कितना और क्या ला पाए पीएम मोदी?

नरेंद्र मोदी इमेज कॉपीरइट PMO

'मोदी! मोदी! मोदी! मोदी!'

किसी मंच पर पीएम नरेंद्र मोदी के भाषण से पहले और बाद में इन नारों की आवाज़ नई बात नहीं है.

आसियान सम्मेलन में शिरकत के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने फ़िलीपींस में भारतीय समुदाय को संबोधित किया.

अपने भाषण के आख़िर में पीएम मोदी ने कहा, ''2014 से पहले ख़बरें क्‍या आती थीं, कितना गया कोयले में? 2-जी में गया, ऐसे ही आता था ना. 2014 के बाद मोदी को क्‍या पूछा जाता है मोदी जी बताओ तो कितना आया? देखिए ये बदलाव है.''

मोदी ने कहा, ''वो एक वक़्त था, जब देश परेशान था कितना गया. आज वक्‍त है कि देश खुशी की ख़बर सुनने के लिए पूछता रहता है, मोदी जी बताइए न कितना आया?''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

देश में कितना विदेशी निवेश ला पाए पीएम मोदी?

मोदी ने अपने भाषण में देश का हवाला देते हुए जो सवाल पूछा था. क्या आप उसका जवाब जानते हैं?

नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत में कितना आया? यानी सत्ता में आने के बाद पीएम मोदी कितना विदेशी निवेश भारत लाने में सफल हो पाए हैं.

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के मुताबिक, 2014 से लेकर जून 2017 तक 174 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भारत में हुआ. अगर मनमोहन सिंह के शासन के आखिरी तीन सालों की बात करें तो 2011-2014 तक 81.84 अरब डॉलर का विदेशी निवेश भारत में हुआ.

केंद्र सरकार का दावा ये भी है कि मोदी के तीन सालों में एफ़डीआई क़रीब 38 फीसदी बढ़ा है.

'मेक इन इंडिया' का क्या असर?

मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के चार महीने बाद 'मेक इन इंडिया कैंपेन' की शुरुआत की थी. मकसद था भारत में विदेशी निवेश को बढ़ाना.

अक्टूबर 2014 से लेकर मार्च 2017 तक 99 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश भारत आया. सरकार ने दावा किया कि ये मेक इन इंडिया शुरू होने से 30 महीने पहले के मुकाबले 62 फीसदी ज़्यादा निवेश था.

अप्रैल 2012 से लेकर सितंबर 2014 तक 61 अरब डॉलर का विदेशी निवेश हुआ था.

मैन्यूफ़ैक्चरिंग सेक्टर की बात करें तो अप्रैल 2012 से लेकर सितंबर 2014 तक 35 अरब डॉलर का निवेश हुआ. 'मेक इन इंडिया' के आने के बाद से लेकर मार्च 2017 तक ये 14 फीसदी बढ़कर 40 अरब डॉलर हो गया.

मोदी के तीन साल, अच्छे दिनों का हाल

मोदी के तीन साल: क्या है मेक इन इंडिया का हाल?

मोदी सरकार: दस साल में सबसे कम नौकरियाँ

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे