कौन हैं गुलअफ्शां जिनका नाम रविशंकर प्रसाद ने लोकसभा में लिया?

  • 28 दिसंबर 2017
रवि शंकर प्रसाद, तीन तलाक़, गुलअफ्शां, सदन इमेज कॉपीरइट Getty Images

केंद्र सरकार ने लोकसभा में एक बार में तीन तलाक़ बिल पेश किया और गुरुवार को दिनभर चली बहस के बाद आख़िरकार ये लोकसभा में पास हो गया.

बिल के ख़िलाफ़ विपक्षी सांसद कई संशोधन लेकर आए, लेकिन संख्याबल के आगे ये सभी संशोधन ख़ारिज हो गए. लोकसभा के बाद अब ये बिल राज्यसभा में मंज़ूरी के लिए जाएगा.

22 अगस्त 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने एक बार में तीन तलाक़ को असंवैधानिक बताया था.

बिल पेश करने के दौरान क़ानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि यह मामला महिलाओं की गरिमा से जुड़ा हुआ है.

मसौदा पेश करने के दौरान रविशंकर प्रसाद ने एक मामले का ज़िक्र भी किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने कहा, "आज सुबह मैंने पढ़ा रामपुर की एक महिला को तीन तलाक़ इसलिए दिया गया क्योंकि वो सुबह देर से उठी थी."

बीबीसी ने उस महिला से बात की और पूरा मामला जानने की कोशिश की.

कौन है वो महिला?

उत्तर प्रदेश के रामपुर की रहने वाली गुलअफ़्शा का नाम संसद में भी गूंजा. क़ानून मंत्री ने उनके मामले का हवाला देते हुए मुस्लिम महिलाओं की स्थिति को बयां करने की कोशिश की.

गुलअफ़्शां रामपुर ज़िले की तहसील सदर के नगलिया आकिल गांव में रहती हैं.

गुलअफ्शां और कासिम का घर एक-दूसरे से चंद क़दमों की दूरी पर है. दोनों एक-दूसरे को सालों से जानते थे. जान-पहचान प्यार में बदली और सात महीने पहले दोनों ने शादी कर ली.

गुलअफ्शां के पति कासिम ड्राइवर हैं.

गुलअफ्शां ने हमें बताया, "रविवार की रात को मेरे पति कासिम ने मेरे साथ बहुत मारपीट की थी. मारपीट के चलते मेरी तबियत बिगड़ गई थी और अगली सुबह इसी वजह से मैं थोड़ा देर से उठी."

देर मतलब…?

"मैं थोड़ा देर से सुबह साढ़े आठ बजे सोकर उठी. दरवाज़े के बाहर क़दम रखा और उसके बाद उन्होंने तीन बार तलाक़-तलाक़-तलाक़ कह दिया."

गुलअफ्शां आगे कहती हैं, "जब तक मैं समझ पाती वो तलाक़-तलाक़-तलाक़ कह चुके थे."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

"मैंने उन्हें समझाने की बहुत कोशिश की, लेकिन वो मेरी एक सुनने को राज़ी नहीं थे. एक ही ज़िद्द ठान रखी थी कि अब मुझे नहीं रखना है."

गुलअफ्शां बताती हैं कि कासिम शादी से पहले भी इस तरह की उल-जुलूल हरकतें किया करते थे. फ़ोन कर देते थे कि घर के बाहर आओ वरना मैं ज़हर खा लूंगा. मैं उनकी सुनकर चली जाया करती थी.'

गुलअफ्शां ने बताया, "कासिम की हरकतों से मेरे घर वाले बहुत परेशान हो गए थे. जिसके बाद सात महीने पहले ही उन्होंने हमारा निकाह पढ़वा दिया. हमारी शादी में भी सिर्फ़ 30-35 लोग ही आए थे."

सुबह की तीन तलाक़ की घटना पर गुलअफ्शा कहती हैं कि मेरे ससुराल में तीन लोग और हैं, लेकिन किसी ने कुछ नहीं कहा.

गुलअफ्शां का कहना है कि वो पुलिस के पास भी गई थी और मौखिक शिकायत की थी.

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption सांकेतिक तस्वीर

हालांकि बाद में गुलअफ्शां के परिवार वाले इस मामले को लेकर पंचायत पहुंचे और उसके बाद पंचायत ने पति-पत्नी के बीच सुलह करवा दी.

गुलअफ्शां कहती हैं कि अब हमारी सुलह हो गई है, लेकिन हम शरीयत को मानते हैं तो हलाला के बाद मैं अपने पति के पास चली जाऊंगी.

पंचायत में मौजूद एक शख्स ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि पंचायत में दोनों पक्षों को समझाया गया जिसके बाद दोनों परिवार सुलह के लिए राज़ी हो गए.

तीन तलाक़ बिल को स्थायी समिति को भेजने की विपक्ष की मांग ख़ारिज

बीबीसी ने गुलअफ्शां के पति कासिम से भी बात करने की कोशिश की, लेकिन फिलहाल उनसे संपर्क नहीं हो सका. हालांकि कासिम के भाई मिराज ने बीबीसी को फ़ोन पर बताया कि उनके भाई ने भाभी (गुलअफ्शां) को तलाक़ दे दिया था, लेकिन अब पंचायत के हस्तक्षेप के बाद सुलह हो गई है और हलाला के बाद गुलअफ़्शां वापस आ जाएंगी.

रविशंकर ने बिल पेश करने के दौरान क्या कुछ कहा?

- क्या सदन को खामोश रहना चाहिए? शरिया पर हस्तक्षेप नहीं करना चाहते. यह बिल केवल तीन तलाक़ या तलाक़-ए-बिद्दत पर है. लोकसभा देश की सबसे बड़ी पंचायत से अपील है इस बिल को सियासत की सलाखों से न देखा जाये.

इमेज कॉपीरइट EPA

- दूसरी अपील है कि इसे दलों की दीवार से न बांधा जाये.

- तीसरी अपील है कि इस बिल को मजहब के तराजू पर न तौला जाये.

- चौथी अपील है कि इस बिल को वोट बैंक के खाते से न परखा जाये. ये बिल है हमारी बहनों, बेटियों की इज्ज़त आबरू का."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे