दिल्ली सरकार ने ज़िंदा बच्चे को मृत बताने वाले मैक्स अस्पताल का लाइसेंस किया रद्द

  • 8 दिसंबर 2017
सत्येंद्र जैन इमेज कॉपीरइट TWITTER/AAP

दिल्ली सरकार ने शालीमार बाग मैक्स अस्पताल का लाइसेंस शुक्रवार को रद्द कर दिया है.

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ''दिल्ली में निजी अस्पताल काम करें, इससे हमें दिक्कत नहीं है. लेकिन ये काम नियमों और कानून के तहत करना होगा. दिल्ली देश की राजधानी है और राजधानी को आदर्श स्थिति में रखना होगा. मैक्स अस्पताल में जो हुआ, वो बर्दाश्त से बाहर है. इस अस्पताल को ईडब्ल्यू कोटा, अतिरिक्त बेड को लेकर कई मामलों में नोटिस जारी किए गए हैं, वहां भी इस अस्पताल की गलती पाई गई है. ऐसे में शालीमार बाग स्थित मैक्स अस्पताल का दिल्ली सरकार लाइसेंस रद्द करती है.''

सत्येंद्र जैन ने आगे कहा, ''मैक्स हॉस्पिटल को आदेश दिया गया है कि पुराने मरीज़ो को दूसरे हॉस्पिटल में शिफ्ट करें या फिर उनका इलाज पूरा करें, नए मरीज़ों को वे ना ही भर्ती कर सकते हैं ना ही उनका इलाज कर सकते हैं."

इमेज कॉपीरइट ASHISH

मैक्स अस्पताल पर दिल्ली सरकार की ये कार्रवाई ऐसे वक्त में हो रही है, जब कुछ दिनों पहले ही अस्पताल ने एक ज़िंदा बच्चे को मृत बताकर माता-पिता को पैकेट में लपेटकर दे दिया था.

इस मामले में एक बयान में अस्पताल ने एनडीटीवी को बताया था, "22 हफ्ते के प्रीमैच्योर बेबी को जब उनके रिश्तेदारों को सौंपा गया था उसके शरीर में कोई हरकत नहीं थी. हम इस घटना से सकते में हैं और इस मामले में जांच शुरू कर दी गई है."

इमेज कॉपीरइट MaX HEALTHCARE
Image caption दिल्ली के शालीमार बाग में मैक्स अस्पताल

''मेरे ज़िंदा बच्चे को मेरी मरी हुई बच्ची के साथ सुला रखा था''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए