सरकार का अनुमान, 2017-18 में घटेगी जीडीपी ग्रोथ

  • 6 जनवरी 2018
नरेंद्र मोदी, अरुण जेटली, जीडीपी दर, भारतीय अर्थव्यवस्था इमेज कॉपीरइट Getty Images

अर्थव्यस्था में सुस्ती को लेकर विपक्ष का निशाना बन रही नरेंद्र मोदी सरकार को एक और झटका लगा है.

आगामी वित्त विर्ष में देश की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) दर में कमी का अनुमान लगाया गया है.

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय ने साल 2017-18 में देश की अर्थव्यवस्था की रफ़्तार धीमी रहने की संभावना जताई है.

मंत्रालय द्वारा जारी की गई रिपोर्ट 'राष्ट्रीय आय 2017-18 का पहला अग्रिम अनुमान' में ये आकंड़े दिए गए हैं.

क्या जीडीपी के बारे में सब कुछ जानते हैं?

जीडीपी के आंकड़े: मोदी सरकार के लिए अच्छी ख़बर!

इमेज कॉपीरइट DIPTENDU DUTTA/AFP/GETTY IMAGES

जीडीपी की दर कम रहने का अनुमान

इस रिपोर्ट में दिए गए आंकड़ों में आगामी वित्त वर्ष 2017-18 में जीडीपी की दर 6.5 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया है जबकि 2016-17 में यह दर 7.1 प्रतिशत थी.

इससे पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली भी संसद में मान चुके हैं कि वित्त वर्ष 2016-17 में विकास ​दर धीमी पड़ी है.

हाल ही में साल की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में जीडीपी आंकड़ों ने एक बार फिर से रफ़्तार पकड़ी थी. देश की जीडीपी में पिछली पांच तिमाहियों से चली आ रहा गिरावट का सिलसिला टूटा था.

केंद्रीय सांख्यिकी संगठन ने दूसरी तिमाही में विकास दर 6.3 फ़ीसदी बताई थी. वहीं, जून में खत्म हुई तिमाही में जीडीपी की दर 5.7 फ़ीसदी दर्ज की गई थी.

इमेज कॉपीरइट REBECCA CONWAY/AFP/GETTY IMAGES

दूसरी तिमाही में​ विकास दर के आंकड़ों में वृद्धि के बाद सरकार ने भी अर्थव्यवस्था के आगे मजबूत होने की उम्मीद जताई थी लेकिन ताज़ा आंकड़े विकास दर में बहुत ज्यादा बदलाव नहीं दिखा रहे हैं.

विपक्षी दल लगातार अर्थव्यवस्था में सुस्ती के लिए भारत सरकार की आर्थिक नीतियों को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं जिनमें नोटबंदी और जीएसटी प्रमुख हैं. मगर सरकार जल्द ही अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने की बात कह रही है.

वहीं, इन आंकड़ों की जानकारी देते हुए बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने भी ट्वीट किया.

अपने ट्वीट में स्वामी ने लिखा, ''भारत को ग़रीबी खत्म करने के लिए अगले 10 सालों में कम से कम 10 प्रतिशत विकास दर की जरूरत है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे