नगालैंड, मेघालय में सरकार किसकी, आज होगा फ़ैसला

  • 27 फरवरी 2018

पूर्वोत्तर भारत के तीन राज्यों में चुनाव हो रहे हैं. त्रिपुरा की वोटिंग के बाद नगालैंड और मेघालय के लोग मंगलवार को अपना फ़ैसला सुनाएंगे.

इमेज कॉपीरइट SHARAD BADHE/BBC

नगालैंड में असली लड़ाई फ़िलहाल सत्ता संभाल रही 'नगा पीपल्स फ़्रंट' और 'एनडीपीपी' और बीजेपी गठबंधन के बीच है.

इमेज कॉपीरइट SHARAD BADHE/BBC

बीते सालों में यहां की सत्ता को देखें तो यहां अधिकतर स्थानीय नगा राजनीतिक पक्षों का बोलाबाला रहा है.

बीच-बीच में कांग्रेस भी पूर्ण सत्ता में रही और बीजेपी भी गठबंधन के ज़रिए सरकार में शामिल रही है.

मगर इस बार कुछ नए बने गठबंधनों ने नगालैंड में चुनावी समीकरण बदल दिया है.

नगालैंड: भाजपा के लिए मुसीबत बना चर्च का एक ख़त

नगालैंड में चुनावी हलचल

इमेज कॉपीरइट STRDEL/AFP/Getty Images

भाजपा के साथ गठबंधन

11 साल तक नगालैंड की सत्ता संभाल चुके नेफ़्यू रिओ कभी मौजूदा सत्तारूढ़ 'नगालैंड पीपल्स फ़्रंट' के अगुआ हुआ करते थे.

लेकिन अपनी पार्टी को छोड़ वो 'नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव फ्रंट' यानी 'एनडीपीपी' में शामिल हो गए और उन्होंने भाजपा के साथ गठबंधन बना लिया.

इमेज कॉपीरइट SHARAD BADHE/BBC
Image caption नगालैंड में मतदान के लिए सुरक्षा व्यवस्था

नगालैंड विधानसभा के लिए कुल 60 सीटों पर मतदन हो रहा है जिसमें गठबंधन ने सभी सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए हैं.

'एनडीपीपी' ने 40 जगहों पर और बीजेपी 20 जगहों पर चुनाव लड़ रही है.

इस गठबंधन ने अपना खाता पहले ही खोल लिया है क्योंकि एलायंस की तरफ़ से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार रिओ पहले ही अपने चुनाव क्षेत्र से निर्विरोध जीत चुके हैं.

क्या नगालैंड में इतिहास बनाने में कामयाब हो पाएगी ये महिला?

नगालैंड की सियासत में कौन है बड़ी मछली?

इमेज कॉपीरइट BIJU BORO/AFP/Getty Images

नगालैंड का विकास

दूसरी ओर सत्ता में रही 'एनपीएफ़' मुख्यमंत्री टीआर ज़ेलियांग के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही है. उनके सामने सत्ता बचाने की चुनौती है.

नगालैंड के 11 लाख 91 हजार मतदाता मंगलवार को मतदान कर रहे हैं. उनके लिए भ्रष्टाचार और अच्छी सड़कें सबसे महत्वपूर्ण मुद्दे हैं.

दिमापुर मार्केट में जब हमने सेंग्योर रिमाक से बात की तो उनका कहना था, "हमारे नगालैंड में तो कोई विकास ही नहीं है. दूसरे राज्यों से तुलना की जाए तो हमारे यहां रास्ते नहीं हैं, उद्योग नहीं है, शिक्षा की सुविधा में भी हम बहुत पीछे हैं. जो चुन कर आने वाले नेता हैं, उनको नगालैंड के आर्थिक विकास पर ध्यान देना चाहिए."

नगालैंड असेंबली में हो पाएगी महिलाओं की एंट्री?

'ईसाइयों को ख़तरा तो भाजपा का साथ छोड़ देंगे'

इमेज कॉपीरइट Twitter @INCMeghalaya

क्या नया इतिहास रचा जाएगा?

वरिष्ठ पत्रकार रविशंकर का कहना है कि बाकी मुद्दों में अहम मुद्दा यह है कि इस बार पांच महिलाएं राज्य में पहली बार चुनाव लड़ रही हैं.

वो कहते हैं, "सबसे महत्वपूर्ण बात यह है नगालैंड के चुनाव में पांच महिलाओं ने नामांकन पत्र दाखिल किया है और अगर एक भी महिला चुनी गई तो नगालैंड विधानसभा में नया इतिहास रचा जाएगा. आज तक यहां कोई महिला प्रतिनिधि नहीं चुनी गई है विधानसभा में."

मेघालय में मतदान

उधर मेघालय में भी मंगलवार को मतदान हो रहे हैं जहां स्थानीय पक्षों ने यहां की कांग्रेस की सरकार के सामने चुनौती खड़ी कर दी है.

यहां कुल मिलाकर 60 विधानसभा सीटों पर मतदान हो रहा है.

'आज़ादी छिनी तो छोड़ देंगे बीजेपी का साथ'

घर में मर्दों की नहीं चलती और सियासत में औरतों की!

इमेज कॉपीरइट BIJU BORO/AFP/Getty Images

कांग्रेस के लिए परेशानी

कांग्रेस के मुकुल संगमा के सामने यहां सबसे बड़ी चुनौती 'नेशनल पीपल्स पार्टी' यानी 'एनपीपी' की है जिसका नेतृत्व कोर्नार्ड संगमा कर रहे हैं.

उसी के साथ इस चुनाव में बनी 'यूडीएफ़', 'एचएसपीडीपी' और 'जीएनसी' का गठबंधन भी सत्ता में रहे कांग्रेस के लिए परेशानी का कारण बन सकता है.

हालांकि बीजेपी के साथ 'एनपीपी' 'एनडीए' में शामिल है, मगर दोंनो पक्ष राज्य में अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं.

मेघालय मे तुरा, खासी और जैंतिया पहाड़ी इलाकों में किसका ज़ोर है, इसी पर यहां की राजनीति निर्भर करती है.

इन अलग-अलग इलाकों के अलग-अलग आदिवासी वोट बैंक हैं.

मेघालय: क्या जोनाथन संगमा की हत्या राजनीतिक है

नेहरू और कैनेडी यहां वोट क्यों मांग रहे हैं!

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
नगालैंड की राजनीति में क्यों पिछड़ी हुई हैं महिलाएं?

वरिष्ठ पत्रकार रविशंकर का कहना है, "विकास और रोज़गार ये मुद्दे तो हैं ही. वह तो पूरे देश में ही हैं. मगर मेघालय में एक अलग मुद्दा है. मेघालय में जिनकी ज़मीनें हैं उन्हीं की खदानें हैं. फिर वहां पर कोयले की अवैध ढुलाई भी होती है. उसके साथ करप्शन का एक तंत्र चलता है. उससे स्थानीय लोगों को बड़ी परेशानी होती है. कांग्रेस और बीजेपी ने चुनावी घोषणापत्र में भी इस मुद्दे को शामिल किया है."

पूर्वोत्तर में भाजपा: शून्य से शुरू हुआ सफ़र सत्ता की रेस तक

जिनकी वजह से पूर्वोत्तर में बढ़ रही है बीजेपी

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए