घर में बची हुई दवाइयों का क्या करें?

  • 28 फरवरी 2018
दवाइयां इमेज कॉपीरइट Getty Images

एक्सपायर हो चुकी या खराब हो चुकी दवाईयों का आप क्या करते हैं? कूड़ेदान में फेंक देते हैं?

अतुल गर्ग भी हमेशा से यही करते थे. अपने घर की बची हुई और एक्सपायर हो चुकी दवाईयों को कूड़ेदान में फेंक देते थे.

लेकिन इस बार जब घर की सफाई करते हुए उन्हें ऐसी दवाइयां मिली तो कूड़ेदान में डालने से पहले उनके ज़हन में एक सवाल आया.

उन्होंने खुद से पूछा कि दवाइयों को इस तरह कूड़ेदान में फेंकना सही है?

उन्होंने सोचा कि एक्सपायर हो चुकी दवाइयां जब कूड़े समेत डंपिंग ग्राउंड पहुंचेगी, तो क्या पर्यावरण, जीव-जंतुओ और जल पर इसका बुरा असर नहीं पड़ेगा?

क्या इन दवाइयों को नष्ट करने का कोई सुरक्षित तरीका है?

अतुल के ये सारे सवाल वाजिब हैं, क्योंकि उनकी ही तरह सभी लोग बची हुई और एक्सपायर हो चुकी दवाइयों को आम कूड़े की तरह फेंक देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दवाइयों को ख़त्म करने का सही तरीका

दवाइयों वैसे तो बीमारियों को ठीक करने के लिए इस्तेमाल में आतीं हैं.

लेकिन अगर ये दवाइयां काम की ना रहे तो इन्हें सही तरीके से डिसपोस करना ज़रूरी है.

ऐसा नहीं करने पर दवाइयां नुकसान दायक हो सकतीं हैं.

इसके लिए भारत के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने बाकायदा नियम बनाएं हैं.

हालांकि बहुत कम लोगों को इसकी जानकारी है.

नियमों के मुताबिक एक्सपायर, अनावश्यक और इस्तेमाल ना की गई दवाइयों को नष्ट करने के लिए सरकार मेडिसिन टेक-बैक प्रोग्राम चलाती है.

  • इस टेक बैक प्रोग्राम के तहत आप अपने घर में बची और एक्सपायर हो चुकी दवाईयों को स्थानीय प्रशासन को दे सकते हैं.
  • अपने इलाके के मेडिसिन टेक-बैक प्रोग्राम के बारे में जानने के लिए आप अपने शहरी प्रशासन की घरेलू कचरा प्रबंधन या रीसाइक्लिंग सेवा से संपर्क भी कर सकते हैं.
  • अपने नज़दीकी फार्मासिस्ट से भी मेडिसिन डिस्पोसल के तरीकों के बारे में जानकारी ले सकते हैं.
इमेज कॉपीरइट Getty Images

अगर आपके इलाके में किसी तरह का टेक-बैक प्रोग्राम नहीं होता तो आप इस आसान तरीके से घर में दवाइयों को नष्ट कर सकते हैं:

घर पर दवाई नष्ट करने का तरीका

  • टैबलेट या कैप्सूल को साबूत किसी पदार्थ जैसे इस्तेमाल की हुई चायपत्ति के साथ मिलाएं.
  • ध्यान रहे टैब्लेट या कैप्सूल को क्रश न करें.
  • इस मिश्रण को प्लास्टिक बैग में डालकर अच्छे से सील कर दें.
  • इसके बाद प्लास्टिक बैग को घरेलू कचरे के साथ फेंक सकते हैं.

मतलब ये कि टैबलेट और कैप्सूल को खुले में न फेंके.

कब करें दवाइयों को फ्लश

कुछ खास दवाइयों को नष्ट करने का अलग तरीका भी होता है.

नियमों के मुताबिक कुछ एक ऐसी दवाइयां हैं जिन्हें फ्लश करने के निर्देश दवाइयों पर लिखे होते हैं.

ऐसा इसलिए क्योंकि वो बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा सकतीं हैं.

कोई और उन दवाईयों का एक भी डोस ले ले तो नुकसानदायक हो सकता है.

इसलिए इस तरह की कुछ दवाईयों पर निर्देश दिया होता है कि जरूरत ना होने या एक्सपायर होने पर इसे फ्लश कर दिया जाए.

नागपुर की लेडी डॉक्टर रेगिस्तान की मदर टेरेसा

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अब सवाल ये भी हो सकता है कि किन दवाइयों को फ्लश करना है और किन दवाइयों को घर के कचरे के साथ फेंके.

इसके लिए सबसे आसान सा तरीका है, DailyMed नाम की वेबसाइट.

फार्मासूटिकल एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के मुताबिक इस बेबसाइट पर आप दवाइयों का नाम डालकर उसे नष्ट करने के तरीके के बारे में जान सकते हैं.

फार्मासूटिकल एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल भारत के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत काम करता है.

दवाओं के कैप्सूल में जानवरों का फैट, अब और नहीं

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ज़रूरतमंदो को मुफ्त में दवाइयां

कुछ दवाइयां एक्सपायर होने के बाद खराब हो जाती है. लेकिन कुछ दवाइयां बीमारी ठीक होने के बाद बच जाती हैं. ये दवाइयां आपके ना सही लेकिन किसी और के काम ज़रूर आ सकती हैं.

'मेडिसिन बाबा' के नाम से मशहूर दिल्ली के ओमकार नाथ बीते 10 सालों से घर-घर जाकर लोगों से बची हुई दवाइयां इक्कठा करते हैं. फिर इन दवाइयों को ज़रूरतमंद लोगों को दे देते हैं.

वो दवाइयां उन्हीं लोगों को देते हैं जिनके पास डॉक्टर के पर्चे पर वो दवाइयां लिखी होती हैं.

जीएसटी से महंगी होंगी जीवन रक्षक दवाएं

इमेज कॉपीरइट Medicine baba

उनके साथ एक फार्मासिस्ट काम करता है जो प्रिस्क्रिपशन के हिसाब से लोगों को दवाइयां देता है.

कानून के मुतबाकि कोई व्यक्ति दवाइयां तो इक्कठा कर सकता है लेकिन उन्हें ऐसे ही बांट नहीं सकता. इसलिए मेडिसिन बाबा फार्मासिस्ट की मदद से दवाइयां ज़रूरतमंदो को देते हैं.

उन्हें ये काम करने की प्रेरणा 2008 में पूर्वी दिल्ली में हुए एक हादसे से मिली. दरअसल यहां बन रहे लक्ष्मी नगर मेट्रों स्टेशन का एक पिलर गिर गया था. जिसकी चपेट में आकर काम कर दो मज़दूरों की मौत हो गई और कई घायल हो गए थे.

घायल लोगों को स्थानीय अस्पताल प्रशासन ने फर्स्ट एड देकर घर भेज दिया. जिसके बाद सही इलाज और दवाइयों के अभाव में कई घायल लोगों की मौत हो गई.

इस घटना ने बल्ड बैंक टेक्निशियन ओमकार नाथ को अंदर तक हिला दिया और उन्होंने इस समस्या का हल निकालने का सोचा. इसके बाद उन्होंने दवाइयां इकठ्ठा कर उन लोगों को देना शुरू किया जो महंगी दवाइयां अफोर्ड नहीं कर सकते.

कहीं स्किन क्रीम आपको जला न दे...

इमेज कॉपीरइट Medicine baba

इसी तरह की कई और संस्थाएं है जो ज़रूरतमंद लोगों के लिए काम करती हैं. ऐसी एक संस्था ज़िम्मेदारी फाउंडेशन के लिए काम करने वाली आईआईएम ग्रेजुएट प्रिया शर्मा बताती हैं कि हम बची हुई दवाइयां उन ग्रामीण लोगों तक पहुंचाते हैं जिन तक महंगी और अच्छी दवाइयों की पहुंच नहीं है.

प्रिया शर्मा उत्तराखंड के उन ग्रामीण इलाकों के लोगों के लिए काम करती हैं, जो नेशनल रूरल हेल्थ मिशन के मुताबिक स्वास्थ के लिहाज़ से पिछड़े हुए हैं.

ये दवा बैक्टीरिया का कचूमर निकाल देगी!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे