कोरेगांव हिंसा के विरोध में महाराष्ट्र बंद: अब तक का हाल

  • 3 जनवरी 2018
मुंबई इमेज कॉपीरइट BBC/Amir Khan

महाराष्ट्र के कोरेगांव भीमा में हुई हिंसा के विरोध में दलित संगठनों ने आज प्रदेश बंद बुलाया है.

बंद का असर मुंबई, पुणे और औरंगाबाद में ज़्यादा है, हालांकि कहीं से किसी तरह के नुकसान की ख़बर नहीं है.

बंद के मद्देनज़र राज्य में कड़े सुरक्षा इंतज़ाम किए गए हैं.

इमेज कॉपीरइट SAGAR KASAR/BBC
Image caption कड़े सुरक्षा इंतज़ाम

सरकारी बसें न चलने से लोगों को परेशानी हो रही है.

इमेज कॉपीरइट PRAVIN THAKARE /BBC
Image caption नासिक में बस सेवा ठप होने से परेशान यात्री

प्रदर्शनकारियों ने सुबह गोरेगांव, विरार, ठाणे, नालासोपारा में ट्रेनें रोकीं लेकिन फ़िलहाल इन इलाक़ों में ट्रेन सेवा बहाल कर दी गई है.

इमेज कॉपीरइट PRASHANT NANAVARE
Image caption कुछ रूट पर ट्रेने रोकी गईं लेकिन फ़िलहाल सेवा बहाल कर दी गई है

मुंबई में आज एसी लोकल नहीं चलेंगी. बेस्ट की बसों पर भी बंद का थोड़ा असर है हालांकि कुल 2964 सेवाओं में से 2600 सेवाएं चालू हैं. घाटकोपर और चेंबूर में सुबह रास्ता रोका गया लेकिन किसी नुकसान या हिंसा की ख़बर नहीं है.

इमेज कॉपीरइट SHARAD BADHE/BBC
Image caption चेंबूर में रास्ता रोकने की कोशिश करते लोग

कल की घटना के बाद औरंगाबाद में धारा 144 लगा दी गई थी. वहां आज इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं.

इमेज कॉपीरइट ANIL SHINDE/BBC

ठाणे में सबुह शांतिपूर्ण मोर्चा निकाला गया लेकिन दोपहर तक कुछ बसों में तोड़फोड़ की ख़बर आई.

क्या हुआ था कोरेगांव में

कोरेगांव भीमा में सोमवार को एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिस दौरान अचानक हिंसा भड़क उठी जिसमें एक शख्स की मौत हो गई.

यह समारोह 200 साल पहले हुई एक घटना की खुशी मनाने के लिए रखा गया था.

इमेज कॉपीरइट MAYURESH KUNNUR/BBC

एक जनवरी 1818 को कोरेगांव भीमा में 'अछूत' माने जाने वाले आठ सौ महारों ने चितपावन ब्राह्मण पेशवा बाजीराव द्वितीय के 28 हज़ार सैनिकों को हरा दिया था.

ये महार सैनिक ईस्ट इंडिया कंपनी की ओर से लड़े थे और इसी युद्ध के बाद पेशवाओं के राज का अंत हुआ था.

Image caption कोरेगांव भीमा में सोमवार को एक समारोह के दौरान हिंसा भड़क उठी

सोमवार के समारोह में हुई हिंसा का का असर जल्दी ही सारे महाराष्ट्र में दिखने लगा.

विरोध कर रहे लोगों ने मुंबई और पुणे में रास्ते जाम किए, पत्थरबाज़ी की और गाड़ियों में आग लगा दी. तक़रीबन 176 बसों में तोड़फोड़ की गई.

दोपहर आते-आते हालात इतने बिगड़ गए कि मुख्यमंत्री के पुणे में होने वाले एक कार्यक्रम को भी रद्द कर दिया गया. औरंगाबाद में धारा 144 लागू कर दी गई.

राज्य सरकार ने मामले की न्यायिक जांच के आदेश और मृतक के परिवार को दस लाख का मुआवज़ा देने का एलान किया.

लेकिन डॉक्टर भीमराव आंबेडकर के पोते और एक्टिविस्ट प्रकाश आंबेडकर ने इस पर असंतोष जताया. आंबेडकर की मांग है कि मामले की जांच किसी ग़ैर दलित सिटिंग जज से कराई जाए और उन्हें सबूत जमा करने और सज़ा देने की ताक़त भी दी जाए.

आंबेडकर समेत आठ संगठनों ने बुधवार को महाराष्ट्र बंद का आह्वान किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए