वो दृष्टिहीन हैं लेकिन इस दुनिया को कैमरे में कैद करते हैं

वो दृष्टिहीन हैं लेकिन इस दुनिया को कैमरे में कैद करते हैं

"मैं देख नहीं सकता और ये एक ऐसी सच्चाई है जिसे मैं बदल नहीं सकता तो, मैं उस पर बैठकर आंसू बहाने या दुखी होने से बेहतर परेशानियों का निपटारा करने का सोचता हूं."

वीडियो: काशिफ़ सिद्दिकी, प्रीतम रॉय/ भूमिका राय

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)