गुजरात चुनावः कांग्रेस का दावा, ईवीएम ब्लूटूथ से अटैच

  • 9 दिसंबर 2017
अर्जुन मोढवाडिया इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अर्जुन मोढवाडिया

गुजरात विधानसभा चुनाव में पहले चरण में शनिवार को वोटिंग हुई. सूरत और कच्छ-सौराष्ट्र के कई ज़िलों से ईवीएम के ख़राब होने की शिकायतें मिली हैं.

कथित तौर पर मतदान के दौरान मोबाइल फ़ोन के ब्लूटूथ से ईवीएम सर्च करने की शिकायत गुजरात कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अर्जुन मोढवाडिया ने चुनाव आयोग से की है.

समाचार एजेंसी पीटीआई ने चुनाव आयोग के हवाले से बताया है कि गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण में कुल 68 फ़ीसदी मतदान हुआ है.

इस बीच, अर्जुन मोढवाडिया ने गुजरात में मौजूद बीबीसी संवाददाता रजनीश कुमार से कहा है कि ईवीएम का ब्लूटूथ से अटैच होने का मामला बहुत बड़ा है और वह इस बात को उठाएंगे. मोढवाडिया पोरबंदर विधानसभा से कांग्रेस के उम्मीदवार हैं.

गुजरात में बीजेपी-कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर

गुजरात चुनाव से ठीक पहले बीजेपी सांसद ने दिया झटका

गांधी का गुजरात कैसे बना हिन्दुत्व की प्रयोगशाला?

इमेज कॉपीरइट MANISH PANWALA

ब्लूटूथ पर शक

कांग्रेस नेता देवाशीष मोढवाडिया ने विस्तार से ब्लूटूथ सर्च करने की बात बताई. उन्होने बताया कि पोरबंदर विधानसभा के एक बूथ पर एक युवा ने वोटिंग करते वक़्त अपने फोन का ब्लूटूथ चालू किया तो उसमें ईसी 0108 डिवाइस आया उसने उसका स्क्रीनशॉट ले लिया.

उन्होंने आगे कहा, "उसने हमें बताया तो हमने दूसरे युवाओं को वहां भेजा. उन्होंने भी यह बताया. जामनगर विधानसभा में तीन ईवीएम में ऐसा हुआ है. इसके बाद अर्जुन भाई ने चुनाव आयोग को शिकायत की है. ईवीएम के पास ब्लूटूथ ऑन करके सर्च किया जाए तो ईसी0108 डिवाइस सर्च करता है लेकिन वो फोन से कनेक्ट नहीं होता है. चुनाव आयोग का कहना है कि वो ईको108 डिवाइस है लेकिन ईवीएम नहीं है."

वहीं, रजनीश कुमार से बातचीत में पोरबंदर के ज़िलाधिकारी अशोक कालरिया ने बताया, "चुनाव आयोग के लोगों और इंजीनियरों के साथ हम लोग बूथ पर गए थे. ईवीएम का वाईफ़ाई से कोई लेना देना नहीं है. इसकी शिकायत की जा रही है कि ईवीएम को ब्लूटूथ से जोड़ा जा रहा है लेकिन ऐसी कोई बात सामने नहीं आई है."

इमेज कॉपीरइट COPYRIGHT BIPIN TANKARIA
Image caption क्रिकेटर चेतेश्वर पुजारा

इसके अलावा, कई विधानसभा क्षेत्रों में ईवीएम ख़राब होने की शिकायतें पाई गई हैं. सुरेंद्रनगर में कुल 5 ईवीएम मशीनों को ख़राब पाया गया जिसकी वजह से मतदान प्रभावित हुआ है. वहीं सूरत के स्थानीय पत्रकार मनीष पावला के अनुसार सूरत के शहरी इलाकों में लगभग 70 ईवीएम मशीनों में ख़राबी की शिकायत की गई.

कुल मिलाकर कच्छ के 9, भुज में 9, मुंद्रा में 2, रौपड़ और अब्दासा में 1, पोरबंदर में 8, अमरेली, रजौला और सावरकुंडला तालुका में 3-3 मशीनें ख़राब मिलीं.

वहीं, राजकोट पूर्व की एक सीट में मतदान के दौरान मोबाइल से वीडियोग्राफ़ी करने की घटना भी सामने आई है, इस संबंध में ज़िला चुनाव अधिकारी ने जोनल चुनाव अधिकारी को जांच के आदेश दिए हैं.

वहीं, जहां-जहां ईवीएम ख़राब होने की शिकायत मिली वहां दूसरी ईवीएम मशीनें लगाई गईं जिससे मतदान प्रभावित न हो सके.

इमेज कॉपीरइट KIRITSINH ZALA
Image caption मुख्यमंत्री विजय रूपाणी

पहले चरण के मतदान में 89 विधानसभा सीटों के लिए वोट डाले गए हैं. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और भारतीय क्रिकेटर चेतेश्वर पुजारा सहित कई जाने माने लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

सबसे अधिक मतदान मोरबी और नवसारी ज़िलों में हुआ है. वहां 75 फ़ीसदी मतदान दर्ज किया गया है. इसके बाद 73 फ़ीसदी मतदान नर्मदा और तापी में दर्ज किया गया है.

भरूच में 71 फ़ीसदी और राजकोट, गिर सोमनाथ, सूरत, डांग और वलसाड में 70 फ़ीसदी मतदान हुआ है.

गुजरात में विकास पहले 'पगलाया' फिर 'धार्मिक' बन गया

गुजरात: घनश्याम पांडे कैसे बने स्वामीनारायण?

नवागाम: गुजरात में विकास के साइड इफेक्ट का सबूत

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए