जब घर के आंगन में घुस आया 12 फ़ीट का मगरमच्छ

  • 2 नवंबर 2017
मगरमच्छ इमेज कॉपीरइट Deba Prasad Dash

ओडिशा के आदिवासी गांव के एक घर के आंगन में 12 फ़ीट लम्बा मगरमच्छ मिला है.

इसका पता तब चला जब उस घर का मालिक बुधवार की सुबह तीन बजे अचानक उठा.

घर के बाहर निकलते ही वो अपने आंगन में एक बड़ा-सा मगरमच्छ देख कर डर गए.

दशरथ मदकामी ओडिशा के मंता गांव के रहने वाले हैं. मलकानगिरी ज़िले की अधिकतर आबादी आदिवासियों की है.

इमेज कॉपीरइट Deba Prasad Dash

दशरथ बुधवार सुबह तीन बजे अचानक हो रही एक अजीब आवाज़ सुनकर नींद से जागे. बाहर निकलने पर उन्होंने देखा कि वहां एक विशालकाय मगरमच्छ उनका इंतज़ार कर रहा था.

दशरथ स्थानीय टीवी से बातचीत में बताते हैं, "मैं मगरमच्छ को देखकर बहुत डर गया था. मैंने तुरंत अपनी पत्नी को उठाया और शोर मचाकर जल्दी से गांव वालों को इकट्ठा किया."

आगे वे बताते है. "काफी मशक्कत करने का बाद गांव वालों की मदद से मगरमच्छ को क़ाबू करने में कामयाब हुए और उसे रस्सी से एक पेड़ से बांध दिया."

इमेज कॉपीरइट Deba Prasad Dash

गांव वालों ने सबसे पहले दशरथ के दोनों बच्चों को छत का एक हिस्सा निकालकर बचाया, जहां वे मगरमच्छ का पता चलने से पहले सो रहे थे.

घबराए हुए गांव वाले मगरमच्छ को मारने के लिए आगे आए, पर गांव के मुखिया ने रोका और समझाया कि उसे स्थानीय वन अधिकारियों के हवाले कर दिया जाए.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
बाढ़ आई, साथ में आ गया मगरमच्छ!
इमेज कॉपीरइट Deba Prasad Dash

वन अधिकारी मगरमच्छ को पास के सतिगुड़ा बांध में छोड़ना चाहते थे, जहां से मगरमच्छ आया था. लेकिन गांव वालों ने इसके लिए सख़्ती से मना कर दिया और डर जताया कि ऐसा करने से वह फिर से गांव में आ सकता है.

स्थानीय वन अधिकारी सुशांत नायक ने कहा, "सतिगुड़ा बांध में लगभग 30 से 40 मगरमच्छ हैं. यह गांव में अंडे देने के लिए फिसल कर आ गया होगा. क्योंकि यह गांव बांध से केवल एक किलोमीटर की दूरी पर ही है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे