प्रेस रिव्यूः केंद्रीय मंत्री अनंत हेगड़े का बयान, बीजेपी संविधान बदलने के लिए ही सत्ता में आई है

  • 26 दिसंबर 2017
अनंतकुमार हेगड़े इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/Anantkumar Hegde

इंडियन एक्सप्रेस की एक ख़बर के अनुसार मोदी सरकार के मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने कहा है कि बीजेपी संविधान बदलने के लिए ही सत्ता में आई है और निकट भविष्य में ही ऐसा किया जाएगा.

रविवार को कर्नाटक के कोपल ज़िले में आयोजित ब्राह्मण युवा परिषद के एक आयोजन में केंद्रीय राज्य मंत्री अनंत हेगड़े ने सेक्युलर लोगों पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि धर्मनिरपेक्ष और बुद्धिजीवी लोगों की खुद की कोई पहचान नहीं होती और वे अपने वंश से भी अनजान होते हैं.

इसके साथ में एक और ख़बर छपी है. जिसके अनुसार सोमवार को नागपुर मेडिकल कॉलेज में जेनेरिक मेडिसिन काउंटर के उद्घाटन में डॉक्टरों के न आने पर केंद्रीय राज्य मंत्री हंसराज अहीर भड़क गए. उन्होंने कहा कि 'अगर डॉक्टर लोकतंत्र में आस्था नहीं रखते हैं तो नक्सलियों से जुड़ जाएं. हम उन्हें गोलियों से उड़ा देंगे.'

असल में सोमवार को क्रिसमस की वजह से छुट्टी थी और कॉलेज के डीन और सिविल सर्जन भी आयोजन में नहीं पहुंचे थे.

इमेज कॉपीरइट PTI

द हिंदू की एक ख़बर के अनुसार, तमिलनाडु में हुए उप चुनावों में बाग़ी नेता टीटीवी दिनाकरण के जीतने के बाद राज्य में सत्तारूढ़ पार्टी अन्नाद्रमुक ने उनके नौ क़रीबी विधायकों को पार्टी से निकाल दिया है. पार्टी ने आरोप लगाया है कि इन विधायकों ने पार्टी को धोखा दिया है.

अख़बार के अनुसार, माना जा रहा है आरके नगर सीट पर पार्टी की हार के बाद ये क़दम उठाया गया है.

नवभारत टाइम्स की एक ख़बर के अनुसार, जामिया मिल्लिया इस्लामिया के 11 छात्रों को दाढ़ी रखने पर एनसीसी कैंप से निकाल दिया गया है. छात्रों का आरोप है कि दिल्ली के रोहिणी स्थिति एनसीसी हेटक्वॉर्टर में विंटर कैंप के छठे दिन उन्हें दाढ़ी साफ़ करने को कहा गया.

छात्रों के अनुसार, उनसे कहा गया कि ये इंदिरा गांधी और मनमोहन सिंह का नहीं मोदी का राज है.

इमेज कॉपीरइट TWITTER

हिंदुस्तान टाइम्स की एक ख़बर के अनुसार, मोदी सरकार ने एक सर्कुलर जारी कर सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मियों से सरकार की आलोचना न करने को कहा है. सर्कुलर में सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों को राजनीतिक गतिविधि में शामिल होने और सरकार विरोधी कोई बयान देने से मना किया गया है.

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों में फ़िलहाल 12 लाख कर्मचारी कार्यरत हैं.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक ख़बर के अनुसार, भारत में पहली बार मेड इन इंडिया विमान को वाणिज्यिक उड़ानों के लिए हरी झंडी मिल गई है. नागरिक उड्डयन की निगरानी संस्था डीजीसीए ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड से बने डोर्नियर विमानों को इसकी इजाज़त दे दी है.

ये 19 सीटों वाला विमान क्षेत्रीय रूटों पर उड़ान भर सकेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए