यरूशलम पर भारत ने इसराइल का साथ क्यों नहीं दिया?

  • 22 दिसंबर 2017
मोदी, इसराइल इमेज कॉपीरइट AFP

जिस दिन अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने यरूशलम को इसराइल की राजधानी का दर्जा दिया था, उसी दिन से इस फ़ैसले का व्यापक स्तर पर विरोध शुरू हो गया.

गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र जनरल असेंबली (UNGA) ने अमरीका के यरूशलम को इसराइल की राजधानी का दर्जा देने को रद्द करने की मांग करने वाले प्रस्ताव को पारित कर दिया है.

संयुक्त राष्ट्र के इस गैर बाध्यकारी प्रस्ताव के समर्थन में 128 देशों ने मतदान किया जबकि 35 देश ग़ैर-हाज़िर रहे. नौ देशों ने प्रस्ताव के ख़िलाफ़ मतदान किया यानि अमरीका का साथ दिया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हालांकि, मतदान से पहले भाजपा के नेता ही मोदी सरकार से इस मामले में इसराइल का साथ देने की अपील कर रहे थे.

भाजपा नेता स्वप्न दास गुप्ता ने UNGA से पहले ट्वीट किया था, ''भारत को या तो वोटिंग से गैर-हाज़िर रहना चाहिए या फिर संयुक्त राष्ट्र के उस प्रस्ताव का विरोध करना चाहिए जिसमें अमरीकी दूतावास को यरूशलम ले जाने के फ़ैसले की आलोचना की गई है. हमें इसराइल के साथ खड़ा रहना चाहिए. वो हमारा दोस्त है.''

क्या मुसलमान देशों को वाकई सज़ा देंगे ट्रंप?

यरूशलम पर 'हार' क्या अमरीका की साख पर बट्टा है?

लेकिन भारत इस प्रस्ताव का समर्थन करने वाले देशों में शुमार रहा. मतलब उसका वोट अमरीका और इसराइल के ख़िलाफ़ गया.

इमेज कॉपीरइट Twitter
इमेज कॉपीरइट Twitter

और कुछ तबकों में निराशा भी दिखी. भाजपा के दूसरे वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, ''भारत ने अमरीका और इसराइल के साथ वोट ना कर बहुत बड़ी ग़लती की है.''

लेकिन भारत ने ऐसा क्यों किया? हाल के दिनों में इसराइल और अमरीका के साथ उसके रिश्तों में गर्माहट आई है, लेकिन इसके बावजूद वो फ़लस्तीन के साथ क्यों गया?

यरूशलम क्यों है दुनिया का सबसे विवादित स्थल?

जानकारों की राय में इसकी अलग-अलग वजह है. अंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकार प्रोफ़ेसर कमाल पाशा के मुताबिक इसकी दो ख़ास वजह हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने बीबीसी हिन्दी को बताया, ''इस मुद्दे को लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय में बहुमत था. इंस्ताबुल में ओआईसी की बैठक हुई थी और वहां भी ऐसा ही था. ज़्यादातर मु्ल्क़ इसके साथ नहीं थे.''

''ऐसे में भारत इस मामले में इंटरनेशनल पब्लिक ओपिनियन के साथ गया. जिसे लहर के साथ तैरना कहते हैं. दूसरा, इसराइल के साथ भारत के ताल्लुक़ात मज़बूत हो रहे हैं, ख़ास तौर से हथियारों के मामले में. लेकिन जिस तरह से वो सेटलमेंट बना रहा है, उसे लेकर हाल में तनाव हुआ था.''

पाशा ने कहा, ''इस मुद्दे को लेकर सऊदी अरब और क़तर जैसे मुस्लिम मुल्कों में तनाव बढ़ गया था और इन देशों में भारत के हित हैं. UNGA में भारत ने संकेत दिया है कि हमारे दोतरफ़ा रिश्ते अलग हैं लेकिन इंटरनेशनल मामलों में अलग रुख़ हो सकता है.''

इमेज कॉपीरइट AFP

उन्होंने कहा कि यरूशलम को राजधानी के रूप में मान्यता देने के अमरीका के फ़ैसले पर भारत ने मुस्लिम जगत और यूरोपीय ताक़तों के साथ खड़े होने का फ़ैसला किया.

भारत कई साल पहले से फ़लस्तीन के साथ मज़बूत रिश्ते रखता है, क्या इसी वजह से UNGA में उसका वोट इसराइल के ख़िलाफ़ गया, इस पर पाशा ने कहा, ''देखिए, यासिर अराफ़ात वाला दौर लौटकर नहीं आएगा. क्योंकि अब माहौल ऐसा है और बैलेंस करके चलना पड़ता है.''

संयुक्त राष्ट्र के इस प्रस्ताव के ख़िलाफ़ अमरीका, इसराइल, ग्वाटेमाला, होंडुरस, द मार्शल आइलैंड्स, माइक्रोनेशिया, नॉरू, पलाऊ और टोगो ने वोट किया.

इमेज कॉपीरइट EPA

भारत, फलस्तीनी क्षेत्र और इसराइल के बीच संतुलन बनाकर चलता रहा है. लेकिन, हाल के समय में उसकी अमरीका और इसराइल से क़रीबी नज़र आने लगी थी.

अमरीका में डेलावेयर विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर मुक्तदर ख़ान के मुताबिक भारत बहुत ज़्यादा 'बाय द बुक' चलता है और भारत के राष्ट्रहित में उसके लिए ये महत्वपूर्ण है कि संयुक्त राष्ट्र अपने अंतरराष्ट्रीय नियमों के अनुसार चले ख़ासतौर से कश्मीर के मसले की वजह से.

भारत के लिए इस प्रस्ताव का समर्थन करना कोई नई बात नहीं थी क्योंकि पिछले 50 सालों में भारत ने इसे कई बार समर्थन दिया है.

इमेज कॉपीरइट AFP

इसराइलियों और फ़लस्तीनियों के पवित्र शहर यरूशलम को लेकर विवाद बहुत पुराना और ग़हरा है.

यरूशलम इसराइल-अरब तनाव में सबसे विवादित मुद्दा भी है. ये शहर इस्लाम, यहूदी और ईसाई धर्मों में बेहद अहम स्थान रखता है.

पैगंबर इब्राहीम को अपने इतिहास से जोड़ने वाले ये तीनों ही धर्म यरूशलम को अपना पवित्र स्थान मानते हैं.

यही वजह है कि सदियों से मुसलमानों, यहूदियों और ईसाइयों के दिल में इस शहर का नाम बसता रहा है. हिब्रू भाषा में येरूशलायीम और अरबी में अल-कुद्स के नाम से जाना जाने वाला ये शहर दुनिया के सबसे प्राचीन शहरों में से एक है.

इस शहर को कई बार कब्ज़ाया गया है, ध्वस्त किया गया है और फिर से बसाया गया है. यही वजह है कि यहां की मिट्टी की हर परत में इतिहास की एक परत छुपी हुई है.

आज यरूशलम अलग-अलग धर्मों के लोगों के बीच विभाजन और संघर्ष की वजह से सुर्ख़ियों में रहता है. लेकिन इस शहर का इतिहास इन्हीं लोगों को आपस में जोड़ता भी है.

शहर के केंद्र बिंदू में एक प्राचीन शहर है जिसो ओल्ड सिटी कहा जाता है. संकरी गलियों और ऐतिहासिक वास्तुकला की भूलभुलैया इसके चार इलाक़ों- ईसाई, इस्लामी, यहूदी और अर्मेनियाईं- को परिभाषित करती हैं.

इमेज कॉपीरइट .

इसके चारों ओर एक किलेनुमा सुरक्षा दीवार है जिसके आसपास दुनिया के सबसे पवित्र स्थान स्थित हैं. हर इलाक़ें की अपनी आबादी है.

ईसाइयों को दो इलाक़ें हैं क्योंकि अर्मेनियाई भी ईसाई ही होते हैं. चारों इलाक़ों में सबसे पुराना इलाक़ा अर्मेनियाइयों का ही है.

ये दुनिया में अर्मेनियाइयों का सबसे प्राचीन केंद्र भी है. सेंट जेंम्स चर्च और मोनेस्ट्री में अर्मेनियाई समुदाय ने अपना इतिहास और संस्कृति सुरक्षित रखी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए