सुंजवान कैंप पर हमले में 5 सैनिकों समेत छह की मौत

  • 11 फरवरी 2018
सुंजवान आर्मी कैंप पर चरमपंथी हमला इमेज कॉपीरइट MOHIT KANDHARI/BBC

जम्मू के सुंजवान आर्मी कैंप पर शनिवार तड़के हुए चरमपंथी हमले में मृतकों की संख्या बढ़कर 6 हो गई है.

कैंप में अब भी सुरक्षाबलों का सर्च अभियान जारी है. कैंप के फैमिली क्वॉर्टर में फंसे लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला जा रहा है. इसमें एक गर्भवती महिला भी हैं.

सेना के प्रवक्ता लेफ़्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया कि गर्भवती महिला गंभीर रूप से घायल थी और सेना का डॉक्टर रात भर उसे बचाने में लगे रहे. इस महिला ने सिजेरियन ऑपरेशन के बाद एक लड़की को जन्म दिया है.

"रोहिंग्या की वजह से जम्मू आर्मी कैंप पर हमले"

इमेज कॉपीरइट MOHIT KANDHARI/BBC
Image caption सुंजवान आर्मी कैंप के फैमिली क्वॉर्टर

सेना के प्रवक्ता लेफ़्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा, "जम्मू के सुंजवान आर्मी कैंप पर चरमपंथी हमले में अब तक तीन चरमपंथियों की मौत हो गई है. पिछले दो चरमपंथियों की तरह ही तीसरे चरमपंथी के पास भी बहुत से हथियार मौजूद थे और उसने सेना की वर्दी पहन रखी थी. चरमपंथियों के पास से एके 47, अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर, गोला-बारूद और ग्रेनेड बरामद किए गए हैं."

उन्होंने कहा, "आर्मी कैंप के फैमिली क्वॉर्टर से एक जेसीओ, दो जवान और एक बुजुर्ग (एक जवान के पिता) के शव अब तक निकाले गए हैं. इन्हें शनिवार को हमले के शुरुआती दौर के दौरान चरमपंथियों ने मार दिया था. अब तक दो जेसीओ, तीन जवानों एक एक बुजुर्ग समेत छह लोगों की मौत हो गई है. इसके अलावा छह महिलाओं और बच्चे समेत 10 लोग घायल हैं."

उन्होंने कहा, "घायलों में एक गर्भवती महिला भी है. सेना के डॉक्टर रात भर उस बुरी तरह घायल गर्भवती महिला की जान बचाने में लगे रहे. जिसने सिजेरियन ऑपरेशन से एक लड़की को जन्म दिया है. मां-बेटी दोनों सुरक्षित हैं."

इमेज कॉपीरइट MOHIT KANDHARI/BBC

लेफ़्टिनेंट कर्नल देवेंद आनंद ने बताया कि एक 14 साल के लड़के को सिर में गोली लगी है, जिसकी हालत नाजुक बनी हुई है. राहत और बचाव अभियान जारी है.

मृतक सैनिकों की पहचान हवलदार हबीब-उल्लाह क़ुरैशी, नायक मंज़ूर अहमद, लांस नायक मोहम्मद इक़बाल और उनके पिता के रूप में हुई है. इससे पहले दो जूनियर कमिशनर ऑफिसर शनिवार को मारे गए थे.

इंस्पेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस डॉ एसडी सिंह जमवाल ने रविवार को कहा कि तीन चरमपंथी भी मारे गए हैं और कैंप में अब भी सुरक्षा बलों का अभियान ख़त्म नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि पिछले 24 घंटों से संघर्ष जारी है.

इमेज कॉपीरइट MOHIT KANDHARI/BBC

इन चरमपंथियों को जैश-ए-मोहम्मद से जुड़ा बताया जा रहा है. सेना के पीआरओ लेफ़्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने भी इस बात की पुष्टि की है कि हथियारबंद चरमपंथी जैश-ए-मोहम्मद के हैं. इससे पहले सेना ने जैश-ए-मोहम्मद के झंडे के साथ हथियार और गोला-बारूद बरामद किया था.

भारतीय सैन्य प्रमुख जनरल बिपिन रावत भी इस हमले के ख़िलाफ़ जारी सुरक्षा बलों के अभियान पर नज़र रखे हुए हैं.

बिपिन रावत शनिवार देर शाम जम्मू पहुंचे थे. उन्हें स्थानीय कमांडरों ने पूरे घटनाक्रम की जानकारी दी थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे