प्रेस रिव्यू: दिल्ली में बीच सड़क पर युवक की हत्या से सांप्रदायिक तनाव

  • 3 फरवरी 2018
सुरक्षाबल इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

पुलिस का कहना है कि पश्चिमी दिल्ली के रघुबीर नगर में 23 वर्षीय एक फ़ोटोग्राफ़र अंकित सक्सेना की एक युवती के परिवार के चार सदस्यों के साथ बहस के बाद कथित तौर पर हत्या कर दी गई. वहीं, युवती अंकित का एक मेट्रो स्टेशन के बाहर इंतज़ार कर रही थी.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, पश्चिमी दिल्ली के पुलिस उपायुक्त विजय सिंह ने कहा कि अंकित सक्सेना के अल्पसंख्यक समुदाय की 20 वर्षीय युवती के साथ कथित संबंध थे.

पुलिस के अनुसार, युवती के पिता, चाचा और उसके 16 वर्षीय भाई ने उनके संबंधों को लेकर आपत्ति जताई और उससे दूर रहने को कहा. इसके बाद बहस के बाद युवती के पिता ने सड़क पर ही कथित तौर पर अंकित की गला रेत कर हत्या कर दी.

घटना के बाद सांप्रदायिक तनाव देखा गया जिसके बाद इलाके में भारी सुरक्षाबल तैनात कर दिया गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

होम गार्ड प्रमुख ने ली मंदिर निर्माण की शपथ

उत्तर प्रदेश होम गार्ड के महानिदेशक सूर्य कुमार एक सार्वजनिक कार्यक्रम में कथित तौर पर अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर प्रतिज्ञा लेते हुए एक वीडियो में दिखाई दिए हैं जिसके बाद विवाद पैदा हो गया है.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के अनुसार, सूर्य कुमार राज्य में दूसरे सबसे वरिष्ठ आईपीएस अफ़सर है और पिछले महीने तक वह पुलिस प्रमुख की रेस में थे.

लखनऊ विश्वविद्यालय में हुए 'राम मंदिर निर्माण समस्या एवं समाधान' नामक कार्यक्रम में 1982 बैच के आईपीएस अफ़सर सूर्य कुमार ने दूसरे लोगों के साथ शपथ ली. यह कार्यक्रम कुछ दिनों पहले अखिल भारतीय समग्र विचार मंच द्वारा आयोजित किया गया था.

इस विवाद के बाद सूर्य कुमार ने शुक्रवार को बयान जारी कर कहा कि वह इस कार्यक्रम में अतिथि के तौर पर गए जिसका उद्देश्य राम मंदिर समस्या का सौहार्दपूर्ण समाधान खोजना था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

बोफ़ोर्स मामले में सीबीआई की चुनौती

बोफ़ोर्स मामले में अटॉर्नी जनरल की राय के उलट सीबीआई ने दिल्ली हाईकोर्ट से हिंदुजा भाइयों को बरी किए जाने के फ़ैसले को 12 साल बाद सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है.

नवभारत टाइम्स की ख़बर के अनुसार, बीजेपी बोफ़ोर्स को चुनावी मुद्दा बनाती रही है, अब 2019 के आम चुनावों से पहले सीबीआई का यह फैसला अहम है.

हाल में अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने सीबीआई को सलाह दी थी कि चूंकि वक्त काफी गुजर चुका है, इसलिए उनके मुताबिक इस मामले में अपील ख़ारिज हो सकती है.

सूत्रों के मुताबिक, सीबीआई ने अपने कानून के विशेषज्ञों से सलाह ली और इस मामले में राय बनी की बोफ़ोर्स मामले में अपील दाख़िल की जाए. सीबीआई ने अपनी अपील में कहा है कि अपराध कभी नहीं मरता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

पूर्व छात्र ने लगाई विश्वविद्यालय में आग

गुजरात के वडोदरा की महाराजा सयाजीराव विश्वविद्यालय के फैकल्टी ऑफ़ फ़ाइन आर्ट्स के एक पूर्व छात्र ने कई दफ़्तरों में आग लगा दी.

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के अनुसार, एम.ए. के पूर्व छात्र एस. चंद्रमोहन ने बाद में पुलिस से कहा कि 11 साल बाद भी डिग्री न मिलने से वह परेशान थे.

चंद्रमोहन शाम को पेट्रोल और खिलौने वाली बंदूक के साथ विश्वविद्यालय कैंपस आए और एक दफ़्तर में उनके जाने के बाद वहां से आग की लपटें निकलने लगीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे