नगालैंडः 'ईसाइयों को ख़तरा हुआ तो भाजपा का साथ छोड़ देंगे'

  • मयूरेश कुण्णूर
  • बीबीसी संवाददाता
निफ्यू रियो

इमेज स्रोत, Getty Images

नगालैंड में भाजपा के साथ चुनाव लड़ रही नगालैंड डेमोक्रेटिक प्रोगेसिव पार्टी का कहना है कि अगर राज्य की संस्कृति और पहचान को ख़तरा हुआ तो वो गठबंधन से अलग हो जाएंगे.

यह कहना है नगालैंड डेमोक्रेटिक प्रोगेसिव पार्टी के नेता और मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार निफ्यू रियो का.

बीबीसी को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि अगर 90 फ़ीसदी से अधिक आबादी वाले ईसाई समूह की पहचान को ख़तरा हुआ तो उनकी पार्टी भाजपा के साथ हुए गठबंधन से अलग हो जाएगी.

ईसाई बहुमत में

वीडियो कैप्शन,

''आज़ादी छिनी तो छोड़ देंगे बीजेपी का साथ''

नगालैंड चुनाव में नगालैंड बाप्टिस्ट चर्च काउंसिल ने भाजपा को वोट न करने की अपील की है.

काउंसिल का कहना है कि भाजपा का हिंदुत्व एजेंडा 90 फ़ीसदी से अधिक ईसाई जनसंख्या वाले नगालैंड की पहचान के लिए ख़तरा है.

निफ्यू रियो कहते हैं, "चर्च ने जो बात कही है वो कहीं न कहीं सही है. हम यहां हमारे लोगों की रक्षा के लिए हैं. हमारे धर्म की रक्षा के लिए हैं. उस पर कोई समझौता नहीं होगा."

निफ्यू रियो ने यह भी दावा किया कि इस गठबंधन में ईसाइयों के ख़िलाफ़ कुछ भी नहीं होगा.

उन्होंने कहा, "नगालैंड में भाजपा के साथ हमारा गठबंधन 15 सालों से है. यह गठबंधन नया नहीं है. अलग-अलग बात तो होती है, लेकिन नगालैंड में अभी तक ऐसा ख़तरा देखने को नहीं मिला है."

रियो आगे कहते हैं, "संविधान के मुताबिक हमारा देश धर्मनिरपेक्ष है. नगालैंड को विशेष राज्य का दर्जा प्राप्त है."

इमेज स्रोत, Getty Images

'विकास के लिए काम करेंगे'

उन्होंने इस दर्जे के कायम रखने की बात कही है. निफ्यू रियो कहते हैं, "चर्च ने जो चिंता जताई है, उसे हम समझते हैं. जो कोई भी ऐसा करने की कोशिश करेगा, हम उसका समर्थन नहीं, बल्कि विरोध करेंगे."

इमेज स्रोत, Getty Images

अगर भाजपा के साथ आपकी सरकार बनती है और ईसाइयों के ख़िलाफ़ कुछ गलत होता है तो क्या आप साथ रहेंगे, इस सवाल पर वो कहते हैं, "जी जरूर. अगर हमलोगों को दबाने की कोशिश होगी तो ज़रूर लड़ेंगे."

अतिराष्ट्रवाद और लिंचिंग जैसी घटनाओं के सवाल पर रियो कहते हैं, "लिंचिंग जैसी घटनाओं की हम निंदा करते हैं. भारत एक विशाल देश है जहां विभिन्न संप्रदाय के लोग रहते हैं. हमें शांति और सद्भाव से रहना चाहिए."

उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी मोदी सरकार के साथ मिलकर नगालैंड की राजनीतिक समस्या का हल निकालेगी. राज्य को भ्रष्टाचारमुक्त करने और इसके विकास के लिए काम करेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)