'सलमान के ख़िलाफ़ केस नहीं तो उठाएंगे बड़ा क़दम'

  • 24 दिसंबर 2017
शिल्पा शेट्टी और सलमन ख़ान इमेज कॉपीरइट PAL PILLAI/AFP/Getty Images

बॉ़लीवुड के दो नामी चेहरों सलमान ख़ान और शिल्पा शेट्टी कुंद्रा के ख़िलाफ़ मुंबई के एक थाने में वाल्मीकि समुदाय का अपमान करने के संबंध में शिकायत की गई है.

अंधेरी पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक पंडित शंकर थोराट ने बीबीसी को बताया कि शनिवार रात को दोनों अभिनेताओं के ख़िलाफ़ 'एक ख़ास समुदाय का अपमान करने के संबंध में शिकायत आई है' जिसे ले लिया गया है.

शिकायककर्ता नवीन रामचंद्र लादे ने बताया, "दोनों अभिनेताओं ने इंटरव्यू के दौरान ख़ुद की तुलना भंगी से की जो जातिवाचक शब्द है और वाल्मीकि समुदाय का अपमान है. इस संबंध में हमने शिकायत दी है."

नवीन लादे का आरोप है "दोनों अभिनेताओं ने वाल्मीकि समाज के लोगों की भावनाओं को ठेस पहुंचाई है. उनके ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए."

सलमान ख़ान के ख़िलाफ़ जिस कथित बयान को लेकर शिकायत की गई है, वो ताज़ा नहीं बल्कि कुछ बरस पुराना है. जबकि शिल्पा शेट्टी ने अपने बयान के लिए माफी मांगी है.

'तो क्या इंसान नहीं लग रहा?'

इमेज कॉपीरइट Navin Ramchandra Lade
Image caption नवीन रामचंद्र लादे

नवीन लादे ने बीबीसी को बताया कि पुलिस उनकी शिकायत पर एफ़आईआर दर्ज नहीं कर रही है. वो कहते हैं, "पुलिस ने शिकायत तो ले ली है लेकिन इस मामले में अभी तक औपचारिक तौर पर एफ़आईआर दर्ज नहीं की गई है."

"पुलिस को हम कह रहे हैं कि वो एफ़आईआर दर्ज करें या ये स्पष्ट करें कि एफ़आईआर क्यों नहीं दर्ज की जा रही, 24 घंटों के भीतर एफ़आईआर नहीं हुई तो कोई बड़ा क़दम उठाएंगे."

वो बताते हैं, "कल भी हम यहां थे और हम आज भी यहां आए हैं. अभी तो हमारी लड़ाई यही है कि एफ़आईआर दर्ज हो. हमारी मांग है कि सलमान और शिल्पा को गिरफ़्तार किया जाए और उन पर कार्रवाई की जाए."

नवीन रामचंद्र लादे का ताल्लुक रिपब्लिकन पार्टी ऑफ़ इंडिया से है. वो कहते हैं कि फिलहाल तो हम अकेले ही हैं. अगर कोई राजनीतिक पार्टी हमारी मदद को सामने आएं तो हम उनको भी अपनी लड़ाई में शामिल करना चाहते हैं.

वो कहते हैं कि वो इस लड़ाई को सड़कों तक ले कर जाएंगे. शनिवार रात उन्होंने मुंबई में सलमान ख़ान के विरोध में उनके घर के सामने विरोध प्रदर्शन किया था.

इमेज कॉपीरइट Nitin Shivram Satpute

नवीन रामचंद्र लादे के वकील नितिन शिवराम सातपुते ने बीबीसी को बताया "इस मामले में एससीएसटी प्रिवेन्शन ऑफ़ एट्रोसिटीज़ एमेन्डेड एक्ट 2015 और प्रोटेक्शन ऑफ सिविल राइट्स, 1995 के तहत पुलिस में शिकायत की गई है. इस धारा के तहत मामलों में अग्रिम ज़मानत नहीं मिलती है."

सातपुते का कहना है कि सरकार का सर्कुलर है जिसमें कहा गया है कि समाज के एक ख़ास तबके के लोगों को "भंगी" ना कहा जाए बल्कि वाल्मीकि कहा जाए.

वो कहते हैं "कोई भी चीज़ आपको गंदी लगे तो आप भंगी शब्द का इस्तेमाल करेंगे. भंगी लग रहा है तो क्या इंसान नहीं लग रहा, जानवर लग रहा है?"

सलमान और शिल्पा पर आरोप

इमेज कॉपीरइट Nitin Shivram Satpute
Image caption शिकायत की प्रति की फ़ोटोग्रैब

सलमान ख़ान पर आरोप है कि उन्होंने एक टेलीविज़न चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा था, "कुछ तरह के डांस स्टेप्स में मैं भंगी लग रहा था, बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा था."

ये इंटरव्यू सलमान ने कुछ साल पहले दिया था.

शिल्पा पर आरोप है कि उन्होंने इसी साल यूटीवी स्टार्स को दिए एक इंटरव्यू में कहा था कि वो जब घर पर होती हैं तो "भंगी" की तरह दिखती हैं.

उन्होंने कहा "जब मैं घर पर होती हूं तो मैं भंगी की तरह लगती हूं, मैं अपने ट्रैक पैन्ट और टीशर्ट में होती हूं और मेरे बाल पीछे बंधे होते हैं."

इमेज कॉपीरइट Shilpa Shetty Kundra@ Instagram

इस मामले में शिल्पा शेट्टी ने ट्विटर और इंस्टाग्राम पर अपने शब्दों के लिए माफ़ी मांगी है. उन्होंने लिखा, "मैंने इंटरव्यू में जो कहा था उसके कुछ शब्दों को ग़लत तरीके से समझा गया है. मैंने किसी की भावना को ठेस पहुंचाने के इरादे से कुछ नहीं कहा. अगर उन्हें बुरा लगा तो इसके लिए मैं माफ़ी चाहती हूं."

लेकिन नितिन सातपुते कहते हैं, "माफ़ी मांगने से कुछ नहीं होता है. ये क़ानून के तहत गुनाह है."

"उन्होंने समाज को एक संदेश दिया है कि कुछ भी होता है तो भंगी बोलो. ये सही नहीं है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए