विनोद वर्मा को छत्तीसगढ़ ले जा रही है पुलिस

  • 27 अक्तूबर 2017
विनोद वर्मा इमेज कॉपीरइट Vinod Verma, Facebook

आपराधिक धमकी और ब्लैकमेलिंग के मामले में ग़ाज़ियाबाद की सीजेएम कोर्ट ने छत्तीसगढ़ पुलिस को वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा को छत्तीसगढ़ ले जाने के लिए ट्रांजिट रिमांड दे दी है.

इससे पहले, विनोद वर्मा ने कहा था कि उनके पास छत्तीसगढ़ के एक मंत्री की सेक्स सीडी है और यही कारण है कि उन्हें फंसाया जा रहा है.

छत्तीसगढ़ पुलिस ने विनोद वर्मा को शुक्रवार तड़के उनके इंदिरापुरम स्थित घर से गिरफ़्तार किया था और ग़ाज़ियाबाद के सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया था.

ट्रांजिट रिमांड के लिए कोर्ट ले जाते हुए संवाददाताओं से बातचीत में विनोद वर्मा ने कहा, "मेरे पास एक मंत्री की सेक्स सीडी है. इसी कारण मुझे निशाना बनाया जा रहा है."

हालांकि बाद में सीडी से संबंधित सवाल पर विनोद वर्मा ने कहा, "मेरे पास सेक्स वीडियो पेन ड्राइव में है. पुलिस की ओर से पेश सीडी से मेरा कोई लेना-देना नहीं है."

इससे पहले, विनोद वर्मा को इंदिरापुरम थाने लाया गया और पुलिस ने उनसे कई घंटे पूछताछ की. पुलिस ने दावा किया है कि विनोद वर्मा के घर से 500 सीडी बरामद की गई हैं.

पुलिस के मुताबिक़, एफ़आईआर में धारा 384 (रंगदारी वसूलने) और धारा 506 (जान से मारने की धमकी) के तहत मामला दर्ज किया गया था. बताया गया है कि इसमें विनोद वर्मा का नाम नहीं है.

हालांकि पत्रकारों ने पुलिस से एफ़आईआर की प्रति मांगी लेकिन उन्हें अभी तक उपलब्ध नहीं कराया गया.

विनोद वर्मा बीबीसी के पूर्व पत्रकार रहे हैं. वह अमर उजाला के डिजिटल एडिटर भी रहे हैं. विनोद वर्मा छत्तीसगढ़ के सामाजिक राजनीतिक मुद्दों पर लंबे समय से लिखते रहे हैं. वे एडिटर्स गिल्ड ऑफ़ इंडिया के सदस्य भी हैं.

ट्रांज़िट रिमांड दिए जाने के बाद पत्रकारों से विनोद वर्मा ने कहा, "वो राजेश मूणत की सीडी है, जो मेरे पास थी. अब बहुत कुछ खुल जाएगा."

इस बीच छत्तीसगढ़ भाजपा ने प्रेस कांफ्रेंस किया जिसमें राज्य सरकार के लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत भी मौजूद थे.

इमेज कॉपीरइट TWITTER/ RAJESH MUNAT
Image caption छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह और राजेश मूणत (दाएं)

राजेश मूणत ने कहा कि सेक्स सीडी सौ परसेंट फ़र्जी है, "मुझे किसी का फ़ोन नहीं आया. मैंने सोशल मीडिया पर ये ख़बर देखी, जिसके बाद पत्रकारों के सामने आया."

इस दौरान मौजूद भाजपा के एक अन्य नेता ने कहा कि 'भाजपा के सभी नेता बेदाग़ हैं और विनोद वर्मा ने जिस सीडी की बात की है वो फर्जी है.'

राजेश मूणत ने कहा कि 'प्रकाश बजाज भाजपा के कार्यकर्ता हैं और जिस भी एजेंसी से चाहें पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करा लें.'

जब पत्रकारों ने पूछा कि छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल भी किसी सीडी का दावा कर रहे हैं तो उन्होंने कहा, "अगर भूपेश पटेल के पास कोई सीडी है तो वो क्यों नहीं सीडी जारी कर देते."

रायपुर से स्थानीय पत्रकार आलोक पुतुल ने बताया कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष और विधायक भूपेश बघेल पत्रकार विनोद वर्मा के रिश्तेदार हैं.

भूपेश बघेल ने कहा, "विनोद वर्मा की रिपोर्ट्स से सरकार नाराज़ थी और यह गिरफ़्तारी पत्रकारों को डराने की कोशिश है."

मानवाधिकार संगठन पीयूसीएल की छत्तीसगढ़ इकाई के अध्यक्ष डॉक्टर लाखन सिंह ने कहा, "यह पत्रकारिता की आवाज़ को दबाने की कोशिश है और हम इसे कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे."

छत्तीसगढ़ में क्या बोली पुलिस?

इमेज कॉपीरइट Alok Putul

राजधानी रायपुर में छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिरीक्षक प्रदीप गुप्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की और पत्रकार विनोद वर्मा की गिरफ़्तारी की सिलसिलेवार जानकारी दी.

प्रकाश बजाज नाम के एक व्यक्ति ने कल यानी गुरुवार दोपहर को रायपुर के एक थाने में एफ़आईआर दर्ज कराई थी जिसके आधार पर ही गिरफ्तारी हुई है.

प्रकाश बजाज ने बताया कि उन्हें एक फ़ोन आया जिसमें उनके 'आका' की सेक्स सीडी बनाने की बात कही गई. प्रकाश बजाज की एफ़आईआर में विनोद वर्मा के नाम का ज़िक्र नहीं है, लेकिन एक दुकान का ज़िक्र है जहां पर कथित तौर पर सीडी की नकल बनाई जा रही थी.

पुलिस से सीडी बनाने वाले व्यक्ति से पूछताछ की और उसने बताया कि उन्होंने ऑर्डर के आधार पर 1000 सीडी बनाई थी. इसी व्यक्ति ने पुलिस को विनोद वर्मा का नंबर भी दिया. इन्हीं सीडी में से 500 सीडी क्राइम ब्रांच के विनोद वर्मा के घर से बरामद की गई हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए