ढाई रुपए में सैनिटरी पैड, पर कितने कारगर?

  • 10 मार्च 2018
सैनिटरी पैड इमेज कॉपीरइट PIB

दो दिन से बिमला काम पर नहीं गई. तीसरे दिन जब काम पर लौटीं तो सुनीता ने छुट्टी लेने की वजह पूछी.

बिमला ने जवाब दिया, "दीदी, बहुत बीमार हूं. डॉक्टर ने कहा है महीने (मासिक धर्म) के समय कपड़ा इस्तेमाल करने से इंफेक्शन हो गया है."

रोती हुई आवाज़ में वो आगे बोली, "कोई शौक़ से तो कपड़ा नहीं लेता, दीदी. बहुत तकलीफ़ होती है. ख़ासकर गर्मियों के दिनों में. पांच दिन में खाल छिल जाती है, दाने निकल आते हैं लेकिन क्या करें. खाने को पैसे नहीं तो पैड कहां से लाएं."

एक सांस में बिमला ने अपनी हालत और मजबूरी दोनों बयां कर दी. बिमला दक्षिण दिल्ली में घरों में सफाई का काम करती है.

आख़िर ये लड़कियां बार-बार टॉयलेट क्यों जाती हैं?

ग़रीब लड़कियों के लिए मुफ़्त सैनिटरी पैड

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ये सिर्फ़ बिमला की कहानी नहीं है. ऐसी सभी औरतों की है जो दो समय की रोटी जुटाने के लिए घंटों मजदूरी करती हैं.

इन्हें कम खर्च में इस तकलीफ़ से निजात मिल सके, इसलिए केन्द्र सरकार 2.50 रुपए में सैनिटरी पैड मुहैया कराने जा रही है.

'सुविधा' क्या है?

महिला दिवस पर शुरू की गई इस योजना को 'सुविधा' नाम दिया गया है. केन्द्रीय रसायन एंव उर्वरक मंत्रालय ने भारतीय जन औषधि परियोजना के तहत इसकी शुरुआत की है.

सरकार के मुताबिक़ 'सुविधा' स्कीम में ऑक्सी-बायोडिग्रेडेबल यानी अपने आप गलकर ख़त्म हो जाने वाले सैनिटरी पैड बांटे जाएंगे.

ये किफ़ायती सैनिटरी पैड देश में मौजूद सभी 3200 जन-औषधि केंद्रों पर मिलेंगे. एक पैकेट में चार पैड हैं और पैकेट की क़ीमत है 10 रुपये.

'सुविधा' पैड की बिक्री इस साल 28 मई से शुरू होगी. जिस दिन अंतरराष्ट्रीय मासिक धर्म हाइजीन दिवस भी मनाया जाता है.

क्या आप 'पैड वूमन' माया को जानते हैं?

पीरियड्स में अचार पर क्या बोलीं सोनम कपूर?

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

ऑक्सी-बायोडिग्रेडेबल पैड क्यों?

'सुविधा' पैड बनाने वाली कंपनी के सीईओ विप्लव चटर्जी के मुताबिक़, "इसमे एक ख़ास तरह का पदार्थ मिलाया जाता है जिससे इस्तेमाल के बाद ऑक्सीजन के संपर्क में आकर पैड बायोडिग्रेडेबल हो जाते हैं यानी ख़ुद-ब-ख़ुद गलकर ख़त्म हो जाता है."

विप्लव चैटर्जी के मुताबिक, "अगर पैड्स बायोडिग्रेडेबल न हों तो 1 पैड को गलने में 500 साल लग जाते हैं. और उनके दाम भी दोगुने से ज्यादा होते हैं. लेकिन हमारे प्रॉडक्ट का दाम आधे से भी कम है और इसे गलने में 3-6 महीने का ही वक्त लगता है."

महिलाओं के इस्तेमाल पैड क्यों जमा किए जा रहे हैं?

'मुसलमान औरतों को भी पीरियड्स होते हैं'

इमेज कॉपीरइट MENSTRUPEDIA.COM

लेकिन मेंस्ट्रूपीडिया डॉट कॉम की संस्थापक अदिति गुप्ता कहती हैं कि वो इस बायोडिग्रेडेबल के कॉन्सेप्ट से ही इत्तेफाक नहीं रखतीं.

उनके मुताबिक़, "ये पूरी चर्चा अपने आप में अधूरी है. इसे सुन कर ऐसा लगता है कि पर्यावरण को बचाने की पूरी ज़िम्मेदारी महिलाओं के ऊपर है और वो भी मासिक धर्म के समय पर. "

अदिति के मुताबिक़ वो घर के दूसरे काम करते समय भी पर्यावरण का ख़ासा ख्याल रखती हैं. वो बताती हैं कि, "पैड इस्तेमाल करते समय मैं सिर्फ़ दो बातों के बारे में सोचती हूं - उसकी क्वालिटी और बहाव सोखने की शक्ति. पैड बायोडिग्रेडेबल हैं या नहीं, मुझे इससे ज़्यादा फ़र्क नहीं पड़ता."

पैड के साथ फ़ोटो क्यों शेयर करने लगे ये लोग...

सैनिटरी पैड के ऐड में अब दिखेगा 'असली ख़ून'

अदिति की चिंता है कि दाम कम रखने के लिए पैड की क्वालिटी से समझौता नहीं होना चाहिए.

'सुविधा' बनाने वाली कपंनी का दावा है कि उनके पैड अमरीकन सोसाइटी ऑफ टेस्टिंग एंड मैटेरियल के मानकों पर पूरे उतरते हैं.

अमरीका की ये टेस्टिंग एजेंसी ये बताती है कि कोई सामान सही में बायोडिग्रेडेबल है या नहीं.

कितने कारगर हैं सुविधा पैड?

लेकिन सुविधा पैड बहाव सोखने में कितने कारगर हैं इसका अभी टेस्ट नहीं हुआ है. और यहीं फंसा है सारा पेंच.

'रक्षा बजट का दो फीसदी सैनिटरी पैड पर लगाया जाए'

कितना सुरक्षित है सैनिटरी पैड का इस्तेमाल?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

आम तौर पर एक महिला अपने हर मासिक धर्म के दौरान 12 पैड का इस्तेमाल करती है.

बाज़ार में दूसरे ब्रांड के बायोडिग्रेडेबल पैड की कीमत 6 से 8 रुपए प्रति पैड है, जबकि एक 'सुविधा' पैड की कीमत ढाई रुपए है.

राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) की मानें तो 15 से 24 साल तक की उम्र की 58 फ़ीसदी महिलाएं स्थानीय स्तर पर तैयार नैपकिन या रूई के फोहे का इस्तेमाल करती हैं.

सैनिटरी पैड्स पर टैक्स और चीन का हौवा

पीरियड्स में क्या करती हैं बेघर औरतें?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए