बहरीन में राहुल ने कहा- रहस्यमय तरीक़े से मर रहे हैं जज

  • 9 जनवरी 2018
राहुल गांधी इमेज कॉपीरइट Office of RGV Twitter

कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी ने सोमवार को बहरीन में भारतीयों को संबोधित किया. इस दौरान राहुल ने मोदी सरकार की नीतियों और काम करने के तरीक़ों पर जमकर हमला बोला.

राहुल ने यह भी कहा कि संवेदनशील मामलों की जांच कर रहे जजों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो रही है.

राहुल ने अपने भाषण की शुरुआत बचपन की एक याद से की. राहुल ने कहा कि बचपन में उन्हें केमिस्ट्री की एक टीचर पढ़ाती थीं.

सीबीआई जज की मौत की जाँच होनी चाहिए: जस्टिस शाह

सीबीआई जज लोया की मौत के मामले में नया मोड़

नज़रिया: नरेंद्र मोदी की राह पर ही चल रहे राहुल गांधी

उन्होंने कहा, ''वो बहरीन में काम करती थीं. वो मुझसे हमेशा कहती थीं कि एक दिन तुम बहरीन ज़रूर जाना और देखना कि वहां कैसे काम हुआ है. वो यह भी कहती थीं कि वहां जो भारतीय समुदाय के लोग वहां हैं, उन्हें लोगों ने कैसे स्वीकार किया है. उनके साथ कोई भेदभाव नहीं होता है. वो यह भी कहती थीं कि बहरीन के निर्माण में भारतीयों का बड़ा योगदान है.''

राहुल ने भारतीयों को संबोधित करते हुए कहा कि देश कई समस्याओं से जूझ रहा है. कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ''इन समस्याओं के समधान का हिस्सा आप भी हैं इसीलिए मैं यहां हूं. मैं कांग्रेस पार्टी का प्रमुख हूं और इसका जन्म ही लोगों को साथ लाने के लिए हुआ था.''

राहुल ने कहा कि भारत के निर्माण में एनआरआई समुदाय की बड़ी भूमिका रही है. उन्होंने कहा कि देश के तीन बड़े और महान नेता महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और भीमराव आंबेडकर कभी न कभी एनआरआई रहे हैं.

राहुल ने कहा कि दक्षिण अफ़्रीका से वापस आने के बाद महात्मा गांधी ने जिस दर्शन को स्थापित किया वो भारतीय दर्शन था.

राहुल ने कहा कि गांधी के दर्शन में जाति और धर्म के आधार पर विभेद नहीं किया गया. कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि भारत ने लंबा सफ़र इसी दर्शन की बुनियाद पर किया है, लेकिन अब ख़तरे मंडरा रहे हैं.

राहुल ने कहा, ''आज भारत में जो सरकार है वो लोगों को रोज़गार नहीं दे पा रही है.''

कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ''हमारा मुख्य प्रतिद्वंद्वी चीन हर 24 घंटे में 50 हज़ार रोज़गार पैदा कर रहा है जबकि भारत 400 नौकरियां ही पैदा कर रहा है. मतलब जिस काम को चीन दो दिन में कर रहा है, उसे करने मे भारत को दो साल लग रहे हैं. यह मेरा आंकड़ा नहीं है बल्कि यह भारत सरकार का आंकड़ा है.''

राहुल ने कहा, ''नौकरी पैदा करने में भारत पिछले आठ सालों में सबसे निचले स्तर पर आ गया है. नए निवेश के मामले में भारत पिछले 13 सालों में निचले स्तर पर आ गया है. नोटबंदी के फ़ैसले के कारण दुनिया भर के भारतवंशियों की कमाई को चोट पहुंची है. भारत की आर्थिक विकास की गति थम गई है. भारत इन नीतियों के सहारे आगे नहीं बढ़ सकता. हमारा देश दुनिया में दूसरा सबसे ज़्यादा आबादी वाला देश है.''

कांग्रेस प्रमुख ने कहा, ''हर दिन 30 हज़ार युवा भारत के जॉब मार्केट में आ रहे हैं. नौकरी पैदा नहीं होने से लोगों में ग़ुस्सा है और इस महसूस भी किया जा रहा है. युवक सवाल पूछ रहे हैं कि उनके भविष्य का क्या होगा. जहां हमें नौकरी पैदा करने और विश्व स्तरीय शिक्षा की व्यवस्था करने पर काम करना चाहिए था वहां नफ़रतें फैलाई जा रहीं हैं. अलग-अलग समुदायों के बीच खाई पैदा की जा रही है.''

राहुल ने कहा, ''दुख है कि हमारे देश में असली समस्याओं पर बात नहीं हो रही है. बात इस पर हो रही है कि क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए. एक्टिविस्ट और पत्रकारों को स्वतंत्र रूप से काम करने की क़ीमत चुकानी पड़ रही है. किसी ख़ास धार्मिक आस्था के होने के कारण लोगों को मारा जा रहा है. संवेदनशील मामलों की जांच कर रहे जजों की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हो रही है. इतना कुछ हो रहा है लेकिन सरकार ख़ामोश है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए