क्या है एक साथ हुआ सुपरमून, ब्लूमून और चंद्रग्रहण?

  • 31 जनवरी 2018
28 सितंबर 2015 को इंग्लैंड में दिखा सुपरमून इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption 28 सितंबर 2015 को इंग्लैंड में दिखा सुपरमून

31 जनवरी को भारत और दुनिया भर के लोगों को एक दुर्लभ खगोलीय घटना देखने को मिली. यह मौका था 'ब्लडमून', 'सुपरमून' और 'ब्लूमून' का.

एक साथ ये तीनों घटनाएं भारत के लोग शाम 6.21 बजे से 7.37 बजे तक देख सके.

इस दौरान चंद्रमा आम दिनों की तुलना में अधिक बड़ा और चमकदार दिखा. यह 2018 का पहला चंद्रग्रहण था और इस दौरान यह लाल भी दिखा.

नासा का सबसे अच्छा नज़ारा भारत और ऑस्ट्रेलिया में दिखेगा.

भारत में 76 मिनट के लिए लोग बिना टेलीस्कोप या उपकरण की मदद के अपनी आंखों से सीधे इस दुर्लभ खगोलीय घटना को देख सके.

कहीं आप भी तो नहीं डरते ग्रहण से?

बर्फ़ जमा चांद देखा है कभी!

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
152 साल बाद फिर हुई ये घटनाएं

भारत के अलावा यह दुर्लभ नज़ारा समूचे उत्तर अमरीका, प्रशांत क्षेत्र, पूर्वी एशिया, रूस के पूर्वी भाग, इंडोनेशिया, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड में भी दिखने की बात कही गई है.

चलिए यह जानते हैं कि यह चंद्रग्रहण इतना महत्वपूर्ण क्यों है? वैज्ञानिकों के लिए यह महत्वपूर्ण कैसे है? आख़िर सुपरमून, ब्लूमून और ब्लडमून होता क्या है?

इमेज कॉपीरइट GAVIN JACKMAN

31 जनवरी का चंद्रग्रहण तीन कारणों से खास

सुपरमूनः लोगों के पास दो महीने के भीतर लगातार तीसरी बार सुपरमून देखने का मौका था. इससे पहले 3 दिसंबर और 1 जनवरी को भी सुपरमून दिखा था.

सुपरमून वह खगोलीय घटना है जिसके दौरान चंद्रमा पृथ्वी के सबसे करीब होता है और 14 फ़ीसदी अधिक चमकीला भी. इसे पेरिगी मून भी कहते हैं. धरती से नजदीक वाली स्थिति को पेरिगी (3,56,500 किलोमीटर) और दूर वाली स्थिति को अपोगी (4,06,700 किलोमीटर) कहते हैं.

ब्लूमूनः यह महीने के दूसरे फुल मून यानी पूर्ण चंद्र का मौक़ा भी है. जब फुलमून महीने में दो बार होता है तो दूसरे वाले फुलमून को ब्लूमून कहते हैं.

ब्लडमूनः चंद्र ग्रहण के दौरान पृथ्वी की छाया की वजह से धरती से चांद काला दिखाई देता है. 31 तारीख को इसी चंद्रग्रहण के दौरान कुछ सेकेंड के लिए चांद पूरी तरह लाल भी दिखाई दिया. इसे ब्लड मून कहते हैं.

यह स्थिति तब आती है जब सूर्य की रोशनी छितराकर चांद तक पहुंचती है. परावर्तन के नियम के अनुसार हमें कोई भी वस्तु उस रंग की दिखती है जिससे प्रकाश की किरणें टकरा कर हमारी आंखों तक पहुंचती है. चूंकि सबसे लंबी तरंग दैर्ध्य (वेवलेंथ) लाल रंग का होती है और सूर्य से सबसे पहले वो ही चांद तक पहुंचती है जिससे चंद्रमा लाल दिखता है. और इसे ही ब्लड मून कहते हैं.

इमेज कॉपीरइट ROSS HARWOOD

कब लगता है चंद्रग्रहण?

सूर्य की परिक्रमा के दौरान पृथ्वी, चांद और सूर्य के बीच में इस तरह आ जाती है कि चांद धरती की छाया से छिप जाता है. यह तभी संभव है जब सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा अपनी कक्षा में एक दूसरे के बिल्कुल सीध में हों.

पूर्णिमा के दिन जब सूर्य और चंद्रमा की बीच पृथ्वी आ जाती है तो उसकी छाया चंद्रमा पर पड़ती है. इससे चंद्रमा के छाया वाला भाग अंधकारमय रहता है. और इस स्थिति में जब हम धरती से चांद को देखते हैं तो वह भाग हमें काला दिखाई पड़ता है. इसी वजह से इसे चंद्र ग्रहण कहा जाता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

खगोल वैज्ञानिकों के लिए मौका

33 साल से कम उम्र के लोगों के लिए यह पहला मौका है जब वो ब्लड मून देख सकते हैं. नासा के अनुसार पिछली बार ऐसा ग्रहण 1982 में लगा था और इसके बाद ऐसा मौका 2033 में यानी 25 साल के बाद आएगा.

खगोल वैज्ञानिकों के लिए भी यह घटना बेहद महत्वूपर्ण मौका था. उन्हें इस दौरान यह देखने का मौका मिला कि जब तेज़ी से चंद्रमा की सतह ठंडी होगी तो इसके क्या परिणाम होंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए