लेनिन, पेरियार, श्यामा प्रसाद और अब अंबेडकरः कहां-कहां तोड़ी गईं मूर्ति

  • 7 मार्च 2018
भीम राव अंबेडकर की प्रतिमा इमेज कॉपीरइट SARFARAZ AHMED/BBC

पूर्वोत्तर राज्य त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव में वामदल (सीपीएम) की हार के बाद राजधानी अगरतला से महज़ 90 किलोमीटर दूर बेलोनिया के सेंटर ऑफ़ कॉलेज स्कॉयर में रूसी क्रांति के नायक और वामदल विचारधारा के प्रतीक व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति को 'भारत माता की जय' नारे लगाती भीड़ ने जेसीबी मशीन से गिरा दिया गया.

कौन थे लेनिन, जिनकी मूर्ति पर बवाल मचा है

इमेज कॉपीरइट SARFARAZ AHMED/BBC

इस घटना के बाद से देश के कई इलाकों से मूर्तियों के तोड़े जाने या उन्हें नुकसान पहुंचाए जाने की ख़बर सामने आ रही है.

ताज़ा मामला उत्तर प्रदेश के मेरठ का है जहां भीम राव अंबेडकर की प्रतिमा को नुकसान पहुंचाये जाने की ख़बर है. इंडिया टुडे की ख़बर के मुताबिक यह घटना रात के वक्त हुई हो सकती है.

क्या है मूर्तियां ढहाने के पीछे की सोच?

इमेज कॉपीरइट TWITTER
Image caption त्रिपुरा के बेलोनिया में गिराई गई लेनिन की मूर्ति

जबकि सीएनएन-न्यूज़ 18 के मुताबिक स्थानीय प्रशासन ने इलाके में किसी तनाव को फैलने से रोकने के लिए फौरन कार्रवाई शुरू कर दी. रिपोर्ट के मुताबिक प्रशासन ने तोड़ी गई मूर्ति की जगह नई लगा दी है.

श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मूर्ति पर पोती स्याही

इमेज कॉपीरइट SANJAY DAS/BBC
Image caption श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा पर कालिख पोता गया

त्रिपुरा में एक और मूर्ति तोड़ी गई

मूर्ति तोड़े जाने की पहली घटना त्रिपुरा में तब हुई जब लेफ़्ट को हराकर भाजपा की जीत को हासिल किए महज़ 48 घंटे ही बीते थे.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 2013 में जब लेफ़्ट ने चुनाव जीते थे, तब इस प्रतिमा को लगाया गया था.

इस घटना के बाद दक्षिण त्रिपुरा में लेनिन की एक और प्रतिमा गिराई गई. दूसरी घटना सबरूम में हुई. यहां भीड़ ने लेनिन की एक छोटी मूर्ति को गिरा दिया.

तमिलनाडु: पेरियार की मूर्ति पर चोट, दो गिरफ़्तार

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/DRAVIDARKAZHAGAM

पेरियार की मूर्ति को नुकसान

इसके बाद तमिलनाडु में पेरियार की मूर्ति को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की रिपोर्ट मिली.

पुलिस अधीक्षक पगलवन ने बीबीसी को बताया कि रात नौ बजे के करीब पुलिस को जानकारी मिली कि वेल्लूर के तिरुपत्तूर तालुका में दो लोग पेरियार की मूर्ति को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं. मूर्ति के चेहरे को हथोड़े की चोट से तोड़ दिया गया था.

पुलिस अधीक्षक के मुताबिक इन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया है. इनमें से एक का नाम मुरुगानंदम है. वो वेल्लूर में बीजेपी के शहर महासचिव हैं. दूसरे व्यक्ति का नाम फ्रांसिस है और वो कम्युनिस्ट पार्टी के कार्यकर्ता हैं.

ग्राउंड रिपोर्ट: 'लेनिन, स्टालिन सबको जाना होगा'

इमेज कॉपीरइट SANJAY DAS/BBC
Image caption श्यामा प्रसाद मुखर्जी की प्रतिमा

श्यामा प्रसाद की मूर्ति तोड़ने की कोशिश

इसके बाद बुधवार को पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में श्यामा प्रसाद मुखर्जी की एक मूर्ति के साथ छेड़छाड़ की गई है.

हिंदू विचारक माने जाने वाले श्यामा प्रसाद की ये मूर्ति केयोरताला में है जहां उनका अंतिम संस्कार किया गया था.

मूर्ति की भौं के एक हिस्से को हथौड़ो से तोड़ने की कोशिश की गई है जबकि पूरे चेहरे पर स्याही फेंकी गई है.

लेनिन की पाँच ख़ास प्रतिमाएँ

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अमित शाह

सत्तारूढ़ भाजपा नाराज़

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने देश में लगातार हो रही इस घटना की निंदा की है.

अमित शाह ने बुधवार को लगातार कई ट्वीट किए और लिखा, "मूर्तियों को नष्ट करने पर हालिया मुद्दा बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है हम एक पार्टी के रूप में किसी की प्रतिमा को गिराने का समर्थन नहीं करते हैं."

हमारा मुख्य उद्देश्य लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने का है. हम इस तथ्य से खुश हैं कि हमारी लोकनीति और काम ने हमें पूरे भारत में लोगों तक पहुंचा दिया. हम 20 से अधिक राज्यों में गठबंधन सरकार के रूप में सेवा कर रहे हैं.

उन्होंने लिखा, "मैंने तमिलनाडु और त्रिपुरा में पार्टी ईकाई से बात की है. यदि भाजपा से जुड़ा कोई भी शख़्स प्रतिमाओं को नष्ट करने में शामिल पाया गया तो उसके ख़िलाफ़ पार्टी कठोर क़दम उठाएगी."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए