीत हूं. मेरी जान को ख़तरा है."

इमेज कॉपीरइट JITENDRA

'बेटी की शादी में होगी परेशानी'

घटना के बाद महेश काफी आहत हैं. उन्होंने कहा कि उनके साथ मारपीट का वीडियो बनाया गया और उसे वायरल किया गया.

उनका कहना है कि इस घटना से उनकी काफी अपमान हुआ है, जिससे उन्हें अपनी बेटी की शादी करने में परेशानी होगी.

पुलिस अधीक्षक पोरीका ने बताया कि एफआईआर में धर्मेंद्र यादव, रामवृक्ष महतो, अरुण महतो, नरेंद्र यादव, राम रूप यादव, दयानंद मांझी, संजय यादव और राजेंद्र पंडित नामजद हैं.

जिलाधिकारी त्यागराजन ने बताया कि मामला गंभीर है. मामले के दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे