मोदी-शाह ने हिमाचल में क्यों धूमल को किया प्रोजेक्ट?

  • 1 नवंबर 2017
प्रेम कुमार धूमल इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रेम कुमार धूमल

भाजपा आलाकमान ने हिमाचल के लिए जिस गाड़ी के डिब्बों को दिल्ली से जोड़ कर वर्चुअल इंजन के सहारे चुनाव लड़ने रवाना कर दिया था, उसमें असली वाला इंजन जोड़ना पड़ा है.

ऐसा मैसेज था कि इंजन चुनाव परिणाम आने के बाद जोड़ा जाएगा. भाजपा केंद्रीय नेतृत्व को मानना पड़ा कि जो फॉर्मूला अन्य राज्यों के लिए चलाया गया था, वो हिमाचल में नहीं चलेगा.

हिमाचल चुनाव: मुक़ाबला मोदी बनाम वीरभद्र का?

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption अरुण जेटली के साथ प्रेम कुमार धूमल

बात नहीं बनी

मतदान से महज नौ दिन पहले प्रेम कुमार धूमल को मुख्यमंत्री के तौर पर प्रोजेक्ट करना साफ़ दर्शाता है कि भाजपा यहां जो अलग रिवायत शुरू करने की सोच रही थी, वो बात बनी नहीं.

दरअसल हिमाचल में कभी भी लीडरशिप घोषित किए बिना चुनाव नहीं हुए हैं. अब भाजपा का यह ताज़ा क़दम कई बातें एकदम साफ़ कर रहा है.

पहली बात तो यह कि भाजपा आलाकमान ने कम से कम हिमाचल के परिप्रेक्ष्य में तो यह मान ही लिया है कि लोकल लीडरशिप और नेशनल लीडरशिप दोनों अलग-अलग प्रभाव रखती हैं.

विधानसभा चुनावों में संगठन को स्थानीय नेतृत्व जिस तरह से एकजुट करता है, वैसा राष्ट्रीय नेतृत्व नहीं कर पाता. खास तौर पर उन राज्यों में जहां, स्थानीय नेतृत्व ठीक-ठाक हो.

भाजपा में जाने को क्यों मचल रहे हैं कांग्रेसी विधायक

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

डंडा हिमाचल में नहीं चला

आलाकमान का डंडा यूपी या हरियाणा जैसे राज्यों में तो चल सकता था लेकिन हिमाचल जैसे राज्य में नहीं. यह बात समझ आने में वक्त कुछ ज्यादा लग गया.

सर्द होते पहाड़ के मौसम की मानिंद ठंडा सा प्रचार भी सभी को दिख ही रहा था. उस पर कांग्रेस नेता हर सभा में भाजपा को बिना दूल्हे की बारात कहते थे.

भाजपा के नेता भी जवाब देते-देते परेशान हो रहे थे कि पार्टी ने क्यों मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं किया.

यह सवाल हरियाणा या उत्तर प्रदेश में भाजपा को हिमाचल की तरह से परेशान नहीं कर रहे थे क्योंकि यहां नेताओं की कोई कमी नहीं है.

हिमाचल के भाजपा नेता आलाकमान के समक्ष बराबर गुहार लगा रहे थे कि किसी को भी आगे करो लेकिन नेतृत्व घोषित होना चाहिए.

ऐसी मुहिम चुनाव की घोषणा से पहले ही चली हुई थी लेकिन बात नहीं बनी. तारीख घोषित हो जाने के बाद भी इस पर आलाकमान की चुप्पी लगातार बनी रही.

अल्पेश के फ़ैसले से गुजरात चुनाव हुआ रोमांचक

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption हिमाचल के चंबा में अमित शाह

लीडरशिप कितनी अहम

यहां के नेताओं के पास तो कोई जवाब था ही नहीं, दिल्ली से आए नेता भी इसे पार्टी की रणनीति का हिस्सा कह रहे थे. अब पिछले दो-तीन दिन के भीतर घटनाक्रम तेजी से बदला.

कहते हैं मोदी-शाह की जोड़ी के समक्ष कुछ करीबी राष्ट्रीय नेताओं ने भी बात रखी कि हिमाचल में लीडरशिप कितनी जरूरी है. उसका असर भी हुआ.

खुद दो दिन से अमित शाह भी यहीं है. हालांकि सोमवार को ही हल्की सी चर्चा शुरू हो गई थी कि दो नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेतृत्व को लेकर अपनी रैली में कुछ स्पष्ट कर सकते हैं.

लेकिन कम समय को देखते हुए शाह ने मंगलवार को ही घोषणा कर दी. यह भी कहा जा रहा है कि यदि लीडरशिप घोषित न करते तो मुकाबला मोदी बनाम वीरभद्र सिंह जैसा ही होता.

इससे भी आलाकमान बचना चाहती थी. उधर, गुजरात से आती हवाओं के बीच भी आलाकमान हिमाचल में ज्यादा नहीं उलझना चाह रही थीं.

'गुजरात में कांग्रेस की राह का सबसे बड़ा रोड़ा'

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption वीरभद्र सिंह

वीरभद्र बनाम धूमल

बहरहाल लीडर घोषित न करने के कारण हिमाचल में जो मुकाबला मोदी-बनाम वीरभद्र दिख रहा था अब यकायक ही उसमें बदलाव आ गया है.

सीधे तौर पर एक बार फिर वही पुराना मुकाबला होने जा रहा है यानी वीरभद्र बनाम धूमल.

वर्ष 1998 से इन्हीं दो नेताओं के बीच शह और मात का खेल चल रहा है. लगातार पांचवा मौका है जब यही नेता आमने सामने होंगे.

इससे पहले हुए चार मुकाबलों में दो बार धूमल जीते हैं तो दो बार वीरभद्र सिंह.

अब भाजपा किस तरह से माहौल को गर्म करती हैं और कांग्रेस नए परिदृश्य में क्या रणनीति बनाएगी, यह दो-तीन दिन में साफ़ हो जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए