सज़ा पर लालू: 'सामाजिक न्याय और एकता के लिए मरने को तैयार'

  • 6 जनवरी 2018
लालू प्रसाद यादव इमेज कॉपीरइट Getty Images

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद को चारा घोटाला मामले में साढ़े तीन साल की सजा और पांच लाख रुपये जुर्माना लगाए जाने के बाद उन्होंने एक ट्वीट करके बीजेपी पर निशाना साधा.

लालू ने ट्वीट किया, ''बीजेपी के नियम- हमारे साथ रहो वरना हम तुम्हें ठिकाने लगाने देंगे, को अपनाने से बेहतर हैं कि मैं सामाजिक न्याय, एकता और बराबरी के लिए जान दे दूंगा.''

उनके बेटे तेजस्वी यादव ने सज़ा सुनाए जाने के वक्त ही लालू प्रसाद की लिखी एक चिट्टी जारी की है.

तेजस्वी यादव ने लिखा कि ये चिट्ठी उनके पिता लालू प्रसाद ने बिहार की जनता के नाम लिखी है. चिट्ठी में लालू प्रसाद के हवाले से लिखा गया है, ''आप सबों के नाम ये पत्र लिख रहा हूं और याद कर रहा हूं अन्याय और गैर बराबरी के खिलाफ अपने सफ़र को... सोच रहा हूं अपने दलित पिछले और अत्यंत पिछड़े जनों के बाकी बचे अधिकारों की लड़ाई को.''

चिट्ठी में लालू ने लिखा, ''इतिहास गवाह है कि मनुवादी सामंतवाद की शक्तियां कहां कहां और कैसे सक्रिय होकर न्याय के नाम पर अन्याय करती आई हैं. शुरू से ही इन शक्तियों को हजम नहीं हुआ कि एक पिछड़े गरीब घर का बेटा दुनिया को रास्ता दिखाने वाले बिहार जैसे राज्य का मुख्यमंत्री बने. यही जननायक कर्पूरी ठाकुर के साथ हुआ.''

चारा घोटाले में लालू यादव को साढ़े तीन साल की सज़ा

लालू को जेल का क्या सियासी नफ़ा-नुक़सान?

''आडवाणी का रथ रोकते हुए मैंने सत्ता नहीं देखी ''

लालू प्रसाद की चिट्ठी में जेपी आंदोलन, समाज में उस वक़्त फैले ऊंच-नीच और उनके जेल जाने तक का विस्तार से जिक्र किया गया है. वो लिखते हैं, ''लालू का रास्ता सच के लिए संघर्ष का रास्ता है. इसलिए जनता ही जनार्दन है और उसकी बेहतर ज़िंदगी ही मेरे जीवन का ध्येय है ना कि कुर्सी. यही वजह है कि आडवाणी का रथ रोकते हुए मैंने सत्ता नहीं देखी थी. मेरे ज़मीर ने कहा कि ये रथ बिहार के भाईचारे को कुचलता है तो रोक दिया रथ.''

चिट्ठी में लालू ने आरोप लगाए कि किस तरह उन्हें सीबीआई का डर दिखाया गया, उनके बेटों के ख़िलाफ़ केस किए गए. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि मौजूदा सरकार से समर्थन प्राप्त कई संस्थान उनके पीछे लगाए गए और झूठी कहानियां बनाकर दुश्मनी निकाल रहे हैं.

चिट्ठी में आगे लिखा है, ''मैं किसी से डरकर नहीं, डटकर लड़ाई लड़ता हूं. मैं आंख में आंख नहीं जरूरत पड़ने पर आंखों में उंगली डालकर भी बात करना जानता हूं.''

उन्होंने चिट्ठी में लिखा, 'लालू आज भी ज़मीन पर ग़रीब के बीच रहता है और देखता है कि किस तरह लोगों को सताया जा रहा है. इन लोगों की परेशानी मुझे चैन से सोने नहीं देती.''

क्या है बिहार का चारा घोटाला?

क्रोसना चूहे का स्वाद याद है आपको, लालू जी?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लालू प्रसाद और उनकी पार्टी की ओर से लगाए जा रहे पक्षपात और दबाव के आरोपों पर बिहार बीजेपी के नेता सुशील मोदी ने ट्वीट किया, ''हमने लालू पर जो आरोप लगाए थे सच साबित हुए. सजा तो सजा होती है चाहे साढ़े तीन साल हो या सात साल.''

दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, ''जब लालू पर चारा घोटाला मामले में केस चल रहा था तब एआर किदवई और देव गौड़ा बीजेपी के लोग नहीं थे. हाईकोर्ट इस मामले को मॉनिटर कर रहा था. लालू अपने शासन काल के दौरान जेल गए. इसमें पक्षपात कहां से आ गया?''

इमेज कॉपीरइट Twitter

बीजेपी नेता शाहनवाज़ हुसैन ने कहा, ''बिहार की जनता को न्याय मिला है. ये बिहार की जनता पैसा था. क़ानून से बड़ा कोई नहीं है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे