जम्मू-कश्मीर में सेना-पुलिस आमने-सामने?

  • 28 जनवरी 2018
जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शोपियां के थाने में किया है मामला दर्ज इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शोपियां के थाने में किया है मामला दर्ज

भारत-प्रशासित कश्मीर में शनिवार को सेना की फ़ायरिंग में मारे गए दो युवाओं के मामले में पुलिस ने सेना के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया है.

दक्षिणी कश्मीर के शोपियां ज़िले के गोवांपोरा में सेना की फ़ायरिंग में 20 साल के जावेद अहमद बट और 24 साल के सुहैल जावेद की मौत हुई थी.

पुलिस ने शोपियां के सदर थाने में सेना की यूनिट के ख़िलाफ़ हत्या (धारा 302), हत्या की कोशिश (धारा 306) और ज़िंदगी को ख़तरे (धारा 336) की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है.

दर्ज की गई एफआईआर में सेना के मेजर आदित्य का नाम दर्ज किया गया है और बताया गया है कि जिस समय सेना ने गोली चलाई उस समय मेजर अद्वितीय 10 गढ़वाल यूनिट का नेतृत्व कर रहे थे.

कश्मीर में सेना की फ़ायरिंग में दो की मौत

करणी सेना क्या है और कैसे काम करती है?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption सेना ने नहीं दिया फ़ोन कॉल का जवाब

सेना का नहीं आया जवाब

पुलिस प्रमुख शेष पॉल वैद ने बीबीसी को बताया कि इस मामले में सेना के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया गया है. साथ ही उनका यह भी कहना था कि इस मामले में आगे देखा जाएगा कि यह घटना किस हालात में पेश आई.

सेना के प्रवक्ता से उनकी प्रतिकिया जानने की कोशिश की गई तो सेना ने किसी भी फ़ोन कॉल का जवाब नहीं दिया.

सेना ने शनिवार को घटना के बाद बताया था कि उन्होंने मजबूर होकर आत्मसुरक्षा में गोली चलाई थी.

सरकार ने भी शनिवार को इस मामले में मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं और 20 दिनों तक रिपोर्ट तैयार करने को कहा है.

अलगाववादियों ने रविवार को शोपियां में मारे गए दो युवकों की मौत के ख़िलाफ़ बंद बुलाया था. अलगाववादियों द्वारा बंद बुलाने पर कश्मीर घाटी में सभी दुकानें बंद रहीं और सड़कों पर ट्रैफिक गायब रहा.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption महबूबा मुफ़्ती का कहना, इससे पड़ता है शांति वार्ता पर असर

मुफ़्ती ने की रक्षा मंत्री से बात

शोपियां में युवकों की मौतों के बाद कश्मीर में तनाव जैसे हालात हैं. कश्मीर में बंद को देखते हुए रविवार को रेल सेवा को बंद कर दिया गया है.

शनिवार रात से ही दक्षिणी कश्मीर में इंटरनेट सेवा को भी बंद कर दिया गया है.

राज्य की मुख्य्मंत्री महबूबा मुफ़्ती ने शोपियां में मारे गए युवाओं पर शोक व्यक्त किया. मुख्यमंत्री ने इस घटना के बाद केंद्रीय रक्षा मंत्री से फ़ोन पर बात की थी और उनसे कहा कि शोपियां जैसी घटनाओं से जम्मू-कश्मीर में शुरू की गई शांति वार्ता पर बुरा प्रभाव पड़ता है.

'ख़ून से इतिहास लिखने वाले' करणी सेना के कालवी

देश करणी सेना चलाएगी या भारत का संविधान?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे