राष्ट्रपति के प्रोग्राम से पहले 6 एएमयू स्टूडेंट्स को नोटिस

  • 7 मार्च 2018
राष्ट्रपति कोविंद इमेज कॉपीरइट Twitter @rashtrapatibhvn

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के कार्यक्रम का 'विरोध' कर रहे छात्रों पर पुलिस ने सख़्ती दिखाई है.

पुलिस को ये आशंका थी कि बुधवार को यूनिवर्सिटी के 65वें दीक्षांत समारोह में कुछ छात्र राष्ट्रपति कोविंद का विरोध कर सकते हैं.

एमएमयू में राष्ट्रपति के कार्यक्रम के मद्देनज़र पुख़्ता सुरक्षा इंतज़ाम किए गए हैं.

पुलिस की रिपोर्ट पर अलीगढ़ के एक कोर्ट ने छात्रों से ये भरोसा देने को कहा था कि वे राष्ट्रपति के कार्यक्रम में बाधा नहीं पहुंचाएंगे.

अपर नगर मजिस्ट्रेट (द्वितीय), अलीगढ़ की कोर्ट ने यूनिवर्सिटी के छह छात्रों को अदालत में हाजिर होकर पांच लाख रुपये की रकम की दो ज़मानतें और इसी रकम का हाजिरी मुचलका उत्तर प्रदेश सरकार के पक्ष में भरने के लिए कहा.

पांच मार्च की तारीख से जारी किए गए कोर्ट के हुक्मनामे के मुताबिक़ इन छात्रों को इस ज़मानत से एक साल के लिए शांति बनाए रखने की गारंटी ली जाएगी.

एएमयू छात्रों को नोटिस

नोटिस में पुलिस के हवाले से कहा गया है, "राष्ट्रपति के कार्यक्रम के मद्देनज़र पुलिस की पेट्रोलिंग के दौरान पता चला कि मोहम्मद जुनैद समेत छह छात्रों ने राष्ट्रपति के आने का विरोध कर आने की प्रबल संभावना है. इससे शांति व्यवस्था भंग हो सकती है."

अलीगढ़ प्रशासन ने जिन छात्रों को नोटिस जारी किया है, उनके नाम हैं, मोहम्मद जुनैद अहमद, मोहम्मद नदीम अंसारी, अदनान आमिर, जयेद शेरवानी, राव फराज वारिस और इमरान ख़ान.

नोटिस पाने वाले छात्र इमरान ख़ान ने बीबीसी से कहा, "हमने कोई क्राइम नहीं किया है, तो हमें नोटिस कैसे भेजा जा सकता है."

इमरान ख़ान का कहना है, "हमारा विरोध राष्ट्रपति से नहीं है बल्कि हम राष्ट्रपति के साथ आ रहे संघ की विचारधारा वाले लोगों के यूनिवर्सिटी में दाखिल होने से विरोध कर रहे थे."

उन्होंने कहा, "हम अपने वकील के जरिए इस नोटिस का जवाब देंगे.

नोटिस पाने वाले एक दूसरे छात्र अदनान आमिर ने बताया कि वे अलीगढ़ में मौजूद नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक औरट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए