आंध्र प्रदेश: किसान की फ़सल को 'बुरी नज़र' से बचा रहीं सनी लियोनी

  • 15 फरवरी 2018
किसान आंध्रप्रदेश

अपने खेत में मॉडल और बॉलीवुड एक्ट्रेस सनी लियोनी का पोस्टर लगाने वाला एक किसान ख़बरों में है. नाम है चेंचू रेड्डी.

रेड्डी आंध्र प्रदेश के नेल्लोर ज़िले के बंदकिंडपल्ली गांव में रहने वाले हैं. उनका कहना है कि अपनी फ़सल को बुरी नज़रों से बचाने के लिए उन्होंने ये पोस्टर लगाया है.

रेड्डी के पास 10 एकड़ ज़मीन है और वो बैंगन, गोभी, मिर्च और भिंडी जैसी सब्जियां उगाते हैं.

रेड्डी के अनुसार, खेत में इस साल फ़सल बढ़िया हुई है और वो आते-जाते ग्रामीणों और राहगीरों का ध्यान अपनी तरफ खींच रही है. इसलिए लोगों का ध्यान भटकाने के लिए रेड्डी ने सनी लियोनी का पोस्टर लगाया है. और इस पोस्टर पर लिखा है कि मुझे देखकर रोइये मत.

दक्षिण भारत की मान्यताएं

बीबीसी से बात करते हुए चेंचू रेड्डी ने कहा कि उनका ये फ़ॉर्मूला काम कर रहा है. लोगों की बुरी नज़र बचने से उनकी फ़सल बेहतर हुई है.

इमेज कॉपीरइट SUNNYLEONE/fACEBOOK

दक्षिण भारत में ये धारणा काफ़ी आम है कि घर के बाहर एक डरावनी मूर्ति या मुखौटा लगाने से बुरी नज़र नहीं लगती.

बहुत से लोग ये भी मानते हैं कि खेत और अच्छी फ़सल पर भी ये लागू होता है. लोगों की बुरी नज़र लगने से फ़सल ख़राब होती है क्योंकि कुछ लोगों की चिढ़ खेत की ओर ख़राब उर्जा को खींचती है.

कुछ लोग चिड़ियों और जानवरों से अपनी फ़सल बचाने के लिए भी ऐसे उपाय करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

चेंचू रेड्डी कहते हैं कि उन्होंने सिर्फ़ इस तरीक़े में थोड़ा बदलाव किया, जो काम कर रहा है.

'...फिर तो किसान पर केस दर्ज हो'

हालांकि ऐसी कोशिशों की आलोचना करते हुए एक सुलझे हुए किसान गोगिनेनी बाबू कहते हैं कि ये पूरी तरह से अंधविश्वास को बढ़ावा देने वाली बात है. आदमी की नज़र से किसी का नुकसान कैसे हो सकता है.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK / BABU GOGINENI

वो सवाल उठाते हैं कि अगर इंसान की नज़र लगने से वाकई किसी का नुक़सान हो सकता है तो सनी लियोनी को कुछ होने पर इस किसान को ज़िम्मेदार ठहराया जाए?

वो कहते हैं कि किसान के तर्क़ के हिसाब से तो सनी को अपनी सुरक्षा के लिए उसपर केस कर देना चाहिए.

गोगिनेनी बाबू कहते हैं कि उस पोस्टर के कारण खेत में काम करने वालीं महिला मजदूर भी असहज महसूस कर रही होंगी. इसके बारे में भी चेंचू रेड्डी को सोचना चाहिए था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे