गुजरात क्या चाहता है, भाजपा या बदलाव?

  • 11 दिसंबर 2017
नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट SAM PANTHAKY/AFP/Getty Images

गुजरात में विधानसभा का चुनाव निरंतरता और परिवर्तन के बीच एक जंग नज़र आ रही है.

भारतीय जनता पार्टी लगातार 22 साल शासन करने के बाद निरंतरता की जीत पर आशा लगाए हुए है, जबकि कांग्रेस पार्टी और इसके उपाध्यक्ष राहुल गाँधी हर रैली में वोटरों को परिवर्तन की तरफ़ लुभाने की कोशिश कर रहे हैं.

इस परिवर्तन की अपील में उनका साथ दे रहे हैं चुनाव में उनके भागीदार और पाटीदार आंदोलन का नेतृत्व करने वाले 24 वर्षीय युवा नेता हार्दिक पटेल. उधर एक दूसरे युवा नेता जिग्नेश मेवानी भी परिवर्तन के मुद्दे पर चुनाव लड़ रहे हैं.

राहुल को प्रमोशन तो कितने बदलेंगे गुजरात के समीकरण?

अमित शाह का 150+ का दावा, कर पाएगी बीजेपी?

इमेज कॉपीरइट SAJJAD HUSSAIN/AFP/Getty Images

जनता का मूड

जीत निरंतरता की होगी या परिवर्तन की, ये निर्भर करता है गुजरात की जनता के मूड पर. कैफ़े में बैठे आम लोगों से बातें करें या दुकानों और बाज़ारों में लोगों को टटोलें, तब भी इस नतीजे पर आप नहीं पहुँच सकते कि जीत किसकी होगी.

थोड़ी बहुत सहमति अगर है तो केवल इस बात पर कि मुक़ाबला पिछली बार से सख्त है.

Image caption भूषण भट

मुस्लिम बहुल निर्वाचन क्षेत्र जमालपुर के विधायक भूषण भट के अनुसार गुजरात की जनता मौजूदा सरकार से "संतुष्ट" है. "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा सरकार से लोग खुश हैं, संतुष्ट हैं. वो बदलाव नहीं चाहते."

सरकार विरोधी राय रखने वाले भी हर जगह मिल जाएंगे लेकिन संभव है कि सरकार से नाखुश रहने के बावजूद वो वोट भाजपा को ही दें.

उनकी पार्टी और प्रधानमंत्री के समर्थकों का तर्क ये है कि विकास से अधिक लोगों को मोदी पर विश्वास है.

कांग्रेस किस दम पर देख रही गुजरात में सत्ता का ख़्वाब?

गुजरात की 'ख़ामोशी' का मोदी के लिए संदेश क्या?

बदलाव की निशानी

सामाजिक कार्यकर्ता सूफी अनवर शेख़, हार्दिक पटेल और राहुल गाँधी की रैलियों को बदलाव की एक निशानी मान रहे हैं.

उनसे जब मिला तो वो अपने फ़ोन पर हार्दिक पटेल की मेहसाणा रैली से हो रहा फेसबुक लाइव देख रहे थे.

वो कहने लगे, "देखिये एक लाख लोग हैं इस रैली में. मोदी जी की रैलियों से कहीं अधिक लोग आ रहे हैं हार्दिक की रैलियों में."

उनका दावा है कि गुजरात समाज परिवर्तन की दहलीज़ पर खड़ा है. उनके अनुसार उसकी एक बड़ी वजह ये है "जिस हिंदुत्व के ज़रिए उन्होंने सारे हिंदुस्तान पर क़ब्ज़ा कर लिया उसमें (गुजरात) ये होता था कि सारी कम्युनिटी एक तरफ़ और मुसलमान एक तरफ. इस बार भी ध्रुवीकरण हुआ है लेकिन भाजपा एक तरफ़ और दूसरी सभी कम्युनिटी दूसरी तरफ़."

बीजेपी की मुश्किलें बढ़ा सकती है ये तिकड़ी

भड़काऊ बयानों पर सतर्क हैं गुजरात के मुसलमान!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के क़रीब रह चुके एस के मोदी इन दिनों रिटायरमेंट की ज़िन्दगी बसर कर रहे हैं लेकिन सियासत पर अब भी उनकी गहरी नज़र है और वो सोशल मीडिया पर काफ़ी सक्रिय हैं.

उनका तर्क है कि हार्दिक पटेल की रैलियों में अधिक भीड़ का ये मतलब नहीं कि वो सभी उन्हें वोट देंगे.

वो कहते हैं कि गुजरात के लोग मोदी जी का साथ नहीं छोड़ रहे हैं क्योंकि जनता उनसे संतुष्ट है.

वो कहते हैं, "गुजरात के लोग निरंतरता के लिए ही वोट दे रहे हैं. हो सकता है कुछ लोग संतुष्ट न हों. कुछ लोगों के मन में असंतोष हो इससे इनकार नहीं किया जा सकता क्योंकि जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी बढ़ रही है लोगों के अरमान भी बढ़ रहे हैं."

'पाकिस्तान अहमद पटेल को गुजरात का सीएम क्यों बनाना चाहता है?'

कांग्रेस का दावा, ईवीएम ब्लूटूथ से अटैच

इमेज कॉपीरइट SAM PANTHAKY/AFP/Getty Images

लोगों से बात करके ये भी एहसास हुआ कि प्रधानमंत्री मोदी पर लोगों का विश्वास अब भी टूटा नहीं है.

दुकानदार नरेंद्र पटेल कहते हैं, "मीडिया वाले कह रहे हैं मोदी और भाजपा सरकार से किसान नाराज़ हैं, दलित नाराज़ हैं और पाटीदार नाराज़ हैं. इसके बावजूद वोट मोदी के नाम पर डाले गए और 14 दिसंबर को भी डाले जाएंगे."

वहीं सूफी अनवर के अनुसार भाजपा के विकास की स्टोरी का सच बाहर आ गया है और जनता, ख़ास तौर से युवा उनसे नाराज़ है.

वो कहते हैं, "भाजपा वही ग़लती कर रही है जो इससे पहले कांग्रेस सरकार ने की थी. कांग्रेस की सरकार से लोग ऊब गए थे. मोदी और शाह जैसे नेता एक नई तरह की राजनीति लेकर आए जिसे कांग्रेस नहीं समझ सकी."

वो कहते हैं, "हार्दिक पटेल और जिग्नेश मेवानी नई सियासत लेकर आये हैं जिसे भाजपा पहचान नहीं पा रही है. ये भाजपा के दावों के विपरीत है."

गुजरात में बीजेपी-कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर

गुजरात में विकास पहले 'पगलाया' फिर 'धार्मिक' बन गया

सत्तारूढ़ भाजपा ने गुजरात में अपने लिए कुल 182 सीटों में से 150 सीटों का लक्ष्य रखा है. पिछली बार इसे 115 सीटें मिली थीं. सरकार बनाने के लिए 92 सीटों की ज़रुरत है. कांग्रेस को पिछली बार 61 सीटें मिली थीं.

पार्टी के कई विधायकों को विश्वास है कि प्रधानमंत्री मोदी ने अगर उनके क्षेत्र में रैली की तो उनकी जीत पक्की है. उन्हें मोदी की रैलियों में घटती संख्या से ज़ाहिर तौर पर घबराहट नहीं है.

उन्हें भरोसा है कि अभी गुजरात की जनता परिवर्तन नहीं चाहती. उनके अनुसार लोग निरंतरता चाहते हैं.

इमेज कॉपीरइट SAM PANTHAKY/AFP/Getty Images

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए