रफ़ाल सौदे में ऐसा 'गोपनीय' है क्या?

  • 7 फरवरी 2018
रफ़ाल विमान इमेज कॉपीरइट Reuters

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फ्रांस के साथ हुए रफ़ाल सौदे को एक घोटाला बताया है. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन ने संसद में दिए अपने बयान में कहा था कि इस समझौते का ब्यौरा नहीं दिया जा सकता क्योंकि ये 'गोपनीय जानकारी' है.

इस पर राहुल गांधी का कहना है कि 'एक क़ारोबारी' को लाभ पहुंचाने की मंशा से सौदे को बदलने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ख़ुद पेरिस गए थे.

'रफ़ाल सौदे में ग़ायब है मेक इन इंडिया'

इमेज कॉपीरइट Reuters

समाचार एजेंसी एएनआई ने राहुल गांधी के हवाले से ख़बर दी है, ''रक्षा मंत्री का कहना है कि हम राफ़ाल विमान खरीदने के लिए भुगतान की गई राशि नहीं बताएंगे, इसका क्या मतलब है? इसका यही मतलब है कि ये एक घोटाला है. सौदे को बदलने के लिए मोदीजी खुद पेरिस गए थे. पूरा देश इस बारे में जानता है.''

इमेज कॉपीरइट Twitter

समाजवादी पार्टी के सांसद नरेश अग्रवाल ने जानना चाहा था कि सरकार रफ़ाल सौदे का ब्यौरा क्यों नहीं दे रही, जिसके बारे में कांग्रेस का दावा है कि यूपीए सरकार ने जो सौदा किया था, उसकी राशि कम थी जबकि एनडीए सरकार ने उसी सौदे के लिए अधिक राशि का भुगतान किया.

समाचार एजेंसियों के मुताबिक, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन का कहना है, ''रफ़ाल विमान की ख़रीद के लिए भारत और फ्रांस की सरकार के बीच जो समझौता हुआ है, उसके आर्टिकल 10 के मुताबिक सौदे की जानकारी गोपनीय रखी जाएगी.''

इमेज कॉपीरइट PIB/TWITTER

गोपनीयता पर सवाल

इमेज कॉपीरइट Twitter

वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता ने इस पूरे घटनाक्रम पर एक ट्वीट के ज़रिए कहा है कि सरकार इस 'गोपनीय क्लॉज़' से अपने लिए और भारतीय वायुसेना के लिए गढ्ढा खोद रही है. किसी और सरकार ने ऐसा कहा होता और बीजेपी विपक्ष में होती तो सोचिए क्या होता.

इमेज कॉपीरइट Twitter

शेखर गुप्ता के इस ट्वीट के जबाव में किए गए ट्वीट में कहा गया है कि बीजेपी यदि विपक्ष में होती तो संसद का पूरा सत्र इस मामले की भेंट चढ़ जाता...शायद इसीलिए कहा जाता है कि कांग्रेस के लिए सत्ता और बीजेपी के लिए विपक्ष की भूमिका बेहतर है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

बीनू भास्करन नामक एक यूज़र ने राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए कहा है कि रफ़ाल से पहले उन्हें बोफोर्स के बारे में कुछ बोलना चाहिए.

'रफ़ाल जैसा जंगी विमान पाक-चीन के पास नहीं'

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption नरेंद्र मोदी और फ्रांस्वा ओलांद

रफ़ाल विमानों की ख़रीद के लिए भारत और फ्रांस के बीच पिछले साल सितंबर में समझौता हुआ था.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ दोनों के बीच ये समझौता 36 जंगी विमानों के लिए हुआ है. पहले 18 विमानों का सौदा हुआ था लेकिन अब भारत फ्रांस से 36 विमान खरीद रहा है.

जब लड़ाकू विमानों की ख़रीदारी के लिए टेंडर निकाला गया था, तब मुक़ाबले में कुल छह कंपनियों के विमान थे. पर एयरफोर्स ने रफ़ाल को सबसे बेहतर पाया.

इमेज कॉपीरइट AFP

विमान की ख़रीद की प्रक्रिया यूपीए सरकार ने साल 2010 में शुरू की थी. साल 2012 से लेकर साल 2015 तक इसे लेकर बातचीत चलती रही.

रक्षा मामलों के जानकार राहुल बेदी का कहना है, ''जब 126 विमानों की बात चल रही थी, उस वक़्त ये सौदा हुआ था कि 18 विमान भारत ख़रीदेगा और 108 विमान बेंगलुरु के हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड में एसेम्बल होने थे. लेकिन यह सौदा हो नहीं पाया.''

वे कहते हैं, ''फिर अप्रैल 2015 में मोदी सरकार ने पेरिस में यह घोषणा की कि हम 126 विमानों के सौदे को रद्द कर रहे हैं और इसके बदले 36 विमान सीधे फ्रांस से ख़रीद रहे हैं और एक भी रफ़ाल विमान बनाएंगे नहीं.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए