योगी के भगवा पहनावे पर बोले मोदी

  • 25 दिसंबर 2017
पीएम मोदी और सीएम योगी इमेज कॉपीरइट TWITTER @narendramodi

नोएडा में न्यू मेजेंटा मेट्रो लाइन का उद्घाटन करने के बाद पीएम मोदी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ़ की.

मोदी ने कहा कि जब वो गुजरात के मुख्यमंत्री बने तो ऐसे छह या सात जगहों के बारे में बताया गया जहां जाने से लोग परहेज करते थे.

मोदी ने कहा, ''लोग उन जगहों के बारे में कहते थे कि अगर वहां कोई जाता है तो वो मुख्यमंत्री फिर से नहीं बन पाता है. उसकी कुर्सी चली जाती है.''

मोदी ने कहा कि आज योगी ने नोएडा के बारे में जो बदनामी थी उसे मिटा दिया और उसके लिए वो बधाई के पात्र हैं.

'अटल जी के विरोधी मिल जाएंगे लेकिन कोई उन्हें...'

वाजपेयी ने जब नेहरू की तस्वीर मंगवाई

प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री योगी के बारे में कहा, ''योगी जी के पहनावे के कारण कुछ लोगों को लगता है कि वो आधुनिक नहीं हैं, लेकिन आज उन्होंने वो काम किया जो पहले के मुख्यमंत्री नहीं कर पाए. आस्था महत्वपूर्ण है, लेकिन अंधविश्वास की कोई जगह नहीं होनी चाहिए.''

45 साल के योगी आदित्यनाथ शनिवार शाम को ही नोएडा पहुंचे थे. नोएडा के बारे में कहा जाता है कि इसके साथ मनहूसियत जुड़ी हुई है, क्योंकि यहां जो मुख्यमंत्री आते हैं, उनकी कुर्सी चली जाती है. योगी नोयडा के इस मिथ की उपेक्षा कर पहुंचे थे.

इससे पहले के मुख्यमंत्री नोएडा आने से बचते रहे हैं. पूर्व मुख्यमंत्री मायावती एकमात्र सीएम थीं जो 2011 में नोएडा आई थीं. उन्होंने तब 685 करोड़ रुपये के मेमोरियल पार्क का उद्घाटन किया था.

अगले साल प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव वो हार गई थीं. अगले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने कार्यकाल में एक बार भी नोएडा नहीं आए फिर भी उन्हें चुनाव में हार का सामना करना पड़ा. नोएडा को लेकर यह मिथ 1980 के दशक से ही बना हुआ है.

मोदी ने उद्घाटन समारोह में कहा, ''उत्तर प्रदेश ने गोद लेकर मेरा लालन-पालन किया है. यूपी ने ही मुझे पहली बार सांसद बनाया. ये उत्तर प्रदेश के 22 करोड़ लोग ही हैं जिन्होंने देश को स्थिर सरकार देने में बड़ी भूमिका अदा की है.''

प्रधानमंत्री मोदी 25 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के आवास पर जन्मदिन की बधाई देने पहुंचे थे.

मोदी ने ट्वीट भी किया, ''अटल जी ने देश भर में सड़कों का जाल बिछाने का काम किया. अटल भारत मार्ग विधाता हैं. वो एक स्टेट्समैन हैं जिन्होंने भारत को 21वीं सदी की राह दिखाई.''

प्रधानमंत्री मोदी ने उद्घाटन भाषण में कहा, ''आज ही के दिन अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म हुआ था. हमारे लिए गर्व की बात है कि 24 दिसंबर 2002 को अटल बिहारी वाजपेयी इस देश की मेट्रो के सबसे पहले पैसेंजर बने थे. आज उस घटना को 15 साल हो गए. आज मेट्रो 100 किलोमीटर से भी ज़्यादा फैल चुकी है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए