तेलुगू देशम के दोनों मंत्रियों का मोदी सरकार से इस्तीफ़ा

  • 8 मार्च 2018
मोदी- नायडू इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मोदी से मुलाक़ात के बाद दोनों मंत्रियों ने दिया इस्तीफ़ा

मोदी सरकार से टीडीपी की नाराज़गी सामने आने के बाद गुरुवार को टीडीपी के कोटे के दो केंद्रीय मंत्रियों ने सरकार से इस्तीफ़ा दे दिया.

टीडीपी के दो केंद्रीय मंत्रियों अशोक गजपति राजू और वाई.एस. चौधरी ने दिल्ली में 7 लोक कल्याण मार्ग जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात के बाद उन्हें इस्तीफ़ा सौंपा.

गजपति राजू केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री और वाई.एस. चौधरी विज्ञान प्रोद्यौगिकी राज्य मंत्री थे.

राजू और वाई.एस. चौधरी इस्तीफ़ा देने के बाद मीडिया के सामने आए और प्रेस कॉन्फ़्रेंस की.

वहीं, इससे पहले दिन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीडीपी प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू से बात की थी लेकिन उस दौरान कोई सहमति नहीं बन पाई थी जिसके बाद शाम को दोनों मंत्रियों ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफ़ा दे दिया.

टीडीपी केंद्र सरकार से आंध्र के लिए विशेष दर्जा चाह रही थी लेकिन केंद्र ने यह देने से इनक़ार कर दिया था.

चंद्रबाबू, मोदी से दोस्ती क्यों तोड़ रहे हैं?

2014 वाला एनडीए 2019 में शायद नहीं होगा, फिर कैसा होगा?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption अशोक गजपति राजू केंद्रीय उड्डयन मंत्री थे

एनडीए में बनी रहेगी टीडीपी

प्रेस कॉन्फ़्रेंस में गजपति राजू ने कहा कि उन्हें पार्टी की तरफ़ से निर्देश थे इसलिए उन्होंने इस्तीफ़ा दिया है. उन्होंने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री के साथ काम किया है इसलिए सम्मान के तहत वह उन्हें इस्तीफ़ा सौंपने आए थे.

साथ ही राजू ने यह साफ़ किया कि टीडीपी एनडीए के साथ बनी रहेगी लेकिन उनकी आंध्र के लिए विशेष दर्जे की मांग जारी रहेगी.

वाई.एस. चौधरी ने कहा कि आंध्र की ओर से दिया गया समय समाप्त हो गया था जिसके बाद उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया. उन्होंने कहा कि उन्हें आशा है कि उनका इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया जाएगा लेकिन वह आंध्र के लोगों की सेवा करते रहेंगे.

केंद्र सरकार से अलगाव, बीजेपी से नहीं, क्या है नायडू की रणनीति?

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption चंद्रबाबू नायडू राज्य के विशेष दर्जे की मांग कर रहे हैं

चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री के साथ उनकी मुलाक़ात अच्छी रही और उन्होंने साथ काम करने को लेकर उनका शुक्रिया कहा. उन्होंने 15वीं लोकसभा को डेडलाइन बताया और कहा कि वह तब तक राज्य की बेहतरी के लिए सारी कोशिशें करते रहेंगे.

गजपति राजू ने कहा कि आर्थिक पैकेज नहीं दिया गया और उनकी पार्टी आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने का हल अभी भी तलाश रही है.

वाई.एस. चौधरी ने जगनमोहन रेड्डी को लेकर पूछे गए सवालों का जवाब नहीं दिया. उन्होंने कहा कि उनसे जुड़े सवाल उनसे ही पूछे जाएं. ऐसी अटकलें हैं कि जगनमोहन की पार्टी बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ सकती है.

विशेष राज्य के दर्जे को लेकर आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस प्रमुख जगनमोहन रेड्डी आंदोलन करते रहे हैं और वह इसको लेकर सत्तारुढ़ टीडीपी को निशाने पर भी लेते रहे हैं. इस मुद्दे को लेकर वह राज्य में यात्रा की योजना भी बना रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए