रजनीकांत की राजनीतिक पार्टी बनाने की घोषणा

  • 31 दिसंबर 2017
रजनीकांत इमेज कॉपीरइट Getty Images

दक्षिण भारत के सुपरस्टार अभिनेता रजनीकांत ने अपने प्रशंसकों के सामने राजनीति में आने की घोषणा की.

रजनीकांत ने कहा कि वो तमिलनाडु में होने वाला अगला विधानसभा चुनाव लड़ेंगे. उन्होंने अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने की भी घोषणा की.

रजनीकांत ने कहा कि वो कायर नहीं हैं इसलिए पीछे नहीं हटेंगे. उन्होंने कहा कि वो अपने कर्तव्यों के साथ आगे बढ़ेंगे.

अपने छोटे भाषण में रजनीकांत ने कहा कि तमिलनाडु में लोकतंत्र बुरे दौर से गुज़र रहा है और इसलिए सिस्टम में बदलाव के लिए यह ज़रूरी है. रजनीकांत ने भ्रष्टाचार से लड़ने की भी बात कही.

प्रशंसकों से खचाखच भरे राघवेंद्र कल्याण मंडपम में रजनीकांत ने कहा, ''इस संकट की घड़ी में मैं राजनीति में नहीं आऊंगा तो मेरे लिए शर्म की बात होगी. और यह सिनेमा नहीं सच है.''

रजनीकांत ने लोगों से भी राजनीति में आने की अपील की. उन्होंने तमिलनाडु के हर गांव और गली में जाने की बात कही.

नज़रिया: "रजनीकांत जयललिता की कमी को पूरा नहीं कर सकते"

तो क्या भाजपा से हाथ मिलाएंगे रजनीकांत?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रजनीकांत ने साल 2017 के आख़िर दिन यह घोषणा की है. प्रदेश की लोकप्रिय मुख्यमंत्री जयललिता के निधन के बाद से ही रजनीकांत के राजनीति में आने के कयास लगाए जा रहे थे.

67 साल के रजनीकांत ने कहा, ''प्रदेश में अगले विधानसभा चुनाव के लिए एक नई राजनीतिक पार्टी बनाना वक़्त का तक़ाज़ा है. हम 2021 में तमिलनाडु की सभी 234 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जयललिता के निधन के बाद से तमिलनाडु की राजनीति में एक खालीपन आया है. जयललिता का कद इतना बड़ा था कि उस खालीपन को कांग्रेस या बीजेपी के लिए भरना कोई आसान काम नहीं था.

जया की मौत के बाद से एआईएडीएमके में कलह चरम पर है. पार्टी के भीतर ही कई गुट बन गए हैं.

जयललिता जिस आरके नगर विधानसभा क्षेत्र से विधायक बनती थीं वहां हाल ही में उपचुनाव हुआ है. एआईएडीएमके से बाहर कर दिए गए दिनाकरण इस प्रतिष्ठित सीट को जीतने में कामयाब रहे. मुख्यमंत्री ई पलनीसामी कैंप के लिए यह हार शर्मिंदगी की वजह बनी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे