झारखंड: क्यों चर्चा में है विकलांगों का ये समूह

  • 31 दिसंबर 2018
रामेश्वर महतो इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC
Image caption रामेश्वर महतो

रामेश्वर महतो की दोनों आंखें नहीं हैं. उन्हें कुछ भी नहीं दिखता. दस साल के थे, तब खेलने के दौरान आंखों में चोट लगी.

पंद्रह साल के हुए, तो दिखना पूरी तरह बंद हो गया. अब उनकी उम्र 40 साल है. पत्नी और दो बेटियों के अलावा 70 साल के मां-बाप घर पर हैं. इन सबकी ज़िम्मेदारी उनके कंधे पर है.

आंखें नही होने के कारण उन्हें दिक़्क़त होती थी, लेकिन अब यही विकलांगता उनकी सफलता का रास्ता तैयार कर रही है.

वे ख़ूब काम कर रहे हैं और इससे उनकी कमाई भी बढ़ी है. वे बारीडीह में रहते हैं. यह रांची जिले के ओरमांझी प्रखंड का एक गांव है.

क़रीब 3600 लोगों की आबादी वाले इस गांव के लोगों का मुख्य पेशा खेती-मज़दूरी है.

रामेश्वर महतो भी यही काम करते थे लेकिन उनकी प्रोफ़ाइल में अब एक नया काम जुड़ गया है. अब वे राशन दुकान भी चलाते हैं.

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

विकलांगों का समूह

रामेश्वर महतो बिरसा विकलांग स्वयं सहायता समूह के अध्यक्ष हैं. इस समूह को हाल ही में जन वितरण प्रणाली (पीडीएस) के तहत राशन दुकान चलाने का लाइसेंस मिला है.

बारीडीह गांव के 10 विकलांगों का यह समूह अब अपने गांव के डेढ़ सौ से भी अधिक परिवारों को सरकारी राशन उपलब्ध कराता है.

बीबीसी से बातचीत में रामेश्वर महतो कहते हैं, "आंखें नहीं होने के कारण लोगों की ज़लालत झेलनी पड़ती थी. गांव के दूसरे विकलांग भी इसी भेदभाव के शिकार थे."

"तब हमलोगों ने अपनी तरह के और लोगों को साथ जोड़ा. गांव के दस लोग एकमत हुए और साल-2010 में हमने अपना समूह बना लिया."

"छह साल बाद हमारे समूह को राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (एनआरएलएम) से मान्यता मिल गई और अब हमें राशन दुकान का लाइसेंस मिल गया है."

"अब लोग हमारा उदाहरण देते हैं."

झारखंड: भुखमरी का दाग और विज्ञापन ख़र्च 323 करोड़

विश्व बैंक की टीम को क्यों जाना पड़ा झारखंड

झारखंड की इन औरतों को क्यों चुभता है अफ़ग़ानिस्तान

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC
Image caption नारायण कुमार महतो बिरसा विकलांग सहायता समूह के सचिव हैं

किसी की आंखें नहीं, कोई पैर से लाचार

रामेश्वर महतो, घुमेश्वर मुंडा और सुंदरलाल महतो की आंखें नहीं हैं. नारायण कुमार महतो पैर से लाचार हैं.

तेजनाथ महतो देख और चल तो सकते हैं लेकिन वे बोलने व सुनने में असमर्थ हैं.

तालकेश्वर मुंडा, फागु करमाली, पूरण महतो, नागेश्वर महतो और बलवंत कुमार भी शरीर के किसी न किसी अंग से लाचार हैं.

इसके बावजूद इनका समूह राशन दुकान संचालित कर रहा है. नारायण कुमार महतो बिरसा विकलांग सहायता समूह के सचिव हैं.

पोलियो के कारण बचपन में ही वे पैरों से लाचार हो गए.

पैदल चलने के लिए भले ही उन्हें सहारे की ज़रूरत हो, लेकिन स्कूटी से बनी ट्राईसाइकिल के सहारे वे राशन गोदाम तक चले जाते हैं.

वहां से गाड़ी पर पर राशन लोड करवा कर उसे गांव तक लाना उनकी जिम्मेवारी है.

चर्च के ख़िलाफ़ क्यों उबल रहे हैं आदिवासी ?

अडाणी समूह पर क्यों 'मेहरबान' झारखंड की बीजेपी सरकार

झारखंड : यहां 10 साल से क्यों लागू है धारा 144

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

कैसे करते हैं काम

नारायण महतो ने बीबीसी को बताया, "जिसकी आंखें नहीं हैं, वह आंख वाले की मदद से वज़न उठा लेता है."

"जिसके हाथ नहीं हैं, वह आंखों का इस्तेमाल कर राशन का वज़न कराता है. पैर से लाचार व्यक्ति हिसाब-किताब कर लेता है."

"तो कोई और ग्राहकों के अंगूठे का मिलान और उनसे पैसे लेने का काम करता है. इस तरह हमलोग एक-दूसरे की अपंगता को ख़ारिज कर अपना काम कर लेते हैं."

शव पेड़ से लटकाने के मामले में आठ 'गौरक्षक' दोषी करार

एनआरसी के लिए झारखंड में भटक रहे कई लोग

अडाणी के इस प्रोजेक्ट को लेकर झारखंड में क्यों है रोष

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

ग्राहक भी ख़ुश

सीता देवी का राशन कार्ड इनकी दुकान से संबद्ध है.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "मैं हर महीने यहां से राशन ले जाती हूं. ये लोग जिस तरीक़े से अपना काम निपटाते हैं, वैसा तो शारीरिक तौर पर सक्षम लोग भी शायद नही कर पाएं."

"मुझे ख़ुशी है कि इनलोगों ने विकलांगता से हार नहीं मानी. अब जब एक-दूसरे की सहायता से ये हमे राशन देते हैं, तो हमारी आंखें श्रद्धा से झुक जाती हैं."

झारखंड का वो रेलवे स्टेशन जिसका कोई नाम नहीं

झारखंड बंद: क्यों हो रहा है भूमि अधिग्रहण क़ानून का विरोध

आदिवासियों की ज़िदगी महकाने वाली अगरबत्ती

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

कैसे मिला लाइसेंस

स्वयं सहायता समूहों की निगरानी करने वाली संस्था जेएसएलपीएस के प्रोग्राम मैनेजर कुमार विकास ने बताया कि सरकार ने बारीडीह गांव में राशन दुकान के आवंटन की विज्ञप्ति निकाली थी.

"इस समूह ने इसके लिए आवेदन किया. क्योंकि ये विकलांग थे, लिहाजा राज्य निःशक्तता आयुक्त सतीश चंद्रा ने स्वयं इसमें दिलचस्पी ली और इन्हें लाइसेंस मिल गया."

"राशन दुकान संचालन के साथ ही साप्ताहिक बचत कर ये लोग एक-दूसरे की आर्थिक सहायता भी करते हैं."

"क्योंकि, इनका रजिस्टर अपडेट है इसलिए इन्हें लोन मिलने में भी आसानी होती है. ऐसे में यह समूह हमारे लिए मॉडल बन चुका है."

'14 दिन के बच्चे का 1 लाख 20 हज़ार में सौदा'

कर्ज़ माफ़ी से किसानों का दुख कम होगा या नहीं?

पांच लड़कियों से कथित गैंगरेप में तीन गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट Ravi Prakash/BBC

और कितने विकलांग

इस समूह ने ओरमांझी प्रखंड के कुल 1033 विकलांगों का डेटाबेस तैयार किया है.

इनकी निश्चित अंतराल पर मुलाक़ात होती है और विकलांगों को मिलने वाले मासिक छह सौ रुपये के पेंशन और दूसरी सरकारी योजनाओं को प्राप्त करने में ये एक-दूसरे की सहायता करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार