श्रीदेवी का शव भारत लाने में क्यों हो रही देर?

  • 27 फरवरी 2018
अभिनेत्री श्रीदेवी इमेज कॉपीरइट STR/Getty Images

दिवंगत बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी का पार्थिव शरीर भारत लाने के लिए एक विशेष विमान दुबई में मौजूद है. लेकिन यह कब उड़ान भरेगा, यह अभी साफ नहीं है.

दुबई पुलिस ने मामला अब दुबई के पब्लिक प्रॉसीक्यूटर को भेज दिया है जो ऐसे मामलों में नियमानुसार कानूनी प्रक्रिया का पालन करता है. इसी वजह से शव लाने में देर हो रही है.

गल्फ़ न्यूज़ के यूएई संपादक बॉबी नकवी ने बीबीसी संवाददाता फ़ैसल मोहम्मद अली को बताया कि संयुक्त अरब अमीरात में प्रोसीक्यूशन एजेंसी और दुबई पुलिस दो अलग इकाई हैं और अलग-अलग काम करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Twitter/@SrideviBKapoor

उन्होंने कहा, "इस मामले में एक दुबई पुलिस की जांच हुई है और एक फॉरेन्सिक रिपोर्ट है. प्रोसीक्यूशन एजेंसी अब इन दोनों रिपोर्टों को देखेगी और संतुष्ट होने पर पार्थिव शरीर को रिलीज़ कर देगी."

बॉबी नकवी ने बताया, "अभी तक पार्थिव शरीर पुलिस के मुर्दाघर में ही है. अमूमन शव को संरक्षित करने का लेप लगाने के लिए दूसरी जगह भेजा जाता है. लेकिन मेरा अंदाज़ा है कि इस केस में ऐसा भी हो सकता है कि पुलिस के मुर्दाघर में भी यह काम हो जाए."

बाथ टब में डूबने से हुई थी मौत

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इससे पहले दुबई पुलिस ने श्रीदेवी की मौत की वजह के बारे में एक नई जानकारी दी थी. दुबई पुलिस के मुताबिक, पोस्टमॉर्टम एनालिसिस से पता चला है कि श्रीदेवी की मौत होटल के कमरे के बाथ टब में डूबने से हुई थी.

संयुक्त अरब अमीरात के स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी सर्टिफिकेट में उनकी मौत की वजह 'दुर्घटनावश डूबना' बताया गया है.

इमेज कॉपीरइट Twitter

इससे पहले कार्डिएक अरेस्ट को उनकी मौत की वजह बताया जा रहा था.

मशहूर अभिनेत्री श्रीदेवी का 24 फरवरी की रात को दुबई में निधन हो गया था. वह वहां अपने परिवार के साथ अपने भतीजे की शादी में शामिल होने गई थीं.

पांच दशकों तक पसरा करियर

इमेज कॉपीरइट AFP/Getty

अभी तक श्रीदेवी का पार्थिव शरीर भारत नहीं आया है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट और बाकी औपचारिकताओं के बाद उनका शव भारत लाया जाएगा.

54 वर्षीय श्रीदेवी ने पांच दशकों तक चले करियर में करीब तीन सौ फिल्मों में काम किया.

श्रीदेवी का जन्म 13 अगस्त 1963 को तमिलनाडु में हुआ था. उन्होंने अपने करियर की शुरुआत महज चार साल की उम्र में एक तमिल फिल्म कंधन करुणई से कर दी थी.

80 का दशक हिंदी फ़िल्मों में हीरोइनों के लिहाज़ से श्रीदेवी का दशक कहा गया. उन्होंने हिम्मतवाला, तोहफ़ा, मिस्टर इंडिया, नगीना जैसी सुपरहिट फ़िल्में दीं. उन्हें लेडी अमिताभ बच्चन कहा जाने लगा.

जीतेंद्र और श्रीदेवी ने मिलकर एक के बाद सुपरहिट जैसे हिम्मतवाला, तोहफ़ा, जस्टिस चौधरी और मवाली जैसी फ़िल्में दीं.

साल 2017 में श्रीदेवी की फिल्म 'मॉम' रिलीज़ हुई थी. श्रीदेवी ने फ़िल्मों में लंबी पारी खेली और 'मॉम' उनकी 300वीं फ़िल्म थी.

फ़िल्मों में उनके योगदान के लिए उन्हें 'पद्मश्री' से नवाज़ा गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे