प्रेस रिव्यू: 'सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में न्याय नहीं हुआ'

  • 14 फरवरी 2018
sohrabbudin sheikh
Image caption सोहराबुद्दीन अपनी पत्नी के साथ

इंडियन एक्सप्रेस अख़बार को दिए इंटरव्यू में बॉम्बे हाई कोर्ट के पूर्व जज अभय एम थिपसे ने कहा है कि सोहराबुद्दीन फ़ेक़ एनकाउंटर केस में ठीक ढंग से न्याय नहीं हो पाया.

पूर्व जज थिपसे ने कहा है कि सोहराबुद्दीन फ़ेक़ एनकाउंटर केस में कई हाई-प्रोफ़ाइल अभियुक्तों को बरी किया गया और क़ानूनी प्रक्रियाओं का ठीक से पालन नहीं किया गया. उन्होंने कहा है कि ऐसा प्रतीत हुआ कि गवाहों को तोड़ा जा रहा है और ये सब इशारा करता है कि इस मामले में न्याय नहीं हुआ है.

उन्होंने कहा कि बॉम्बे हाई कोर्ट को अपनी शक्तियों को इस्तेमाल करते हुए इस केस को फिर से रिव्यू करना चाहिए.

सोहराबुद्दीन मामले में 38 अभियुक्तों में से 15 को बरी किया जा चुका है. इस मामले की सुनवाई मुंबई की सीबीआई अदालत में की जा रही है. जिन्हें बरी किया गया उनमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का भी नाम है, जो उस वक़्त गुजरात के गृह राज्य मंत्री थे.

थिपसे पिछले साल ही इलाहाबाद हाई कोर्ट के जज के पद से रिटायर हुए हैं. उसके बाद अपने पहले इंटरव्यू में उन्होंने ये सब बातें कहीं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पीएम मोदी से छात्रों के सवाल

देशभर से छात्रों ने पीएमओ की वेबसाइट पर 'परीक्षा पर चर्चा' में भेजे सवाल, चुनिंदा सवालों का देंगे प्रधानमंत्री मोदी जवाब.

अमर उजाला अखबार में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक देश भर से अब तक 21,395 छात्र प्रधानमंत्री मोदी के लिए सवाल भेज चुके हैं.

ये सवाल पीएमओ की वेबसाइट माईजीओवी डॉट इन पर भेजे गए हैं जिनमें से कुछ चुनिंदा सवालों के जवाब नरेंद्र मोदी 16 फरवरी को तालकटोरा स्टेडियम से देंगे. यह कार्यक्रम 'परीक्षा में चर्चा' के लिए पीएम मोदी की क्लास के तहत आयोजित किया जा रहा है.

अख़बार के मुताबिक उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, दिल्ली, अंडमान निकोबार आदि के छात्रों ने परीक्षा संबंधी दिक्कतों को लेकर कई सवाल ई-मेल किए हैं.

इनमें से कुछ सवाल इस तरह हैं कि क्या प्रधानमंत्री मोदी को भी परीक्षा से तनाव हुआ था? क्या इंजिनियरिंग या मेडिकल में जाने से ही नौकरी मिलेगी?

इमेज कॉपीरइट PRAKASH SINGH/AFP/GETTY IMAGES

20 दिन का ख़र्च उठा सकते हैं मुकेश अंबानी

अमर उजाला की ही एक खबर के मुताबिक़ उद्योगपति मुकेश अंबानी 20 दिन तक भारत सरकार का ख़र्च अपने दम पर उठा सकते हैं.

ब्लूमबर्ग ने रॉबिनहुड सूचकांक रिपोर्ट 2018 जारी की है.

इसमें 49 देशों के सबसे अमीर व्यक्ति की संपत्ति और उस देश की सरकार के ख़र्च की तुलना की गई है. बताया गया है कि वह सबसे अमीर व्यक्ति अपने देश की सरकार का कितने दिनों का ख़र्च चला सकता है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज़ के प्रमुख मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति तकरीबन 40 अरब डॉलर है और भारत सरकार का रोज़ का ख़र्च करीब 198 करोड़ डॉलर है.

इमेज कॉपीरइट T R Zeliang/Twitter

नागालैंड के सीएम स्टाफ़ को एनआईए ने किया समन

इंडियन एक्सप्रेस में ख़बर छपी है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने नागालैंड के मुख्यमंत्री के स्पेशल ड्यूटी अफ़सर और स्टाफ़ के दो सदस्यों को अवैध उगाही के एक मामले में पूछताछ के लिए बुलाया है.

मुख्यमंत्री टी आर जेलियांग की पार्टी नागालैंड पीपल फ्रंट(एनपीएफ़) और भाजपा 15 साल तक गठबंधन में रहे थे. लेकिन पिछले हफ्ते ही भाजपा ने एनपीएफ से गठबंधन तोड़ आगामी चुनावों से पहले नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी के साथ गठबंधन कर लिया.

चुनावों के मद्देनज़र राष्ट्रीय जांच एजेंसी के इस समन ने राज्य की राजनीति को गर्मा दिया है.

मंत्री के सिक्के से शिक्षक की तैनाती का फ़ैसला!

जनसत्ता की ख़बर के मुताबिक पंजाब में तकनीकी शिक्षा विभाग ने दो पॉलिटेक्निक कॉलेज के दो शिक्षकों की तैनाती का फ़ैसला सिक्का उछाल कर किया.

यह रोचक वाकया सोमवार को हुआ जब पंजाब सरकार के मंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के पास ये मामला पहुंचा.

उन्होंने पंजाब सचिवालय स्थित अपने कार्यलय में लोगों और मीडिया की मौजूदगी में सिक्का उछालकर मसले का हल निकाला.

चन्नी ने बताया कि दो शिक्षकों के बीच तैनाती को लेकर विवाद था क्योंकि दोनों एक ही संस्थान में तैनाती को लेकर अड़े हुए थे. उन्होंने कहा कि सिक्का उछालकर फ़ैसला कर लिया जाए.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे