बाल ठाकरे की पसंदीदा कार्टून कैरेक्टर थी इंदिरा गांधी

  • 17 नवंबर 2017
बाल ठाकरे इमेज कॉपीरइट Getty Images

शिवसेना के संस्थापक और कार्टूनिस्ट बाल ठाकरे की आज पुण्यतिथि है और यह साल इंदिरा गांधी का जन्मशताब्दी का भी साल है.

काँग्रेस के ख़िलाफ राजनीति करने वाले बाल ठाकरे ने अपनी कूची से इंदिरा गांधी पर कई बार निशाना साधा. लेकिन उसी बाल ठाकरे ने उनकी हत्या पर उन्हें श्रद्धांजलि भी कार्टून बनाकर दी.

बाल ठाकरे ने इंदिरा गांधी पर जो कार्टून बनाए, उनमें से 10 चुने हुए कार्टून बीबीसी पेश कर रही है. उनमें से कई कार्टून शायद आज भी प्रासंगिक है.

तो क्या 'बेमतलब' है श्री श्री की अयोध्या यात्रा?

जब इंदिरा गांधी ने बंगबंधु शेख़ मुजीबुर रहमान को चेताया था

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

'गरिबी हटाव' (साल 1971)

वर्तमान सरकार में जिस तरह से 'अच्छे दिन' के नारे पर सरकार बनाई गई है, वैसे इंदिरा गांधी के जमाने में 'गरीबी हटाओ' का नारा गूंजता था.

इंदिरा गांधी ने 'गरीबी हटाओ' का नारा दिया तो सही, लेकीन उनके चुनावी दौरे शाही होते थे. जिसकी आलोचना विपक्ष ने की थी. इसी मुद्दे पर बाल ठाकरे ने यह कार्टून बनाया था.

जब इंदिरा बोलीं, पिता बनने के भी नुक़सान होते हैं

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

'कश्मिरी गुलाब के काँटे' (साल 1975)

कश्मीर समस्या आज भी एक महत्वपूर्ण मुद्दा बना हुआ है. 1975 में कश्मीर में शेख अब्दुल्ला की नेशनल कॉन्फ्रेंस पार्टी ने काँग्रेस के साथ हाथ मिलाया था.

इस पर बालासाहेब ने टिपण्णी की थी कि कश्मीरी गुलाब के काँटे लहूलुहान कर रहे है.

उलझे हुए थे इंदिरा और फ़िरोज़ के रिश्तों के तार

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

'मुश्किले बढ गयी' (साल 1967)

इंदिरा गांधी के काँग्रेस और सत्ता की कमान संभालने के बाद तुरंत हुए चुनावों में पश्चिम बंगाल, तमिलनाडू के साथ करीब नौ राज्यों मे काँग्रेस विरोधी पार्टियों ने जीत दर्ज की थी.

उस पर बालासाहेब ने कहा 'नाकी नऊ आले' (इसका मतलब होता है कि परेशान हो गए).

इंदिरा की जान बचाने के लिए चढ़ा था 80 बोतल ख़ून

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

वाह रे सदिच्छा! (साल 1975)

अमरीका भारत की तरफ है या पाकिस्तान की तरफ? इसका उत्तर आज भी स्पष्ट नहीं है.

1975 में तत्कालीन अमरीकी विदेश मंत्री हेन्री किसिंजर भारत दौरे पर आये थे. यह कार्टून उस वक्त बनाया गया था.

'वो हिम्मतवाली नेता जिनका नाम था इंदिरा गांधी'

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

'मेरी बदनामी की साजिश' (साल 1977)

इमरजेंसी की जाँच करने के लिए जनता सरकार ने शाह आयोग का गठन किया गया था. इंदिरा गांधी ने दावा किया था की यह उनकी बदनामी की साजिश थी.

बाल ठाकरे ने कार्टून में दिखाया कि असल में इंदिरा गांधी के चेहरे पर संजय गांधी कालिख लगा रहे है.

जब जेपी ने इंदिरा से पूछा, तुम्हारा खर्चा कैसे चलेगा?

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

'केक कहाँ है?' (साल 1978)

1978 मे काँग्रेस एक बार फिर विभाजन हुआ. यशवंतराव चव्हान और ब्रह्मानंद रेड्डी जैसे वरिष्ठ नेता भी यह विभाजन रोक नहीं पाए.

उस पर बाल ठाकरे ने कार्टून में दिखाया कि ये दोनों नेता जर्जर काँग्रेस को इंदिरा गांधी की तरफ लेकर आ रहे है.

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

हमारी स्वातंत्र्यदेवता (साल 1982)

निजी स्वतंत्रता का मुद्दा आज भी प्रसांगिक है. इंदिरा गांधी के जमाने में भी यह चर्चा का विषय था.

इंदिरा गांधी पॅलेस्टाईन की जनता के स्वतंत्रता का समर्थन कर रही थीं, जबकि यहां भारत में उनके ऊपर निजी स्वतंत्रता के दमन करने के आरोप लग रहे थे.

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

खुली हवा से अपने घर वापसी (साल 1983)

जनता पार्टी को हराकर इंदिरा गांधी फिर से सत्ता में आयीं. शुरु के कुछ दिन अच्छे गुजरें. लेकीन बाद में देश के हालात बदलने लगें.

जगह-जगह दंगे हुए, पंजाब में उग्रवाद बढ़ने लगा. इस पर बाल ठाकरे ने ये कार्टून बनाया था.

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

गरिबी हटाव और इंदिरा काँग्रेस हटाव (साल 1983)

'अच्छे दिन' का नारे की हवा जिस तरह आज कमजोर हो रही है वैसे ही हालात गरीबी हटाओ के नारे का 1983 में हुआ था.

इस पर बाल ठाकरे ने कार्टून बनाया था कि इंदिरा गांधी गरीबी हटाओ का नारा दे रही हैं तो लोग इंदिरा-काँग्रेस हटाओ की मांग कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Prabodhan Publication

नि:शब्द (साल 1984)

इंदिरा गांधी की 1984 में हत्या कर दी गई थी. उनकी आलोचना करने वाले बाल ठाकरे ने उन्हें अनोखे तरीके से श्रद्धांजली अर्पण की.

जब कास्त्रो ने इंदिरा को छाती से लगा लिया

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे