कांग्रेस किस दम पर देख रही है गुजरात में सत्ता का ख़्वाब?

  • 31 अक्तूबर 2017
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Getty Images

गुजरात में 1990 के बाद विधानसभा में एक भी चुनाव न जीतने वाली गुजरात कांग्रेस 2017 चुनाव में जीतने के ख़्वाब देख रही है.

पिछले छह विधानसभा चुनाव हार चुकी कांग्रेस मानती है कि वह गांधीनगर पहुंचाने वाले रास्ते के क़रीब पहुंच गई है.

इस विश्वास के पीछे कुछ तर्क और तथ्य हैं. कांग्रेस सत्ता के क़रीब होने का दावा क्यों कर रही है, इसे समझने के लिए गुजरात की राजनीति में पिछले 30 साल में हुए बदलाव को समझना ज़रूरी है.

आख़िरी बार ऐसे जीती थी कांग्रेस

1985 में गुजरात में हुआ चुनाव कांग्रेस ने माधवसिंह सोलंकी की अगुवाई में लड़ा था. माधवसिंह सोलंकी ने चुनाव जीतने के लिए क्षत्रिय-मुस्लिम-दलित और आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को अपने साथ कर लिया. इसका नतीजा यह रहा कि गुजरात की 182 सीटों में से 149 पर कांग्रेस को जीत मिली.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption 1990 से विधानसभा चुनावों में हारती आ रही है कांग्रेस

इस जीत में गुजरात के किसान, जो ज़्यादातर पटेल समुदाय से ताल्लुक रखते हैं, वे भी कांग्रेस के साथ थे. 1990 का चुनाव गुजरात जनता दल और बीजेपी ने मिकलर लड़ा. जनता दल के नेता चीमनभाई पटेल थे और बीजेपी ने केशुभाई पटेल को अपना नेता घोषित किया था.

बीजेपी ने बदली थी रणनीति

अब गुजरात की राजनीति समझ चुकी बीजेपी को एहसास हो चुका था कि अगर दलित-मुस्लिम और क्षत्रिय मतदाता कांग्रेस के साथ हैं तो वह पटेल समुदाय को अपने साथ करके चुनाव जीत सकती है.

इसी कारण केशुभाई पटेल जो पटेल होने के साथ गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र से आते थे, उन्हें नेतृत्व दिया गया था. बीजेपी का प्रयोग सफल हुआ और 1990 में कांग्रेस की हार हुई. जनता दल और बीजेपी की मिली-जुली सरकार बनी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption 1990 में बीजेपी ने केशुभाई पटेल को सौंपा था नेतृत्व

हालांकि राम मंदिर के मुद्दे पर बीजेपी और जनता दल का साथ टूट गया, लेकिन इस दौरान बीजेपी ने पटेल समुदाय पर अपना वर्चस्व हासिल कर लिया था. इसका फ़ायदा बीजेपी को 1995 में मिलना शुरू हुआ.

बीजेपी ने आर्थिक रूप से पिछड़ों और पटेल समुदाय को साथ लेकर सत्ता हासिल की. तब से लेकर आज तक बीजेपी की सरकार बनती आ रही है.

नज़रिया: गुजरात चुनाव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इज़्ज़त का सवाल?

नज़रिया: गुजरात की 'ख़ामोशी' का मोदी के लिए संदेश क्या?

अब इसलिए बढ़ा है कांग्रेस का विश्वास

22 सालों तक सत्ता से बाहर रहने वाली कांग्रेस को अपनी गलतियों का अहसास हुआ. उसने पाटीदार आरक्षण मामले में आंदोलनकारियों की मदद की. अब जिन मुद्दों की वजह से कांग्रेस यह मान रही है कि वह सत्ता के करीब हैं, वे इस तरह से हैं:

1. गुजरात का पटेल समुदाय जो 1990 तक कांग्रेस का साथ छोड़कर बीजेपी के साथ चला गया था, वह पटेल आरक्षण के मुद्दे को लेकर बीजेपी साथ छोड़कर फिर कांग्रेस की तरफ आता दिख रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अल्पेश, हार्दिक और जिग्नेश का साथ

2. गुजरात का दलित समुदाय भी 1990 तक कांग्रेस से साथ था, मगर फिर विश्व हिंदू परिषद के राम मंदिर आंदोलन में शामिल हो गया था और बीजेपी के साथ आ गया था.

युवा दलित नेता जिग्नेश मेवाणी दलितों को यह बात समझाने में कामयाब रहे हैं कि 22 सालों तक भाजपा के साथ रहकर भी उनकी हालत में बदलाव नहीं हुआ. इसके पीछे 2016 में गुजरात के उना में हुई घटना भी ज़िम्मेदार है जिसमें गोरक्षकों ने दलितों की पिटाई कर दी थी.

3. गुजरात में आर्थिक रूप से पिछड़ी जातियों को आरक्षण तो मिलता है, मगर शिक्षा के बाद नौकरी नहीं मिलती. और जिनके पास ज़मीन है, उनकी ज़मीन सरकार छीनकर बड़े उद्योगों को दे रही है.

ठाकोर नेता अल्पेश ठाकोर इस बात को समझाने में कामयाब रहे हैं कि पिछड़ी जाति का इस्तेमाल सिर्फ वोटबैंक के रूप में होता रहा है. अब तो वह खुद भी कांग्रेस में शामिल हो गए हैं.

इमेज कॉपीरइट AICC
Image caption राहुल गांधी के साथ अल्पेश ठाकोर

4. गुजरात में बीजेपी सरकार का दावा था कि उसके शासन में लाखों बेरोज़गारों को नौकरी मिली. मगर नौकरी पाने वालों का आरोप है कि सरकार ने नौकरी तो दी, लेकिन पांच साल तक फिक्स तनख्वाह पर काम करने के लिए मजबूर किया.

इस मामले में गुजरात सरकार हाई कोर्ट में भी हार चुकी है, मगर उसने सुप्रीम कोर्ट में अपील कर दी. इस कारण लाखों सरकारी कर्मचारी भाजपा से नाराज़ हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

5. नरेंद्र मोदी ने केंद्र में गुजरात मॉडल की बात तो की, लेकिन गुजरात के लोग बीजेपी के विकास मॉडल से खुश नहीं हैं. इसी साल हुई बारिश में गुजरात के अहमदाबाद जैसे बड़े शहरों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. इसके चलते गुजरात में 'विकास पागल हुआ' जैसे मैसेज सोशल मीडिया पर काफ़ी वायरल हुए.

6. गुजरात के ज़्यादातर लोग व्यापार करते हैं. पहले उन्हें नोटबंदी को लेकर परेशानी का सामना करना पड़ा, अब वे जीएसटी से परेशान हैं. गुजरात का व्यापारी बीजेपी के ख़िलाफ हो चुका है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बीजेपी के प्रति व्यापारी वर्ग में नाराज़गी नज़र आती है

गुजरात चुनावों की क्या कवरेज चाहते हैं आप?

7. 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने अपना प्रचार सोशल मीडिया के ज़रिये किया. इस बार कांग्रेस सोशल मीडिया का भरपूर इस्तेमाल कर रही है.

बीजेपी सरकार कथित तौर पर टीवी और अखबारों में अपने खिलाफ आने वाली खबरें रोक लेती थी, मगर कांग्रेस उन्हीं रुकी हुई ख़बरों को सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों के बीच ला रही है.

8. राज्यसभा के चुनाव ने कांग्रेस में जान फूंक दी है. अभी तक कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता मानने लगे थे कि गुजरात में कांग्रेस कभी चुनाव नहीं जीत सकती.

राज्यसभा चुनाव में अमित शाह और बीजेपी ने कांग्रेस के विधायकों को तोड़कर अहमद पटेल को हराने की भरपूर कोशिश की, बावजूद इसके अहमद पटेल चुनाव जीत गए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अहमद पटेल की जीत से बढ़ा है कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मनोबल

इससे कांग्रेस में खोया हुआ विश्वास वापस आया कि लड़ेंगे तो जीत भी सकते हैं. 22 सालों में कांग्रेस पहली बार आक्रामक हुई है.

9. गुजरात के तीन युवा आंदोलनकारी हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी अब बीजेपी के ख़िलाफ़ हैं. इस कारण कांग्रेस का भरोसा बढ़ा है.

10. पिछले 22 साल से बीजेपी का शासन रहा है. इस कारण कई इलाकों में लोगों का रवैया बीजेपी विरोधी होना स्वाभाविक है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए