गुजरात नतीजों के दिन हार्दिक पटेल के घर पसरा सन्नाटा

  • 19 दिसंबर 2017
गुजरात इमेज कॉपीरइट kuldeep mishra
Image caption हार्दिक पटेल का घर

गुजरात चुनाव के नतीजों के बाद हार्दिक पटेल के घर के बाहर सन्नाटा पसरा है. पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के नेता हार्दिक पटेल के परिजन, अहमदाबाद से कुछ 50 किलोमीटर दूर विरमगाम कस्बे में रहते हैं.

बीबीसी गुजराती की टीम ने सोमवार को हार्दिक के घर पहुंचकर उनकी मां से बात करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने बात करने से मना कर दिया. साथ ही उन्होंने कहा कि हार्दिक के पिता भरत पटेल भी घर पर मौजूद नहीं हैं.

हार्दिक की मां ऊषा पटेल ने बीबीसी से कहा, "मुझे नहीं पता कि हार्दिक कहां है. मैं कुछ और नहीं कहना चाहती. हार्दिक रविवार को सोमनाथ शहर में थे."

लेकिन हार्दिक अहमदाबाद में ही मौजूद थे, उन्होंने चुनाव नतीजों में हार का ठीकरा ईवीएम पर फोड़ते हुए कहा, "ये चाणक्य की रणनीति नहीं है. विपक्षी दलों को ईवीएम हैक के ख़िलाफ एकजुट होना चाहिए. अगर एटीएम हैक हो सकता है तो ईवीएम क्यों हैक नहीं हो सकता."

'चाणक्य ने नहीं, EVM और पैसे ने बीजेपी को जिताया'

इमेज कॉपीरइट SAM PANTHAKY/AFP/GETTY IMAGES
Image caption अपनी मां ऊषाबेन के साथ हार्दिक पटेल (फ़ाइल फ़ोटो)

24 वर्षीय हार्दिक पटेल ने गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए धुंआधार प्रचार किया. उन्होंने कई बड़ी रैलियां कीं, जिसमें भारी भीड़ उमड़ी. इन रैलियों में उन्होंने बीजेपी को हराने का आह्वान किया. कांग्रेस को उम्मीद थी कि हार्दिक की ये अपील उन्हें सत्ता दिलाने में मददगार साबित होगी. लेकिन अंत में कांग्रेस की ये उम्मीद टूट गई और बीजेपी ने बहुमत के साथ जीत हासिल की.

'स्थानीय राजनीति में सक्रिय नहीं'

सोशल मीडिया पर हार्दिक के बहुत से समर्थक हैं, लेकिन विरमगाम के लोगों का कहना है कि स्थानीय राजनीति में हार्दिक ने कभी बड़ी भूमिका नहीं निभाई. हार्दिक ने विरमगाम में कोई रैली नहीं की.

बीबीसी से बात करते हुए ब्लातंत ठाकोर ने कहा, "भले ही हार्दिक ने पूरे गुजरात में सैंकड़ों रैलियां की हों, लेकिन उन्होंने विरमगाम में कोई रैली नहीं की. उन्होंने विरमगाम के, के बी हाई स्कूल से पढ़ाई की है. विरमगाम विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में पटेल और ठाकोर समुदाय का प्रभुत्व है. स्थानीय नगर पालिका और विरामगम तालुका पंचायत का शासन बीजेपी के हाथ में है."

हार्दिक पटेल को पाटीदार नेता बनाया किसने

इमेज कॉपीरइट BIPIN TANKARIYA
Image caption राजकोट में हार्दिक पटेल की रैली में उमड़ी भीड़

एक स्कूल टीचर, हार्दिक मेहता ने कहा, "हमें गर्व है कि हमारा छात्र हार्दिक पटेल आंदोलन का चेहरा बन गया है और भविष्य में वो एक बड़ा नाम होगा."

कांग्रेस विधायक डॉ तेजश्री पटेल ने 2012 के चुनाव में विरमगाम सीट जीती थी. हालांकि इस बार तेजश्री ने बीजेपी की टिकट पर चुनाव लड़ा. लेकिन वो कांग्रेस प्रत्याशी लाखाभाई भरवाड़ के हाथों हार गईं.

EVM हैकिंग: हार्दिक पटेल के दावों की हकीकत?

क्या मोदी से ज़्यादा भीड़ खींच रहे हैं हार्दिक पटेल?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राजदीप सिंह चौहान ने कहा, "हम उम्मीद करते हैं कि नई सरकार विरमगाम के विकास पर ध्यान देगी. स्थानीय लोग कई तरह की समस्याओं से जूझ रहे हैं. इसके अलावा विरमगाम के युवाओं के लिए बेरोज़गारी एक बड़ा मुद्दा है."

एक स्थानीय नागरिक, लाखा भरवाड़ ने कहा, "हम चाहते हैं कि हमारी ऐतिहासिक मुनसर झील को संरक्षित और साफ़ किया जाए. इस ऐतिहासिक झील में गंदा पानी छोड़ा जाता है. अगर झील को अच्छे से विकसित और संरक्षित किया जाता है तो ये पर्यटकों को आकर्षित कर सकती है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए