झारखंड में फिर भूख से मौत, क्या है पूरी कहानी

  • 9 दिसंबर 2017
प्रेमनी कुंवर के परिवारजन इमेज कॉपीरइट RTFC
Image caption प्रेमनी कुंवर के परिवारजन

पोस्टमार्टम रिपोर्ट कहती है कि प्रेमनी कुंवर के पेट में अन्न के दाने थे. लेकिन, उनके घर के बरतनों से अन्न 'ग़ायब' है.

घर के अहाते में मिट्टी का एक चूल्हा है. वहां अल्युमिनियम और स्टील के कुछ बरतन पड़े हैं. चूल्हे से लगी दीवार पर लंबा काला निशान हैं. मानो गवाही दे रहा हो कि यहां कभी खाना बनाया जाता था.

इसके लिए प्रेमनी ने लकड़ियां जलाई होंगी. उनसे धुआं निकलता होगा. यह काला निशान उसी 'टेम्पररी धुएं' का 'परमानेंट अक्स' हैं.

प्रेमनी कुंवर अब इस घर में नहीं रहतीं. वे वहां चली गयी हैं, जिसे जमाना 'परलोक' कहता है. मरने से पहले तक वे कोरटा गांव में रहती थीं. यह झारखंड के सुदूर गढ़वा ज़िले के डंडा प्रखंड का हिस्सा है.

'काश, यह आधार इतना ज़रूरी नहीं होता'

आधार के पेंच से भूखों मरने की नौबत आई

इमेज कॉपीरइट RTFC
Image caption प्रेमनी कुंवर के बेटे उत्तम महतो

अब इस लोक में उनकी निशानी के निमित तेरह साल का एक बच्चा है, जो एक दिसंबर को उनकी मौत के पहले तक उन्हें मां-मां कहकर पुकारा करता था. अब वह बच्चा उनकी पासपोर्ट साइज फ़ोटो को मां कहते हुए रोने लगता है.

प्रेमनी कुंवर उसे उत्तम कहकर बुलाती थीं. वह उनके पति मुकुल महतो की आख़िरी और इकलौती निशानी है. लिहाजा, गांव वाले उसे उत्तम महतो के नाम से जानते हैं. वह डंडा के एक स्कूल में सातवीं क्लास में पढ़ता है.

'आधार के चलते' भूखा रह रहा है एक बच्चा

भूख से मौत

इमेज कॉपीरइट RTFC

उत्तम महतो ने मुझे बताया कि अक्टूबर में उनके घर में अंतिम बार राशन का चावल आया था. पिछले महीने डीलर ने अपनी मशीन (बायोमिट्रिक सिस्टम) में मां के अंगूठे का निशान तो लिया लेकिन उन्हें राशन नहीं दिया. वह नवंबर महीने की 27 तारीख थी.

इसके ठीक तीन दिन बाद 64 साल की प्रेमनी कुंवर की मौत हो गयी. उत्तम के दावे पर भरोसा करें तो अपनी मौत के आठ दिन पहले से उन्होंने अपने चूल्हे पर कुछ भी नहीं पकाया था, क्योंकि घर में राशन ही नहीं था.

उत्तम महतो ने कहा, "मेरी मां भूख से मर गईं. मेरे घर में आठ दिन से खाना नहीं बना था. हम स्कूल जाते थे तो मिड डे मिल खा लेते थे. थोड़ा-बहुत बचाकर लाते तो मां को वही खिला देते. लेकिन, इससे पेट नहीं भरता था. इस कारण मेरी मां मर गयीं."

"घर में हमीं दोनों रहते थे. हमको तो पिताजी का चेहरा भी याद नहीं है. अब हम अकेले कैसे रहेंगे. हमको कौन बनाकर खिलाएगा."

आधार-राशन कार्ड नहीं जुड़े और बच्ची 'भूख' से मर गई

नहीं मिल रहा था राशन

इमेज कॉपीरइट RTFC

डंडा प्रखंड के प्रमुख वीरेंद्र चौधरी ने बीबीसी को बताया कि प्रेमनी कुंवर को अगस्त और नंवबर का राशन नहीं मिला था.

वो कहते हैं, "उन्हें जुलाई के बाद से वृद्धावस्था पेंशन भी नहीं मिल रहा था. इस कारण उनके घर की हालत ख़राब हो चुकी थी. उनकी कई शिकायतों के बावजूद प्रशासन ने इस पर कोई कार्रवाई नहीं की और प्रेमनी की मौत भूख से हो गयी."

क्या कांगों में भूख से लाखों बच्चे मर जाएंगे?

प्रशासन का इनकार

गढ़वा की उपायुक्त डा नेहा अरोड़ा इस आरोप को नहीं मानतीं. उनका दावा है कि प्रेमनी कुंवर की मौत का कारण भूख नहीं हो सकती क्योंकि पोस्टमार्टम करने वाले डाक्टरों ने उनके पेट में फूड ग्रेन्स (अन्न के दाने) पाए हैं.

वो कहती हैं, "इसके बावजूद हम लोग इस मामले की जांच करा रहे हैं. इसके बाद ही कुछ ठोस बात की जा सकेगी."

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash
Image caption प्रेमनी कुंवर की तस्वीर

डंडा के बीडीओ शाहजाद परवेज भी यही दावा करते हैं. उन्होंने कहा, "यह कहना ग़लत है कि उन्हें अनाज नहीं मिल रहा था. अक्टूबर में वे अनाज लेकर गयी थीं. उन्हें 35 किलो चावल दिया गया था क्योंकि वे अंत्योदय कार्ड धारी थीं."

"प्रेमनी के घर में सिर्फ दो लोग रहते थे. ऐसे में 35 किलो चावल एक महीने में ही कैसे खत्म हो सकता है. सच तो यह है कि उनकी तबीयत ख़राब थी और मौत से एक दिन पहले गांव के ही एक झोला छाप डाक्टर ने उनका इलाज किया था."

नौ दिनों तक भूख से तड़पते बच्चे की मौत

राइट टू फूड कैंपेन का सर्वे

इमेज कॉपीरइट RTFC

राइट टू फूड कैंपेन की सकीना धोराजिवाला बीडीओ शाहजाद परवेज की बातों को हास्यास्पद क़रार देती हैं. वो कहती हैं कि उनके साथियों ने गांव जाकर इसकी पड़ताल की थी.

"पता चला कि प्रेमनी कुंवर को अगस्त में राशन नहीं मिला था. इस कारण सितंबर मे मिले राशन से उन्होंने अगस्त में लिया पइंचा (उधार) चुकाया. इस कारण उनके घर में चावल की कमी हो गयी. सकीना ने बताया कि राशन डीलर 35 की जगह 33 किलो चावल ही दिया करता था."

आठ महीने से नहीं मिला था संतोषी को राशन

वृद्धावस्था पेंशन दूसरे खाते में

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash

दरअसल, प्रेमनी कुंवर का वृद्धावस्था पेंशन उनके पति की पहली पत्नी शांति देवी के खाते में ट्रांसफ़र हो गई थी. जबकि वो 25 साल पहले ही मर चुकी हैं.

इसकी जानकारी ना तो बैंक को थी और ना प्रेमनी को. पड़ताल में पता चला कि शांति देवी का खाता ग़लती से प्रेमनी कुंवर के आधार कार्ड से लिंक हो गया था.

इस कारण वृद्धावस्था पेंशन की राशि जुलाई के बाद से उनके हाथ में नहीं मिल सकी.

और भी हैं मामले

इमेज कॉपीरइट RTFC

पिछले दो महीने के दौरान झारखंड मे चार बार भूख से मौत की चर्चा हुई. सिमडेगा ज़िले की संतोषी की मौत के बाद धनबाद के बैजनाथ रविदास, देवघर के रुपलाल मरांडी और गढ़वा के सुरेश उरांव की मौत के लिए भी भूख को वजह बताया गया.

लेकिन, सरकार ने इसे सिरे से नकार दिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे आरोप उनकी सरकार को बदनाम करने के लिए लगाए जा रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे