सोशल: बजट के बारे में क्या कह रहे हैं आम लोग

  • 1 फरवरी 2018
अरुण जेटली, बजट, बजट 2018 इमेज कॉपीरइट Getty Images

मोदी सरकार वित्त वर्ष 2018-19 का बजट पेश कर चुकी है. अब चर्चा इस बारे में हो रही है कि बजट है कैसा.

गरीबों को क्या मिला, किसानों को क्या मिला, मिडिल क्लास को क्या मिला और आम आदमी को क्या मिला. फ़ेसबुक और ट्विटर समेत सभी सोशल मीडिया प्लैटफ़ॉर्म्स पर ज़ोरदार चर्चा हो रही है.

ट्विटर पर #Budget2018, #Arun Jaitley और #FinanceMinister टॉप ट्रेंड में शामिल हैं.

बजट को लेकर कुछ लोग गंभीर बातचीत कर रहे हैं तो कुछ हंसी-मज़ाक में मशगूल हैं. लोग एक से बढ़कर एक चुटकुले और मीम्स शेयर कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

अमितेष श्रीवास्तव ने लिखा, "कड़ाही-कलछी के लिए बजट में कुछ नहीं है. पकौड़े कैसे बनेंगे?''

इमेज कॉपीरइट Twitter

चंदन ने ट्वीट किया, "वो 15 लाख रुपये 2019 से पहले मिल जाते तो थोड़ी-बहुत आर्थिक मदद हो जाती."

एक दूसरे ट्विटर यूज़र ने तंज किया, "मित्रों! कल रात में चांद दिखा दिया ना. अब दिन में तारे दिखेंगे."

इमेज कॉपीरइट Twitter

बजट पेश होने एक महाशय का ग़म शायरी के रूप में कुछ ऐसे फूटा-

इमेज कॉपीरइट Twitter

अमरीश जानना चाहते हैं कि आखिर कब तक किसानों की आय दोगुनी होगी?

इमेज कॉपीरइट Twitter

श्रीओम कुमार बजट को राजस्थान उपचुनाव में बीजेपी की हार से जो़ड़कर देखते हैं. उन्होंने लिखा, "बजट से आम आदमी उतना ही ख़ुश है जितना बीजेपी राजस्थान उपचुनाव के नतीजों से."

इमेज कॉपीरइट Twitter

हालांकि ऐसा भी नहीं कि लोग सिर्फ सरकार की आलोचना ही कर रहे हैं. कई लोग बजट से खुश भी नज़र आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter

बृजेश ने ट्वीट किया, "वास्तविक और ईमानदार, कृषि और स्वास्थ्य और शिक्षा पर फ़ोकस. सबका साथ, सबका विकास."

इमेज कॉपीरइट Twitter

रोनक जैन ने लिखा,"भारत का ओबामा केयर. 10 करोड़ गरीब परिवारों के लिए स्वास्थ्य बीमा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए