मुसलमान क्यों नहीं बने थे अंबेडकर?

  • अभिमन्यु कुमार साहा
  • बीबीसी संवाददाता
भीमराव आंबेडकर

इमेज स्रोत, Getty Images

डॉ. भीमराव अंबेडकर ने कहा था कि हिंदूओं को समझना चाहिए कि वे भारत के बीमार लोग हैं और ये भी कि उनकी बीमारी दूसरे भारतीयों के स्वास्थ्य और प्रसन्नता के लिए घातक है.

अंबेडकर जन्म से हिंदू थे पर मरना हिंदू के रूप में नहीं चाहते थे. उन्होंने धर्म परिवर्तन का फैसला किया. इसके लिए उन्होंने कई धर्मों को अपनाने पर विचार किया था. इस्लाम भी उनमें से एक था.

धर्म परिवर्तन से पहले उन्होंने इस्लाम के बारे में भी गहरा अध्ययन किया था. वो जातिवाद और दलितों की स्थिति के मामले में इस्लाम को हिंदू धर्म से बहुत अलग नहीं मानते थे.

इमेज स्रोत, Getty Images

इलाहाबाद के गोविंद बल्लभ पंत सामाजिक विज्ञान संस्थान के प्रोफेसर और आधुनिक इतिहास के जानकार बद्री नारायण के अनुसार भीमराव अंबेडकर इस्लाम धर्म की कई कुरीतियों के खिलाफ थे.

इमेज स्रोत, Getty Images

वो मानते थे कि इस्लाम में भी हिंदू धर्म की तरह ऊंची जातियों का बोलाबाला है और यहां भी दलित हाशिये पर हैं.

बीबीसी से बात करते हुए ब्रदी नारायण ने बताया, "भीमराव अंबेडकर मानते थे कि दलितों की जो दशा है उसके लिए दास प्रथा काफी हद तक जिम्मेदार है. इस्लाम में दास प्रथा को खत्म करने के कोई खास प्रतिबद्धता नहीं दिखती है."

दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर शम्सुल इस्लाम भी इस बात से इत्तेफाक रखते हैं. वो बताते हैं, "अंबेडकर ने धर्म परिवर्तन के लिए इस्लाम पर भी विचार किया था, पर इसे अपनाया नहीं. क्योंकि वे मानते थे कि इसमें भी उतना ही जातिवाद है जितना हिंदू धर्म में."

वो बताते हैं कि अंबेडकर मानते थे कि मुसलमानों में भी जो हैसियत वाला वर्ग है वो हिंदू धर्म के ब्राह्मणों की तरह ही सोचता है.

इमेज स्रोत, DEEKSHABHOOMI/BBC

इस्लाम की राजनीति

अंबेडकर ने स्पष्ट रूप से कहा था कि देश का भाग्य तब बदलेगा जब हिंदू और इस्लाम धर्म के दलित ऊंची जाति की राजनीति से मुक्त हो पाएंगे.

शम्सुल इस्लाम बताते हैं, "अंबेडकर का कहना था कि इस्लाम धर्म के नाम पर जो राजनीति हो रही थी वो हिंदू धर्म के उच्च वर्गों की तरह की ही थी."

जैसे हिंदू धर्म में ब्राह्मणवादी राजनीति का बोलबाला था, वैसे ही इस्लाम की राजनीति भी ऊंची जातियों तक सीमित थी.

अंबेडकर इस्लाम में महिलाओं की स्थिति को लेकर चिंतित थे. वो बहु विवाह प्रथा के खिलाफ थे.

ब्रदी नारायण बताते हैं, "अंबेडकर बहु विवाह प्रथा को महिला मुद्दों के साथ जोड़कर देखते थे. वो मानते थे कि इससे स्त्रियों को कष्ट होता है. इस प्रथा में उनका शोषण और दमन होता है."

मनुस्मृति और इस्लाम

उन्होंने बताया कि अंबेडकर के इस्लाम न अपनाने के कई कारणों में ये भी एक कारण रहा था. वो दलितों के इस्लाम अपनाने के पक्ष में नहीं थे.

आजादी के बाद पाकिस्तान में बड़े पैमाने पर दलितों का धर्म परिवर्तन हो रहा था. अंबेडकर उन्हें इस्लाम धर्म न अपनाने की सलाह दे रहे थे. वे मानते थे कि वहां भी उनको बराबरी का हक़ नहीं मिल पाएगा.

इमेज स्रोत, Getty Images

ब्रदी नारायण बताते हैं कि आंबेडकर को लगता था कि इस्लाम में कुरीतियों को दूर करने की आत्मशक्ति नहीं दिख रही थी और उसे दूर किए बिना समानता का भाव नहीं मिल पाता.

शम्सुल इस्लाम बताते हैं कि मुगल शासकों ने मनुस्मृति को पूरी तरह अपनाया था जबकि अंबेडकर मनुस्मृति के खिलाफ थे.

इमेज स्रोत, Getty Images

मुस्लिम और हिंदू की दोस्ती

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
विवेचना

नई रिलीज़ हुई फ़िल्मों की समीक्षा करता साप्ताहिक कार्यक्रम

एपिसोड्स

समाप्त

जो भी मुस्लिम शासक भारत आए उन्होंने ब्रह्मणवादी राजनीति को अपनाया. मुगलकाल को भी देखें तो मुस्लिम शासकों ने हिंदू धर्म की ऊंची जातियों के साथ समझौता कर लिया था.

शम्सुल और ब्रदी नारायण, दोनों इतिहासकार यह मानते हैं कि आंबेडकर दलितों को समाज में समानता का अधिकार दिलाना चाहते थे, जो इस्लाम में संभव नहीं दिख रहा था.

यही कारण है कि उन्होंने कई धर्मों के अध्ययन के बाद बौद्ध धर्म को अपनाया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)