जब फ़ैमिली वॉट्सऐप ग्रुप पर आएं 'सेक्सिस्ट' चुटकुले

  • 26 अक्तूबर 2017
चुटकुले, महिलाएं, वॉट्सऐप, इंटरनेट, पुरुष, रेप, कॉमेडी इमेज कॉपीरइट Getty Images

''मेरी बीवी मेरे सारे पैसे शॉपिंग में उड़ा देती है. वो सेक्स न करने के लिए सिरदर्द का बहाना बनाती है. वो मुझे पीटती भी है. शादी के बाद तो मेरी ज़िंदगी तबाह हो गई.''

अक्सर ऐसे ही होते हैं भारतीय चुटकुलों में पाए जाने वाले पति. बेचारे, शादी के मारे, बीवियों से त्रस्त. दूसरी तरफ़ बीवियां हैं, जिनका दिमाग सिर्फ़ शॉपिंग और मेकअप में चलता है.

सिर्फ पति-पत्नी ही नहीं, इसी तरह के चुटकुले लड़कों और लड़कियों को लेकर भी बनाए जाते हैं.

कुछ ऐसे ही चुटकुले उन वॉट्सऐप ग्रुप्स में आते हैं जिनमें हमारे दोस्तों से लेकर परिवार तक के लोग शामिल होते हैं. मुंबई की नमा ने ऐसे ही चुटकुलों से तंग आकर अपना फ़ैमिली वॉट्सऐप ग्रुप छोड़ दिया.

उन्होंने कहा कि ग्रुप में आने वाले मैसेज में फ़ेक न्यूज़ से लेकर सेक्सिस्ट यानी औरतों को कमतर दिखाने वाले चुटकुले होते हैं और वो इनका हिस्सा नहीं बन सकतीं.

इमेज कॉपीरइट Twiiter?Namaah

नमा ने बीबीसी को बताया,'' हमारे फ़ैमिली ग्रुप में नाना से लेकर मामा-मामी और मम्मी-पापा, सभी लोग थे. यहां गुडमॉर्निंग और हैप्पी दिवाली वाले मैसेज आते थे. चुटकुले भी आते थे. लोग हंसते थे और फिर वो चुटकुले दूसरे ग्रुप में फ़ॉरवर्ड होते थे.''

वैसे तो नमा ग्रुप में ज़्यादा ऐक्टिव नहीं रहती थीं और बातों को अनदेखा कर देती थीं लेकिन एक दिन ऐसा मैसेज आया जिसने उन्हें बोलने पर मजबूर कर दिया.

वो क्या था जिसने उन्हें इतना नाराज़ किया?

नमा ने बताया,''एक छोटे बच्चे की तस्वीर थी जो स्कूल के फ़ैंसी ड्रेस में हिस्सा लेने के लिए तैयार किया गया था. बच्चे के चेहरे पर चोट के निशान थे, सिर पर एक पट्टी बंधी थी और हाथों में एक प्लेकार्ड था. जिस पर लिखा था, ''आज मैंने अपनी पत्नी के साथ झगड़ा किया.''

बस में लड़की से कोई सटकर खड़ा हो जाए तो..

इस पर उन्होंने बीबीसी से बातचीत में कहा,''पहले तो मैं इसे चुटकुला ही नहीं मानती. ऐसा लगता है कि फ़ोटो के जरिए ये संदेश दिया जा रहा है कि बीवियां अपने पतियों को मारती हैं और ये नॉर्मल है.''

नमा को इस तस्वीर में कुछ भी हंसने लायक नहीं लगा.

इमेज कॉपीरइट Twitter/Namaah
Image caption नमा

उन्होंने ग्रुप में एक मैसेज किया कि उन्हें इस तरह के चुटकुलों से आपत्ति है, वो इसका हिस्सा नहीं बन सकती और उन्होंने ग्रुप छोड़ दिया.

वॉट्सऐप ग्रुप्स में इस तरह के चुटकुले शेयर होना आम है. किसी को परेशानी हो भी तो परिवार का ग्रुप होने की वजह से इसे नज़रअंदाज़ कर दिया जाता है. इस मायने में नमा का विरोध अनूठा है.

पिछले ढाई साल से स्टैंड अप कॉ़मेडी कर रही पूजा विजय के मुताबिक आम तौर पर ऐसा विरोध करनेवाली लड़कियों के लिए कहा जाता है कि उनका 'सेंस ऑफ ह्यूमर' अच्छा नहीं होता.

वो कहती हैं, "अगर किसी को मर्दों को बेचारा और औरतों को बेवकूफ़ बनाकर पेश करनेवाले घिसे-पिटे चुटकुलों पर हंसी नहीं आती तो इसका मतलब ये नहीं कि उसका सेंस ऑफ़ ह्यूमर ख़राब है. उन पर सवाल उठाने के बजाय कुछ नया ट्राई कीजिए."

वो मानती हैं कि उनके पेशे में कॉमेडियन भी अक़्सर ऐसे घिसे-पिटे चुटकुलों को दुहराते हैं.

इमेज कॉपीरइट Facebook/Pooja Vijay
Image caption पूजा विजय

उदाहरण के तौर पर वॉट्सऐप पर भेजा गया एक और चुटकुला देखिए.

''एक चार्जिंग बोर्ड है जिसमें कई सारे प्लग लगे हुए हैं. तस्वीर पर लिखा है - गैंगरेप".

स्टैंडअप कॉमेडियन संदीप शर्मा के मुताबिक इसे चुटकुला कहना ग़लत होगा. उनके मुताबिक, "जिसने भी ऐसा सोचा होगा, वो बहुत ही घिनौनी सोच वाला इंसान है."

लेकिन लोगों को ऐसी बातों पर हंसी क्यों आती है?

इमेज कॉपीरइट Facebook/Sundeep Sharma

संदीप के मुताबिक आम सोच में इसे मज़ाक समझ कर टाल दिया जाता है. पर उनके अनुसार चुटकुलों को भी गंभीरता से लेना चाहिए.

संदीप कहते हैं, "चुटकुले सिर्फ हंसाते नहीं हैं बल्कि मैसेज भी देते हैं. अगर हम रेप और छेड़खानी जैसे मुद्दों पर चुटकुले बनाएंगे तो ये इन्हें नॉर्मलाइज़ करने जैसा होगा.''

नमा को भी यही परेशानी थी. पर विरोध का नतीजा क्या निकला?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

नमा की छोटी बहन ने उन्हें बताया कि उनके ग्रुप छोड़ने के बाद एकदम से सन्नाटा छा गया.

कुछ देर के बाद उनके नाना का मैसेज आया. उनका कहना था कि ग्रुप में कभी ग़लत तरीके की बात हुई ही नहीं.

वो नमा की नाराज़गी की वजह नहीं समझ पा रहे थे.

'महिलाओं का मज़ाक बनाकर पैसे कमाती हैं फ़िल्में'

काली-मोटी लड़की को लेकर दुनिया इतनी ज़ालिम क्यों?

फिर नमा ने अपना वॉट्सऐप मैसेज ट्विटर पर भी पोस्ट किया. वहां पर ग्रुप से अलग प्रतिक्रिया आई.

सैकड़ों लोगों ने उनसे सहमति जताई और उनके कदम को सराहा.

एक यूज़र ने कहा,''ग्रुप में इस तरह के आपत्तिजनक संदेशों को चुपचाप देखने से अच्छा है कि आप वहां से हट जाएं. मैंने भी ऐसा ही किया.''

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे