स्वदेशी आंदोलन से जुड़ी है पीएनबी के बनने की कहानी

  • 16 फरवरी 2018
लाला लाजपत राय इमेज कॉपीरइट pibindia

11,360 करोड़ रुपये के घोटाले के बाद चर्चा में बने हुए पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) के शेयर्स में लगातार तीसरे दिन भी गिरावट देखने को मिल रही है, वहीं इससे जुड़ी ख़बरों के ग्राफ में खासी वृद्धि हो गई है.

जानकार कहते हैं कि इस घोटाले से बैंक पर पड़ने वाले असर का आकलन कर पाना अभी कठिन है और अभी 'वेट ऐंड वॉच' की पॉलिसी अपनानी पड़ेगी.

वहीं जहां एक ओर यह फर्ज़ीवाड़ा जितना सनसनीखेज है, वहीं 123 साल पुराने इस बैंक की स्थापना से जुड़ी कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है.

पीएनबी में 11,360 करोड़ रुपये का घोटाला

पीएनबी स्कैम: कौन हैं डायमंड मर्चेंट नीरव मोदी?

पीएनबी स्कैम: तो इस तरह अंजाम दिया गया घोटाला

इमेज कॉपीरइट TWITTER/DDNEWSHINDI

आज लगभग 7 हज़ार ब्रांच, करीब 10 हज़ार एटीएम और 70 हज़ार से अधिक कर्मचारियों के साथ अपनी सेवाएं दे रहा पंजाब नैशनल बैंक 19 मई 1894 को केवल 14 शेयरधारकों और 7 निदेशकों के साथ शुरू किया गया था.

लेकिन जिस एक शख्स ने इस बैंक की नींव रखने में अहम भूमिका निभाई थी, वो हैं भारत के प्रख्यात स्वतंत्रता सेनानी लाल-बाल-पाल की तिकड़ी के लाला लाजपत राय.

कार्टून: बैंक से पैसा निकालने के नियम

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लाजपत राय का आइडिया

लाला लाजपत राय इस तथ्य से काफी चिंतित थे कि ब्रिटिश बैंकों और कंपनियों को चलाने के लिए भारतीय पैसे का इस्तेमाल किया जा रहा था, लेकिन इसका मुनाफा अंग्रेज़ उठा रहे थे जबकि भारतीयों को महज कुछ ब्याज मिला करता था.

उन्होंने आर्य समाज के राय बहादुर मूल राज के साथ एक लेख में अपनी इस भावना का इजहार किया. खुद मूल राज भी लंबे समय से यह विचार रखते थे कि भारतीयों का अपना राष्ट्रीय बैंक होना चाहिए.

'नीरव मोदी दावोस में पीएम मोदी के साथ क्या कर रहे थे?'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कैसे हुई बैंक की स्थापना?

राय मूल राज के अनुरोध पर लाला लाजपत राय ने चुनिंदा दोस्तों को एक चिट्ठी भेजी जो स्वदेशी भारतीय ज्वाइंट स्टॉक बैंक की स्थापना में पहला कदम था. इस पर संतोषजनक प्रतिक्रिया मिली.

फौरन ही क़ागजी कार्रवाई शुरू की गई और इंडियन कंपनी एक्ट 1882 के अधिनियम 6 के तहत 19 मई 1894 को पीएनबी की स्थापना हो गई. बैंक का प्रॉस्पेक्टस ट्रिब्यून के साथ ही उर्दू के अख़बार-ए-आम और पैसा अख़बार में प्रकाशित किया गया.

23 मई को संस्थापकों ने पीएनबी के पहले अध्यक्ष सरदार दयाल सिंह मजीठिया के लाहौर स्थित निवास पर बैठक की और इस योजना के साथ आगे बढ़ने का संकल्प लिया. उन्होंने लाहौर के अनारकली बाज़ार में पोस्ट ऑफिस के सामने और प्रसिद्ध रामा ब्रदर्स स्टोर्स के पास एक घर किराए पर लेने का फ़ैसला किया.

पीएनबी स्कैम: 'किसी को बख़्शा नहीं जाएगा'

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लाहौर से हुई शुरुआत

12 अप्रैल 1895 को पंजाब के त्योहार बैसाखी से ठीक एक दिन पहले बैंक को कारोबार के लिए खोल दिया गया. पहली बैठक में ही बैंक के मूल तत्वों को स्पष्ट कर दिया गया था. 14 शेयरधारकों और 7 निदेशकों ने बैंक के शेयरों का बहुत कम हिस्सा लिया.

लाला लाजपत राय, दयाल सिंह मजीठिया, लाला हरकिशन लाल, लाला लालचंद, काली प्रोसन्ना, प्रभु दयाल और लाला ढोलना दास बैंक के शुरुआती दिनों में इसके मैनेजमेंट के साथ सक्रिय तौर पर जुड़े हुए थे.

पीएनबी स्कैम: नीरव मोदी ने भारत को कब कहा टाटा

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अभिनेत्री नाओमी वाट्स और डेडोरा ली फर्नेस के साथ पीएनबी घोटाले से सुर्खियों में आए अरबपति कारोबारी नीरव मोदी

क्या है पीएनबी का भविष्य?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पीएनबी का घोटाला बैंक के मार्केट कैपिटलाइजेशन (एमकैप) के 31 फ़ीसदी के बराबर है. लिहाजा घोटाले की ख़बर के सामने आने के साथ ही इसके शेयर्स की कीमतों में पहले दिन 10 फ़ीसदी और दूसरे दिन 12.89 फ़ीसदी की गिरावट हुई.

एक वेल्थ मैनेजर के मुताबिक, "पीएनबी का भविष्य इसकी बुनियाद पर निर्भर करता है. अगर इसकी बुनियाद इतनी मजबूत है कि मैनेजमेंट वापसी कराने में सक्षम रहा (या एक मजबूत नेतृत्व कार्यभार संभालता है), तब इसमें किए गए निवेश को बरकरार रखना चाहिए. अभी इस नुकसान का समूचा आकलन करना बचा है लेकिन इससे बैंक का एनपीए का आकार बहुत बड़ा आकार हो जाएगा जिससे उबरने में उसे खासी कठिनाई होगी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए