राम मंदिर केस: कपिल सिब्बल की दलील पर अमित शाह का पलटवार

  • 6 दिसंबर 2017
कपिल सिब्बल इमेज कॉपीरइट PRAKASH SINGH/AFP/Getty Images

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को ये फ़ैसला सुनाया कि तीन जजों की बेंच राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर अगले साल 8 फ़रवरी से सुनवाई करेगी.

इलाहाबाद हाई कोर्ट के साल 2010 के फ़ैसले के ख़िलाफ़ दायर की अपील पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने ये फ़ैसला सुनाया.

इस मामले में सुन्नी वक़्फ बोर्ड की तरफ़ से पैरवी कर रहे वकील और कांग्रेस लीडर कपिल सिब्बल ने कहा कि अपील पर सुनवाई अगले लोकसभा चुनाव के बाद जुलाई, 2019 में की जाए क्योंकि मौजूदा समय में माहौल सुनवाई के लिए माकूल नहीं हैं.

सिब्बल की दलील सुप्रीम कोर्ट ने तो खारिज कर दी लेकिन इस बयान की अहमियत का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि गुजरात चुनाव प्रचार में व्यस्त अमित शाह को भारतीय जनता पार्टी का पक्ष रखने के लिए अहमदाबाद में संवाददाता सम्मेलन बुलाना पड़ा.

SC में अयोध्या मामला, जानिए पाँच ज़रूरी बातें

अयोध्या विवाद में हिंदुओं की जीत बनाम मुसलमानों को इंसाफ़

इमेज कॉपीरइट DIBYANGSHU SARKAR/AFP/Getty Images

बीजेपी का पक्ष

अमित शाह ने कहा, "जब भी कांग्रेस किसी मुद्दे पर एक अलग तरह का स्टैंड लेना चाहती है तब कपिल सिब्बल को आगे करती है. टू जी घोटाला हुआ तब भी, ज़ीरो लॉस थिअरी लेकर कपिल सिब्बल आगे आए थे और गुजरात में आरक्षण का मसला आया तब भी पचास प्रतिशत से ज्यादा आरक्षण संभव है, ऐसा एक ओपिनियन लेकर कपिल सिब्बल ही आए थे. और जब राम जन्मभूमि केस के रास्ते में रोड़े अटकाने हैं तब भी कपिल सिब्बल कांग्रेस पार्टी की ओर से सुन्नी वक्फ़ बोर्ड के वकील के तौर पर आए हैं."

बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के सवाल पर कांग्रेस से उसका रुख स्पष्ट करने की मांग की है.

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, "रामजन्मभूमि केस की सुनवाई जल्द से जल्द हो, इस बात पर कांग्रेस सहमत है या नहीं? या कांग्रेस पार्टी भी चाहती है कि 2019 के चुनाव तक रामजन्मभूमि केस की सुनवाई न हो."

6 दिसंबर को मस्जिद के अलावा और भी बहुत कुछ टूटा था

अयोध्या केवल राम मंदिर बनेगा, लक्ष्य के क़रीब: मोहन भागवत

इमेज कॉपीरइट Twitter @INCGujarat

राहुल गांधी

सर्वोच्च न्यायालय ने कहा है कि चीफ़ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एसए नजीब की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी.

शाह ने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में गुजरात में राहुल गांधी की मंदिर यात्राओं को सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल की दलील से जोड़ने की कोशिश की.

उन्होंने कहा, "गुजरात में चुनाव चल रहे हैं, राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष बनने वाले हैं, वे मंदिर-मंदिर जाकर श्रद्धा व्यक्त कर रहे हैं. एक ओर मंदिरों के चुनावी दौरे चल रहे हैं तो दूसरी तरफ़ रामजन्मभूमि केस की सुनवाई टालने के लिए कपिल सिब्बल का इस्तेमाल किया जा रहा है."

तो क्या 'बेमतलब' है श्री श्री की अयोध्या यात्रा?

बाबरी मस्जिद ढहाने का अभ्यास कैसे हुआ था?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)