अंतरधार्मिक शादी का हर मामला लव जिहाद नहीं: कोर्ट

  • 22 अक्तूबर 2017
लव जिहाद इमेज कॉपीरइट SAM PANTHAKY/AFP/Getty Images

केरल हाईकोर्ट के लव जिहाद पर नए फ़ैसले से उस क़ानून को और बल मिल गया है जिसमें 18 साल से ज़्यादा उम्र के लोगों को अपनी पसंद से शादी करने की आज़ादी होती है..

साथ ही कोर्ट ने कहा है कि ऐसी शादियां देशहित में होती हैं. वी चिदंबरेश और सतीश निनान की न्यायिक खंडपीठ ने अपने फैसले में कहा कि सभी अंतरधार्मिक विवाह लव जिहाद की श्रेणी में नहीं आते.

एक वकील ने इस फ़ैसले को वक्त की मांग बताते हुए कहा, "इन मामलों को केरल हाईकोर्ट की ही अलग-अलग बेंच में अलग-अलग तरह से निपटाया गया है."

पिछले साल अदालत की कम से कम तीन बेंचों के सामने लव ज़िहाद का मामला उठा था, जिसमें से एक मामले में सुप्रीम कोर्ट ने पूछा था कि अदालत किस तरह दो वयस्क लोगों की शादी ख़त्म कर सकती है.

...फिर तो हर शादी लव जिहाद है

अदालत में फंसा एक हिंदू-मुस्लिम विवाह

श्रुति और अनीस की प्रेमकहानी

इमेज कॉपीरइट INDRANIL MUKHERJEE/AFP/Getty Images

चेन्नई में वकालत करने वाली गीता रामाशेषन ने बीबीसी हिंदी को बताया, "कोर्ट का यह निर्णय बेहद अहम है, इससे वयस्क अपनी पसंद से शादी करने के अधिकार का उपयोग कर सकेंगे."

जिस मामले में कोर्ट की बेंच ने यह फैसला सुनाया वह श्रुति मेलेदाथ और अनीस हमीद से जुड़ा है. श्रुति और अनीस एक दूसरे से प्यार करते हैं. जब श्रुति ने अनीस के साथ शादी करने की बात अपने घर में बताई तो उनके पिता ने अनीस के मजहब की वजह से इनकार कर दिया.

मई 2017 में श्रुति और अनीस केरल से भागकर हरियाणा के सोनीपत पहुंच गए. उनकी गुमशुदगी कि रिपोर्ट के आधार पर केरल पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया.

'अच्छे दिन की गाजर अगले चुनाव बाद मिलेगी'

‘बालिग बेटी पर पिता का नियंत्रण नहीं’

'योग केंद्र में श्रुति को दी गई यातनाएं'

श्रुति के परिजनों ने उन्हें एरनाकुलम के उडायमपेरूर स्थित एक योग केंद्र में भर्ती करवा दिया, ताकि वह दोबारा धर्मपरिवर्तन कर हिंदू बन सके. लेकिन श्रुति ने अपना धर्म परिवर्तन करवाया ही नहीं था.

श्रुति ने कोर्ट में बताया कि योग केंद्र में उसे यातनाएं दी जाती थीं. वहां उसके जैसे कम से कम 40 लोग और थे.

कोर्ट को दिए अपने बयान में श्रुति ने कहा, "योग केंद्र के अधिकारियों की बात न मानने पर थप्पड़ और पेट पर लात मारी जाती थी. जब मैंने अनीस के साथ जाने की इच्छा ज़ाहिर की तो मेरे मुंह पर कपड़ा ठूंसकर मुझे चुप करवाया गया."

'बंद हों धर्म बदलवाने वाले केंद्र'

इमेज कॉपीरइट highcourtofkerala.nic.in

अनीस के वकील, आर सुरेंद्रन ने बताया, "जबरदस्ती श्रुति का प्रेग्नेंसी टेस्ट भी करवाया गया, अगर वह पॉज़िटिव निकलता तो शायद वो उसका अबॉर्शन करवा देते."

कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर योग केंद्र में छापा मारा और वहां के अधिकारियों को हिरासत में लिया. इसके साथ ही यह बात भी सामने आई कि केरल में धर्मपरिवर्तन और पुनःधर्मपरिवर्तन केंद्र चल रहे हैं और इस काम में कई कट्टर संगठन शामिल हैं.

कोर्ट ने केरल पुलिस को यह आदेश भी दिया कि "राज्य में ज़बरदस्ती धर्म परिवर्तन और पुनः धर्मपरिवर्तन करवाने वाले केंद्रों को बंद किया जाए, चाहे वह किसी भी धर्म से जुड़े क्यों न हों. संविधान देश के सब नागरिकों को अपनी इच्छा से धर्म का चुनाव करने का अधिकार देता है."

कोर्ट की बेंच ने कहा, "हर अंतरधार्मिक विवाह को ज़बरदस्ती धार्मिक रंग देना उचित नहीं है. यह मामला पूरी तरह से प्रेम से जुड़ा हुआ था. यहां जिहाद जैसा कुछ भी नहीं था."

यहां तक कि इस मामले में श्रुति और अनीस अपने-अपने धर्म के साथ ही रहना चाहते थे.

हापुड़ में उन्मादी भीड़ से कैसे बचा हिंदू-मुस्लिम जोड़ा

क्या कश्मीर के लद्दाख़ में हो रहा है 'लव जिहाद'?

कोर्ट ने कविता के साथ पढ़ा आदेश

इमेज कॉपीरइट SAM PANTHAKY/AFP/Getty Images

अदालत ने सुप्रीम कोर्ट के उस वक्तव्य को भी दोहराया जिसमें उन्होंने लता सिंह और उत्तर प्रदेश सरकार मामले में अंतरजातीय विवाह को देशहित में बताया था.

सरकारी वकील सुमन चक्रवर्ती ने कहा, "न्यायिक खंडपीठ का यह फैसला इस वक़्त की मांग है, कृपया हर शादी को बेवजह की सनसनी न बनाएं."

कोर्ट ने अपने आदेश की शुरुआत अमरीकी कवि माया एंजेलो की कविता की पंक्तियों से की, जो इस तरह हैं,

"प्रेम किसी प्रकार की बंदिशों को नहीं मानता,

वह सभी मुश्किलों को फांदकर,

बंदिशों से छलांग लगाकर, दीवारों को तोड़कर,

उम्मीदों की अपनी मंजिल तक ज़रूर पहुंचता है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे