उदयपुर में शंभूलाल के समर्थन में रैली की कोशिश, 50 लोग हिरासत में

  • 14 दिसंबर 2017
फ़ाइल फोटो इमेज कॉपीरइट Getty Images

राजस्थान के उदयपुर में गुरुवार को पुलिस ने शांति भंग की आशंका में 50 लोगों को हिरासत में लिया है.

पीटीआई के मुताबिक़, ये लोग राजसमंद में अफ़राजुल की हत्या के अभियुक्त शंभूलाल रैगर के समर्थन में रैली निकालने की कोशिश कर रहे थे.

उदयपुर के कोर्ट चौराहे पर जमा हो रही भीड़ ने पुलिस पर पत्थर बरसाए. जिसके बाद भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठियां बरसाईं.

राजस्थान: राजसमंद, उदयपुर में धारा 144, इंटरनेट बंद

'शंभूलाल का समर्थन करने वाले गिरफ़्तार होंगे'

राजसमंद और उदयपुर में पुलिस ने धारा 144 लगा रखी है और वहां इंटरनेट भी बंद कर दिया गया है.

पीटीआई से बात करते हुए क़ानून व्यवस्था के एडीजी एनआरके रेड्डी ने बताया, ''उदयपुर में कल धारा 144 लगा दी गई थी. लेकिन कुछ लोग उसका उल्लंघन करके राजसमंद की हत्या के अभियुक्त के समर्थन में इकट्ठा होने की कोशिश कर रहे थे. हमें भीड़ को क़ाबू करने के लिए लाठियां चलानी पड़ीं. एहतियात के तौर पर तक़रीबन 50 लोगों को हिरासत में लिया गया है.''

ग्राउंड रिपोर्ट: शंभूलाल रैगर कैसे बन गए शंभू भवानी

क्या शंभूलाल रैगर हिंदुत्व के 'लोन वुल्फ़' हैं?

जयपुर में भी एक गिरफ़्तारी

एडीजी रेड्डी के मुताबिक़ लोगों की पत्थरबाज़ी में चार-पांच पुलिसवालों को चोट लगी है.

इस बीच, जयपुर पुलिस ने उपदेश राणा नाम के एक शख़्स को गिरफ़्तार कर लिया है जिसने सोशल मीडिया पर उदयपुर में रैली करने का एलान किया था.

शंभूलाल के परिवार को क्यों पैसे भेज रहे हैं लोग?

कौन है उपदेश राणा?

राणा उत्तर प्रदेश का रहने वाले हैं.

पीटीआई में पुलिस के हवाले से छपी जानकारी के मुताबिक़, ख़ुद को विश्व सनातन संघ का राष्ट्रीय प्रचारक बताने वाला उपदेश राणा उदयपुर जाने की तैयारी कर रहे थे, तभी शहर से बाहर उन्हें पकड़ लिया गया.

राजसमंद वीडियोः शंभूलाल का समर्थन करने वाले तीन गिरफ़्तार

राजस्थान वीडियोः "जानवर भी इंसानों से बेहतर हैं"

शंभूलाल रैगर सात दिसंबर को उस वक़्त चर्चा में आया था जब उससे जुड़े कुछ वीडियो वायरल हो गए.

एक वीडियो में शंभूलाल पश्चिम बंगाल से आए एक मज़दूर अफ़राजुल की हत्या करता नज़र आ रहा है. एक और वीडियो में वो हत्या की वजहें गिनाता दिख रहा है.

शंभूलाल फ़िलहाल पुलिस हिरासत में है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)