तस्वीरों में: कश्मीर में चोटी काटने वालों का आतंक

  • 2 नवंबर 2017
कश्मीर में चोटी काटने की घटनाएं इमेज कॉपीरइट ABID BHAT

भारत प्रशासित कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में रहने वाली 35 वर्षीय तसलीमा राउफ़ अपने घर की ऊपरी मंज़िल पर थीं. तभी उन्होंने एक आदमी की परछाईं देखी.

इससे पहले कि वो कुछ कर पातीं, उस शख्स ने उन पर हमला कर दिया. जब तसलीमा ने मदद के लिए चिल्लाने की कोशिश की तो उसने उनका गला दबा दिया. इसके बाद वो बेहोश हो गईं. जब उनके पति वहां पहुंचे तो वो ज़मीन पर पड़ी थीं और उनके कुछ बाल कटे हुए थे.

जम्मू-कश्मीर में छह सितंबर से अब तक चोटी काटने की कम से कम ऐसी 40 घटनाएं हो चुकी हैं. इन घटनाओं के ख़िलाफ़ स्थानीय लोगों में गुस्सा है. इसके विरोध में कई प्रदर्शन भी किए गए. यहां तक कि स्कूल-कॉलेज भी बंद रखे गए.

ये पहली बार नहीं है जब भारत में चोटी काटने की घटनाएं सुर्खियां बनी हैं. इससे पहले अगस्त में हरियाणा और राजस्थान में भी ऐसे ही मामले सामने आए थे. यहां 50 से ज्यादा महिलाओं ने शिकायत की थी कि बेहोशी की हालत में उनकी चोटी काट ली गई.

इमेज कॉपीरइट ABID BHAT
Image caption हमले और चोटी काटे जाने के बाद रोतीं तसलीमा राउफ़

हमलों के पीछे कौन है, इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है. ज्यादातर महिलाओं का कहना है कि वो बेहोश हो गईं और जब उठीं तो उनके बाल काटे जा चुके थे. कुछ का कहना है कि उन पर हमला करने वालों ने नकाब पहन रखा था.

किसी भी महिला ने उन पर हमला कर चोटी काटने वाले का चेहरा नहीं देखा है.

इमेज कॉपीरइट ABID BHAT

पहचान छिपाने की शर्त पर ये महिला तस्वीर खींचवाने के लिए राज़ी हुईं. इस तस्वीर में वो अपने कटे बालों के पास लेटी हैं.

उन्होंने बताया कि उन पर तड़के घर के बाहर हमला हुआ. उनकी सोने की चेन खींच ली गई. हमलावर ने उनकी चोटी काट दी, लेकिन अन्य घटनाओं कि तरह हमलावर उनकी कटी चोटी वहीं छोड़ गया.

इमेज कॉपीरइट ABID BHAT

चोटी कटने की कथित घटनाओं कि वजह से कश्मीर में डर का माहौल है. इन घटनाओं के ख़िलाफ़ कई प्रदर्शन हुए.

कश्मीर में सत्ता पर काबिज़ पीडीपी की सहयोगी बीजेपी ने आरोप लगाया कि अलगाववादी और देश-विरोधी तत्व कश्मीर में शांति भंग करने के मकसद से इन घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट ABID BHAT

सामाजिक कार्यकर्ता एहसान अंतो ने घटनाओं के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया. इन हमलों को कश्मीरी महिलाओं का 'अपमान' माना जा रहा है.

विपक्षी नेशनल कांफ्रेन्स पार्टी ने राज्य सरकार पर अपनी माताओं, बेटियों और बहनों की गरिमा बचाने में नाकाम रहने का आरोप लगाया.

यहां तक कि चरमपंथी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन भी इस बहस में कूद गया. उन्होंने इसे भारतीय सुरक्षाबलों की साज़िश करार दिया.

इधर अलगावादियों का आरोप है कि सुरक्षाबल, आज़ादी की मांग करने वाले कश्मीरियों को डराने के लिए ये हमले करवा रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट ABID BHAT

ज़्यादातर प्रदर्शनों में स्थानीय लोगों और सुरक्षाबलों के बीच झड़पें हो जाती हैं.

बढ़ते तनाव के बीच कश्मीरी पुलिस ने हमलावरों को पकड़ने के लिए विशेष जांच दल का गठन किया है. हमलावर के सर पर छह लाख रुपए का इनाम रखा गया है.

इमेज कॉपीरइट ABID BHAT

चोटी काटनेवाले को पकड़ने के लिए पूरे कश्मीर में युवाओं ने ग्रुप बना लिए हैं. लेकिन इस तरह कि कोशिशें खतरनाक भी साबित हो रही हैं.

एक जगह पर 70 साल के एक बूढ़े व्यक्ति को चोटी काटने वाला समझकर मार दिया गया. श्रीनगर में एक ब्रिटिश नागरिक समेत छह विदेशी पर्यटकों को भीड़ ने हमलावर समझकर धमकाया.

इमेज कॉपीरइट ABID BHAT

उत्तरी कश्मीर में भीड़ ने वसीम अहमद को बुरी तरह पीटा. उन पर चोटी काटने के शक में भीड़ ने हमला किया था.

वसीम ने बताया कि लोगों ने उन्हें ज़िंदा जलाने की कोशिश की, लेकिन बाद में पुलिस ने उन्हें बचा लिया.

इमेज कॉपीरइट ABID BHAT

पहचान छिपाने कि शर्त पर एक बूढ़े व्यक्ति ने बताया कि उन्होंने अपने घर पर सीसीटीवी कैमरे लगा लिए हैं.

वो बताते हैं कि तीन दिन में दो अलग-अलग मौकों पर उनकी बहू के बाल काटे गए.

(फ़ोटोग्राफर बिद बट श्रीनगर में रहते हैं.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे